Skip to main content

Posts

लोहड़ी के त्यौहार में ढोल-नगाड़ों की धुन पर जमकर झूमे रहवासी

Recent posts

अर्चना सिंह "अना" की कहानी "साथी"

साथी मौसम के करवट बदलने के साथ ही गुलाबी जाड़ा सुबह और सांझ पर  अपनी गिरफ्त कहने लगा था। बरामदे में बैठी मानवी अचानक एक सर्द हवा के झोंके से सिहर उठी, ठंड का अहसास होने पर उसने पास ही तिपाही पर रखी शॉल उठाकर लपेटनी चाही तभी उसकी गर्दन में कुछ चुभ गया। कहीं कोई कीड़ा तो नहीं, घबराहट में  मानवी ने एक झटके से शॉल उतार कर झाड़ी तो एक कलम टप्प से नीचे गिर कर मानवी को मुंह चिढ़ाने लगी। ओह तो ये तुम हो... मैं तो डर ही गई थी.. मन ही मन बुदबुदाती मानवी के अधरों पर मृदु स्मित की एक हल्की सी रेखा खिंच गई। लॉन में लगे अशोक की ऊंची शाखाएं सलेटी दुशाला में सिमटने लगीं थीं ... शाम को दिए गए पानी की बूंदें अभी तक  छोटे पौधों के फूल- पत्तों पर सुस्ता रहीं थीं, हल्की हवा से टहनियां हिलने पर यूं आभास हो रहा था मानो ट्यूब लाईट की दूधिया रौशनी उनके साथ मानों आँख मिचौली खेल रही हो । कस कर शाल लपेटती हुई मानवी उठ खड़ी हुई  कि उसकी नजर  नीचे गिरी कलम पर पड़ी... अरे! कहते हुए उसने झुक कर  कलम उठा ली।  ग्यारसी बाई! ....अंधेरा घिर आया है  .. चलो जल्दी घर जाओ... भीतर आते ही मानवी ने रसोई में काम करती ग्यारसी को च

रमाकांत आर्ट गैलरी में जयश्री सरकार की पेंटिंग का प्रदर्शन

- जयश्री सरकार के लीफ आर्ट बेजान पत्तों में भी डाल देते हैं रंग भोपाल। कहते हैं कि किसी भी कलाकार को कला के लिए कल्पनाशील होना अनिवार्य शर्त है। पर सिर्फ कल्पनाशील होने मात्र से आप कलाकार नहीं हो जाते। अपनी कल्पना को साकार करने के लिए आपके पास जज्बा और लगन का होना भी बेहद जरूरी होता है। अगर आपमें ये गुण हैं तो यकीन मानें कि आपके सपनों में आसमान भी अपने रंग भर देगा। जी हां, राजधानी भोपाल की अलकापुरी निवासी जयश्री सरकार एक ऐसी ही कलाकार हैं जिनके लीफ आर्ट में लगता है मानो कुदरत ने अपने रंग भर दिया है। लीफ आर्ट यानी पत्तियों पर कलाकारी। परंपरागत रूप से हम यही जानते हैं कि पत्तियों से पर्णहरित हटाकर उसके रेशों पर पेंटिंग करने की कला लीफ आर्ट कहलाती है। लेकिन राजधानी की जयश्री टूटे पत्तों पर पेंटिग कर तस्वीरें बनाती हैं। जयश्री सरकार  ऐक्रेलिक, तेल, स्प्रे और लीफ पेंटिंग में विभिन्न विधाओं में पारंगत हैं। मां को विभिन्न वस्त्रों में  कढ़ाई करते देख उन्हें यह आइडिया आया।  टूटे पत्तों पर पेंटिंग कर जयश्री ने विभिन्न देवी देवताओं के चित्रों को बना देती हैं, जिन्हें उपहार के रूप में भी दिया जा स

भगवान पार्श्वनाथ का होगा महा मस्तकाभिषेक

-दिगंबर जैन मंदिर पारस धाम भानपुर में होगा भव्य आयोजन -मुनिश्री 108 विमल सागर जी महाराज ससंघ का होगा मंगल सानिध्य भोपाल। श्री 1008 पंच बालयति दिगंबर जैन मंदिर पारस धाम भानपुर में श्री 1008 भगवान पार्श्वनाथ के महा मस्तकाभिषेक का आयोजन किया जा रहा है। प्रखर तपस्वी, चिंतक, कठोर साधक, मूक माटी सहित अनेक ग्रंथों के रचयिता, राष्ट्रसंत आचार्य 108 विद्यासागर  महाराज के परम आज्ञानुवर्ती शिष्य आचार्य 108 मुनि विमल सागर महाराज, मुनि 108 अनंत सागर महाराज, मुनि 108 धर्म सागर महाराज तथा मुनि 108 भाव सागर महाराज के मंगल पुण्यवर्धन सानिध्य में प्रातः 7 बजे नित्य नियम पूजन विधान के साथ ही शांति धारा, भा-मंडल स्थापना के साथ ही मूलनायक श्री 1008 चिंतामणि पार्श्वनाथ भगवान की विशाल अतिशयकारी मनमोहक  प्रतिमा का सुमधुर संगीतमय महा मस्तकाभिषेक विधानाचार्य बाल ब्रह्मचारी अविनाश भैया द्वारा संपन्न होगा। हेमलता जैन रचना ने बताया कि इस अवसर पर मुनि  विमल सागर महाराज के मंगल प्रवचनों का लाभ भी समाज जनों को प्राप्त होगा। पारस धाम भानपुर एवं सकल दिगंबर जैन समाज द्वारा आयोजित महामस्तकाभिषेक का लाईव प्रसारण धार्मिक च

