कैलाश विजयवर्गीय का बयान भाजपा की हताशा का प्रतीक: शोभा

   


ऐसी बयानबाजियां घोटालों में "कमीशन" खाने वालों के द्वारा, पार्टी में अपनी "पोजीशन" बचाने का "मिशन"                                  भोपाल । मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय द्वारा यह कहा जाना कि "कर्नाटक में शपथ के बाद, मध्यप्रदेश में "मिशन" शुरू होगा", पूरी तरह से हास्यास्पद है। दरअसल अभी-अभी सदन में बुरी तरह से पराजित भाजपा के हताश नेताओं द्वारा की जा रही ऐसी बयानबाजियों को व्यापमं, डंपर, ई-टेंडरिंग, पेंशन घोटालों में "कमीशन" खाने वालों के द्वारा पार्टी में अपनी" पोजीशन" बचाने का "मिशन" ही कहा जा सकता है। हकीकत तो यह है कि भाजपा नेता स्वयं भी यह जानते हैं कि कमलनाथ सरकार पूरी मजबूती के साथ अपना कार्यकाल पूरा करेगी, और भाजपा की मुख्य चिंता अपने विधायकों को बचाए रखने की है। अपने बयान में ओझा ने कहा कि नंबर एक, नंबर दो और बॉस के इशारों पर, 24 घंटों में सरकार गिराने का दावा करने वालों की पोल सदन में दो बार खुल चुकी है और अभी हाल ही में "दंड विधि संशोधन विधेयक" पर हुए मत-विभाजन में पहले ही भाजपा अपने दो विधायक खो चुकी है, उसके बाद भी इस तरह की बयानबाजियां केवल अपने आप को और अपने कार्यकर्ताओं को झूठी दिलासा दिलाने और अपना मनोबल बनाए रखने की नाकाम कोशिश ही कहा जा सकता है। श्रीमती ओझा ने कहा की शिवराज सिंह और कैलाश विजयवर्गीय के बीच गुटबाजी के कारण कैलाश विजयवर्गीय को पहले ही पार्टी ने प्रदेश निकाला दे दिया है और उन्हें पार्टी द्वारा मुख्यमंत्री न बनाए जाने की टीस, उनके मन में अभी तक है, लेकिन उन्हें इस सच्चाई को स्वीकार कर लेना चाहिए कि अब भाजपा की नहीं, कमलनाथ जी की लोकप्रिय कांग्रेस सरकार है, जिसने अपनी मजबूती का उदाहरण कैलाश जी और उनकी पार्टी को, अभी कुछ दिन पहले ही सदन में हुए मत-विभाजन के दौरान दे दिया है। श्रीमती ओझा ने कहा कि भाजपा की आपसी गुटबाजी के चलते मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान, गोपाल भार्गव, नरोत्तम मिश्रा, प्रभात झा, कैलाश विजयवर्गीय के बीच चल रहा जो सत्ता संघर्ष है, ऐसे बयानों को केवल उसी दृष्टि से देखा जा सकता है, इससे अधिक इन बयानों का कोई महत्व नहीं है, भाजपा नेताओं के साथ ही प्रदेश की जनता भी अब इस अमिट सच्चाई को पूरी तरह से समझ चुकी है।


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन