Posts

Showing posts from March, 2020

मन की बात: कोरोना से जीवन-मृत्यु की लड़ाई: मोदी

Image
सोशल डिस्टेंसिंग बढ़ाएं, इमोशनल डिस्टेंसिंग घटाएं  नई दिल्ली। लॉकडाउन के बीच रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात में देश से मुखातिब हुए। कार्यक्रम का यह 63वां संस्करण था। प्रधानमंत्री ने कहा-आमतौर पर मन की बात में कई विषयों को लेकर आता हूं। आज दुनियाभर में कोरोना संकट की चर्चा है। ऐसे में दूसरी बातें करना उचित नहीं होगा। कुछ ऐसे फैसले लेने पड़े हैं, जिनसे गरीबों को परेशानी हुई। सभी लोगों से क्षमा मांगता हूं। मैं आप सबकी परेशानी को समझता हूं, लेकिन कोरोना के खिलाफ लड़ाई में इसके सिवाय कोई चारा नहीं था। किसी का ऐसा करने का मन नहीं करता, लेकिन मुझे आपके परिवार को सुरक्षित रखना है। इसलिए दोबारा क्षमा मांगता हूं। 24 मार्च को मोदी ने देश के नाम संबोधन में 21 दिन (14 अप्रैल) तक पूरे देश में लॉकडाउन का ऐलान किया था। 22 मार्च को मोदी की अपील पर देशभर में जनता कर्फ्यू था, लेकिन शाम को कई स्थानों पर लोग सड़कों पर देखे गए थे। देशभर में कोरोनावायरस के एक हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। मोदी के मन की अहम बातें धैर्य दिखाएं, लॉकडाउन का पालन करें प्रधानमंत्री न

खुशखबरी: कोरोना के मरीजों की हालात में सुधार

Image
-प्रदेश में बढ़ते संक्रमण के बीच राहत की खबर, अब तक 39 पॉजिटिव -इंदौर में 24, भोपाल में 3, जबलपुर में 8, ग्वालियर-शिवपुरी में 2-2 मरीज संक्रमित -कई जिलों में सब्जी और फल मंडियों में तब्दील हुए स्टेडियम -सोशल डिस्टेंसिंग के लिए गोलों की मार्किंग की गई भोपाल। कोरोना संक्रमण की चेन तोडऩे के लिए 21 दिन के लॉकडाउन का रविवार को पांचवां दिन है। प्रदेश में बढ़ते संक्रमण के बीच राहत की खबर भी आई। प्रदेश के कई अस्पतालों में भर्ती 39 में से 10 मरीजों की हालात में सुधार हुआ है। इनमें 6 मरीज जबलपुर और 1 मरीज ग्वालियर का है। इन मरीजों को कोरोनावायरस की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इन सातों मरीजों के स्वास्थ्य में सुधार होने की जानकारी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने वीडियो जारी करके भी दी। डॉक्टर्स ने कहा-3 दिन पहले इन मरीजों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे। सभी की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आई है। 4 दिन बाद एक बार फिर से सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे जाएंगे। तीसरे सैंपल की रिपोर्ट के आधार पर ही फैसला लेंगे। सोशल डिस्टेंसिंग के लिए खंडवा में स्टेडियम को सब्जी और फल मंडियों में ब

संकट की घड़ी में, मैं और लाखों कांग्रेस कार्यकर्ता देश के साथ

Image
राहुल ने मोदी को लिखा पत्र, शहर छोड़कर गांव जा रहे लोगों को रोकिए नई दिल्ली। कोरोनावायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए प्रधानमंत्री ने देश में 21 दिन का लॉकडाउन किया है। रविवार को लॉकडाउन का 5वां दिन है। दिल्ली समेत दूसरे शहरों से बड़ी संख्या में लोग लॉकडाउन का उल्लंघन कर अपने घर वापस जा रहे हैं। इसे देखते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। उन्होंने लिखा, डियर प्रधानमंत्री, मानवीय संकट की घड़ी में, मैं और लाखों कांग्रेस कार्यकर्ता आपके साथ खड़े हैं। कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए प्रत्येक कदम के साथ हम सहयोग कर रहे हैं। दुनिया कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए तेजी से सख्त कदम उठा रही है। जबकि हमारे यहां तीन हफ्तों का लॉकडाउन किया गया है। मैं आपसे प्रार्थना करता हूं कि पूरे देश में ठीक से लॉकडाउन कीजिए और लोगों को, समाज और देश की अर्थव्यवस्था को बचाने पर विचार कीजिए। हमारे लिए यह समझ पाना मुश्किल है कि भारत की स्थिति अलग है। इसलिए हमें अलग कदम उठाने और रणनीति बनाने की जरूरत हैं। देश में करोड़ों की संख्या मे