शिक्षा के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में दर्ज होगा आज का दिन : अमित शाह

अंग्रेजी की गुलामी से मुक्ति मिल रही है, हिंदी में पढ़ने वाले गरीब छात्रों को भी अवसर मिलेंगे : शिवराज सिंह केंद्रीय गृहमंत्री ने राजधानी भोपाल में लोकार्पित की हिन्दी भाषा में चिकित्सा शिक्षा की पुस्तकें भोपाल। देश में अंग्रेजी भाषा के पैरोकारों ने भाषा को बौद्धिक क्षमता के साथ जोड़ दिया था। वो ये बताना चाहते थे कि जिसे अंग्रेजी आती है, वही बुद्धिमान है। लेकिन ऐसा कुछ नहीं है। भाषा सिर्फ बौद्धिक क्षमता को निखारती है। मैं देश के युवाओं से यह आह्वान करना चाहता हूं कि अब उन्हें भाषा के कारण हीनभावना के शिकार होने की जरूरत नहीं है। देश में अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार है, जो भारतीय भाषाओं के गौरव की पुनर्स्थापना के लिए संकल्पित हैं। अब आप अपनी मातृभाषा में ही अपनी क्षमता का प्रदर्शन कर सकते हैं। यह बात केंद्रीय गृहमंत्री  अमित शाह ने राजधानी भोपाल में रविवार को हिंदी भाषा में मेडिकल की पुस्तकों को लोकार्पित करते हुए कही। कार्यक्रम को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने भी संबोधित किया।  इस अवसर पर गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि आज का दिन शिक्षा

प्रदेश कांग्रेस ने प्रदेश प्रवक्ताओं को सौंपे जिलों में प्रभार

कमलनाथ के निर्देश पर मीडिया अध्यक्ष केके. मिश्रा ने जारी की सूची   भोपाल। प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और पूर्व कमलनाथ जी के निर्देश पर मीडिया के माध्यम से पार्टी को और अधिक गति बनाने के लिए प्रदेश कांग्रेस के प्रदेश के प्रवक्ताओं को जिम्मेदारी सौंपने का जिम्मा सौंपा गया है।  प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष के.के. मिश्रा ने बताया कि ये चार्ज चार्ज में मीडिया से समन्वय स्थापित कर कांग्रेस पार्टी की रीति-नीति उसके प्रचार-प्रसार के लिए जिला कांग्रेस अध्यक्षों और पार्टी द्वारा नियुक्त जिला कांग्रेस अध्यक्षों सेदात्म स्थापित कर पार्टी की प्राधिकरण के लिए सहयोग करेंगे। वहीं प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा आयोजित होने वाले धरना, प्रदर्शन, आंदोलन एवं विभिन्न गतिविधियों का आंदोलन-प्रसार मीडिया के माध्यम से करेंगे। श्री मिश्रा ने कहा कि शेयरिंग मीडिया मामले में स्थानीय मुद्दों पर फोकस कर लोकल मीडिया, ट्वीट, फेसबुक पर एक्टिविटी से उठाएंगे। वहीं स्थानीय घटित होने वाली घटनाओं पर पैनी दावेदारी करते हुए जनहित में भाजपा के खिलाफ मीडिया में अपनी बात उजागर करते हैं। अभिषेक बिलगैंया-सागर, रवि वर्मा-सि

इस शुक्रवार सूरज को देखिये पूर्व से उगते हुये, दिन-रात बराबर होने का तथ्य नहीं है सत्य : सारिका

साल में दो ही बार निकलता है सूरज ठीक पूर्व से खगोलीय शरद ऋतु की शुरूआत शुक्रवार से  दिन रात इक्वल की घटना नहीं है इक्वीनॉक्स भोपाल। इस शुक्रवार 23 सितम्बर को आकाश में सूरज पृथ्वी की भूमध्यरेखा के ठीक उपर दिखाई देगा। नेशनल अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने इस खगोलीय घटना की जानकारी देते हुये बताया कि जब सूरज भूमध्यरेखा के ठीक उपर दिखता है इसे इक्वीनॉक्स कहते हैं। साल में दो बार ऐसा होता है। पहला 20 या 21 मार्च को और दूसरा 21 से 24 सितम्बर के बीच। आज सूरज ठीक पूर्व दिशा में उदित होगा और ठीक पश्चिम दिशा में अस्त होगा। सारिका ने बताया कि आमलोग या सोशल मीडिया पर इसे दिन रात बराबर होने की घटना के रूप में बताया जाता है जो कि सत्य नहीं है आज मध्यभारत में दिन की अवधि 12 घंटे 6 मिनिट होगी । अर्थात दिन और रात बराबर नहीं होगे। मध्यभारत में दिन और रात आगामी 28 सितम्बर को बराबर होंगे। सारिका ने बताया कि सितम्बर इक्वीनॉक्स इस साल 23 सितम्बर को हो रहा है। यह आमतौर पर 22 या 23 सितम्बर को होता है। 21 सितम्बर को यह कई सदियों से नहीं हुआ है। आगामी 2092 और 2096 को यह 21 सितम्बर को होगा। 24 सितम