14 दिन तक अपने घर जाने से बचें पुलिसकर्मी: जौहरी

Image
कोरोना वायरस की चपेट में आने से बचाने के लिए डीजीपी की सलाह भोपाल। पुलिसकर्मियों को कोरोना वायरस की चपेट में आने से बचाने के लिए डीजीपी विवेक जोहरी ने दिन-रात ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मियों को 14 दिन तक अपने-अलने घर से दूरी बनाए रखने की सलाह दी है। डीजीपी ने कहा है कि जिन पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों की ड्यूटी कोरोना प्रभावित क्षेत्र में लगी है वे अधिकारी व कर्मचारी 14 दिनों तक अपने घर जाने से बचें। उन्होंने सभी पुलिस अधीक्षक से कहा कि उनकी रहने की, पीने और स्वास्थ्य संबंधित व्यवस्था बेहतर की जाए। डीजीपी ने पुलिसकर्मियों से कहा है कि ये आदेश नहीं है बल्कि आपकी और आपके परिवार की सुरक्षा की दृष्टि से एक सलाह है।  डीजीपी विवेक जौहरी ने कोरोना वायरस के संबंध में प्रदेश के सभी पुलिस अधीक्षकों को दिशा-निर्देश जारी कर लागू करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा है कि वे खुद सुरक्षित रहें और दूसरों को भी कोरोना से बचाएं। डीजीपी ने प्रदेश के पुलिस अधीक्षक को लिखे पत्र में कहा है कि 55 साल से अधिक उम्र के पुलिसकर्मियों की ड्यूटी ऐसी जगहों पर लगाने कहा है जहां वे सीधे आम लोगों के संपर्क में नहीं आए।

शासकीय सेवकों के महंगाई भत्ते में 5 प्रतिशत की वृद्धि

Image
भोपाल। मुख्यमंत्री कमल नाथ की अध्यक्षता में मंत्रालय में हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में शासकीय सेवकों को देय महंगाई भत्ते में 5 प्रतिशत वृद्धि का निर्णय लिया गया। बैठक में शासकीय सेवकों/पेंशनरों/शिक्षक संवर्ग/ पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के पंचायत सचिवों तथा स्थायी कर्मियों को देय महंगाई भत्ता/महंगाई राहत की दर में एक जुलाई 2019 ( भुगतान माह जुलाई 2019 का वेतन/पेंशन माह अगस्त 2019 में देय) से सातवें वेतनमान में 5 प्रतिशत की वृद्धि अर्थात 12 प्रतिशत को बढ़ाकर 17 प्रतिशत तथा छठवें वेतनमान में 10 प्रतिशत की वृद्धि अर्थात 154 प्रतिशत को बढ़ाकर 164 प्रतिशत करने का मंत्रि-परिषद ने अनुमोदन किया। महंगाई भत्ता/महंगाई राहत की बढ़ी हुई राशि का भुगतान मार्च 2020 के वेतन/पेंशन (माह अप्रैल 2020 में देय) से किया जाएगा । एक जुलाई 2019 से 29 फरवरी 2020 की अवधि के एरियर की राशि के भुगतान के लिए पृथक से आदेश जारी किए जायेंगे।  लोक सेवा आयोग में 2 सदस्य नियुक्त मंत्रि-परिषद ने रामू टेकाम तथा राशिद सुहैल सिद्दीकी को मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग का सदस्य नियुक्त करने का अनुमोदन किया। बैठक में मध्यप्रदेश रेत (खन

समाज में सतरंगी समरसता का संदेश देती है होली

Image
- डॉ. सुनील जैन संचय हमारा देश भारत त्यौहारों का देश है। यहां हर दिन एक त्यौहार है। होली भारत का एक प्रसिद्ध त्योहार है, जो आज विश्वभर में जाना जाने लगा है। यह एक ऐसा रंगबिरंगा त्योहार है, जिसे  हर धर्म के लोग पूरे उत्साह और मस्ती के साथ मनाते हैं। प्यार भरे रंगों से सजा यह पर्व हर धर्म, संप्रदाय, जाति के बंधन खोलकर भाई-चारे का संदेश देता है। इस दिन सारे लोग अपने पुराने गिले-शिकवे भूल कर गले लगते हैं और एक दूजे को गुलाल लगाते हैं। बच्चे और युवा रंगों से खेलते हैं। होली के साथ अनेक कथाएं जुड़ीं हैं। होली मनाने के एक रात पहले होली को जलाया जाता है। इसके पीछे एक लोकप्रिय पौराणिक कथा है। हिरण्यकश्यप और प्रह्लाद की कथा के माध्यम से हमें  बोध दिया जाता रहा है। मनुष्य जीवन में ही यह सम्भावना है कि हम अपने भीतर रही बुराइयों, कमियों, दोषों को देखें, समझे और उनकी व्यर्थता समझ कर उनसे मुक्त हों। अवलोकन की अग्नि में हम जैसे -जैसे प्रवेश करते हैं वैसे- वैसे हमारे भीतर के दोष उघड़ते हैं, उड़ते हैं, और अच्छाई प्रकटती है। यह बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। होली का उत्सव अपने साथ सकारात्मक ऊर्जा

वन्य प्राणियों की सुरक्षा हेतु उठाने होंगे ठोस कदम

Image
पुष्पेंद्र जैन संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वन्यजीवों के संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने एवं लुप्तप्राय प्रजातियों के प्रति जागरूकता बढ़ाने हेतु 20 दिसंबर 2013 को 68 वें अधिवेशन में प्रति वर्ष 3 मार्च को विश्व वन्यजीव दिवस मनाने की घोषणा की है। जिससे वन्यजीवों की रक्षा करने के लिए लोग आगे आयें। मानव जाति को यदि अपना अस्तित्व बनाए रखना है तो पर्यावरण को सुरक्षित रखना होगा। पर्यटन को बढ़ावा देना है, वन्यजीवों से संबंधित उद्योग एवं व्यापार को विकसित करना है, रोजगार के अवसर बढ़ाने हैं एवं वनों को बचाए रखना है तो वन्य जीवों का संरक्षण करना होगा। वन्यजीवों को सुरक्षित रखना मानव जाति का ही कर्तव्य है और कर्तव्य निर्वहन हेतु मानव जाति को अपने चंद व्यक्तिगत स्वार्थों का परित्याग करना होगा। मनुष्य के लिए वन प्रकृति का ऐसा वरदान है जिस पर उसका अस्तित्व, उन्नति एवं समृद्धि निर्भर है। वनों में जिंदगी बसर करने वाले वन्यजीवों से मानव जाति का युगों से विशिष्ट संबंध रहा है। विकास की प्रारंभिक अवस्था में मानव जाति एक वन्यजीव ही थी। विकास के बढ़ते कदमों एवं बुद्धि विकास तथा विकसित मस्तिष्क के परिणाम

लेडी सिंघम के सामने घुटने टेकते हैं खनिज माफिया

Image
-खनिज अधिकारी फरहत जहां से खौफ खाते हैं रेत करोबारी भोपाल। मध्यप्रदेश में अवैध रेत उत्खनन एक बड़ा मुद्दा बनता जा रहा है। शहडोल में कांग्रेस नेता की हेकड़ी निकालने वाली खनिज अधिकारी फरहत जहां से वहां के खनन माफिया खौफ खाते हैं। इतना ही नहीं फरहत जहां  का जिले में इतना खौफ है कि माफिया उनकी घर की जासूसी करवाते हैं कि आखिर वह किसी दिशा में निकलने वाली हैं। यहीं नहीं लेडी सिंघम के मन में डर पैदा करने के लिए माफिया उन पर हमला भी करवाते हैं। शहडोल में पोस्टिंग के बाद से ही खनिज अधिकारी फरहत जहां रेत माफियाओं के खिलाफ एक्शन मोड में हैं। अवैध खनन करने वाले लोगों में फरहत जहां का खौफ इतना है कि माफिया एक समय में इनकी घर की जासूसी करवाते थे। पूर्व में माफिया इनके घर के सामने अपने लोगों को खड़ा रखते थे। ताकि लेडी अफसर की मूवमेंट के बारे में जानकारी मिल सके। जासूस के द्वारा प्राप्त सूचना के आधार पर माफिया अलर्ट हो जाते थे। माफियाओं की करस्तानी नहीं रोक सकी मजबूत ईरादे खनिज अधिकारी से डर इतना था कि माफियाओं ने कार्यालय के सामने पहुंचकर खनिज निरीक्षक के वाहन में तोडफ़ोड़ किया था। अक्टूबर 2018 में