Skip to main content

वन्य प्राणियों की सुरक्षा हेतु उठाने होंगे ठोस कदम


पुष्पेंद्र जैन
संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वन्यजीवों के संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने एवं लुप्तप्राय प्रजातियों के प्रति जागरूकता बढ़ाने हेतु 20 दिसंबर 2013 को 68 वें अधिवेशन में प्रति वर्ष 3 मार्च को विश्व वन्यजीव दिवस मनाने की घोषणा की है। जिससे वन्यजीवों की रक्षा करने के लिए लोग आगे आयें। मानव जाति को यदि अपना अस्तित्व बनाए रखना है तो पर्यावरण को सुरक्षित रखना होगा। पर्यटन को बढ़ावा देना है, वन्यजीवों से संबंधित उद्योग एवं व्यापार को विकसित करना है, रोजगार के अवसर बढ़ाने हैं एवं वनों को बचाए रखना है तो वन्य जीवों का संरक्षण करना होगा। वन्यजीवों को सुरक्षित रखना मानव जाति का ही कर्तव्य है और कर्तव्य निर्वहन हेतु मानव जाति को अपने चंद व्यक्तिगत स्वार्थों का परित्याग करना होगा। मनुष्य के लिए वन प्रकृति का ऐसा वरदान है जिस पर उसका अस्तित्व, उन्नति एवं समृद्धि निर्भर है। वनों में जिंदगी बसर करने वाले वन्यजीवों से मानव जाति का युगों से विशिष्ट संबंध रहा है। विकास की प्रारंभिक अवस्था में मानव जाति एक वन्यजीव ही थी। विकास के बढ़ते कदमों एवं बुद्धि विकास तथा विकसित मस्तिष्क के परिणाम स्वरूप मनुष्य धीरे-धीरे वन्य जीवन से अलग होकर सामाजिक बन गया और अपने उद्धव की कहानी को विस्मृत कर प्रकृति का स्वामी बन गया है। प्राकृतिक वन और उसमें विचरण करने वाले वन्य  प्राणी आज भी मनुष्य की सहायता के बिना जीवित रहने की बात को सोचते हैं। जबकि मानव समाज इनके अभाव में अपना अस्तित्व बहुत दिनों तक कायम नहीं रख सकता है। प्राणी मात्र के अंतर संबंधों, पारस्परिक आत्मनिर्भरता और जैविक जगत के बारे में जितना ज्ञान भारतीय दर्शन में विद्यमान रहा, जितना प्रकृति, पानी, हवा, पेड़ -पौधे, वनस्पति जीवों की पूजा आराधना एवं संरक्षण की ओर ध्यान दिया गया है उतना संसार की अन्य किसी भी सभ्यता में नहीं है। प्राकृतिक संसाधनों एवं वन्य प्राणियों के संरक्षण के बारे में जितनी सोच-समझ प्राचीन भारतीय समाज को रही है उसकी शतांश भी पश्चात ज्ञान में नहीं है। लेकिन कैसी विडंबना है कि आज प्रकृति और वन्य जीव संरक्षण की बात विदेशी लोग हमें बतला रहे है जबकि प्रकृति संरक्षण तो हमारी भारतीय जीवन पद्धति का मूल अंग है। भारत देश के अतीत में यदि हम जाएं तो पाएंगे कि कवियों की कविताओं एवं लेखकों की रचनाओं में भारतवासियों के प्रकृति प्रेम एवं प्रकृति वर्णन से रोम-रोम पुलकित हो उठता है और मन उनके प्रति अपार श्रद्धापूरित होकर धन्य-धन्य उठता है। रह-रहकर विचार आता है कि कैसा था तब यह सुरभित देश। ऋ षि कन्याओं द्वारा प्रिय वृक्षों का लालन-पालन, गांव-गांव में बाग-बगियां, वन-उपवन आदि न केवल गौरव की बात थी बल्कि उनकी दिनचर्या और तत्कालीन जीवन शैली का अभिन्न अंग था।हमारे पुरखों से विरासत में मिला यह प्रकृति प्रेम वृक्षों के रूप में झलकता जीवन सौंदर्य और सुंदर वृक्षों की प्रति लगाव आज कितना रह गया है। आज प्रत्येक व्यक्ति के आत्म मंथन का विषय है। आज प्राकृतिक वन क्षेत्र घटती जा रही हैं वृक्षों की अनेक प्रजातियां नष्ट हो गई हैं। प्रकृति एवं वन्य जीव संरक्षण आज एक चुनौती बन गयी है। क्या यह सुंदर रंग-बिरंगे पक्षी और मनोहारी वन प्रदेश आज बदलते परिवेश में सुरक्षित रह पाएंगे। क्या पक्षियों की कुछ सुंदर प्रजातियां जिन्हें चंद्र वर्षो पहले हमारे पूर्वजों ने देखा था और अब लुप्त हो गए, फिर हम देख पाएंगे। विकास के दबाव ने प्राकृतिक उत्पादों का विवेकहीन दोहन-शोषण करके आज हमें पर्यावरणीय संकट की ऐसे कगार पर ला खड़ा किया कि अब प्राणी मात्र का अस्तित्व भी संकट में है ऐसी स्थिति में हमारी अमूल्य धरोहर वन्य प्राणियों का क्या महत्व रह जाएगा। शुद्ध प्राणवायु का भाव दूषित जल और उसको और कृतिम रसायनों से मृदा की मौलिकता ह्रास,सिमटते प्राकृतिक वन,वायुमंडल में गैसीय प्रदूषण से बढ़ता तापक्रम खाद्यान्नों में जैविक जनित पोषकता का ह्रास और वर्षा का भाव आदि पर्यावरणीय अवयवों की मौलिक स्वरूप पर भी आज आघात हो रहा है।वनस्पति और वन्य जीवन के संरक्षण पर स्वत: ही एक प्रश्न चिन्ह लग जाता है। विगत तीन-चार दशकों से अभ्यारणों और राष्ट्रीय उद्यानों की स्थापना के बाद इर्द-गिर्द निवास करने वाले किसानों, ग्रामीण और पशुपालकों तथा वन कर्मचारियों अधिकारियों के बीच टकराहट बढ़ी है।यह संघर्ष वस्तुत: दृष्टिकोण का है क्योंकि पीढ़ी दर पीढ़ी इन जंगलों का उपयोग करते आए हैं।आज वर्तमान समय में वन्य जीवों की रक्षा के लिए आगे आना होगा तभी वन्यजीवों का संरक्षण होगा।



पुष्पेंद्र जैन-ललितपुर (उप्र)
(लेखक शिक्षक एवं और विचारक हैं)


Comments

Popular posts from this blog

बुजुर्गों की सेवा कर सविता ने मनाया अपना जन्मदिन

भोपाल। प्रदेश की जानीमानी समाजसेवी सविता मालवीय का जन्मदिन अर्पिता सामाजिक संस्था द्वारा संचालित राजधानी के कोलार स्थिति सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पर वहां रहने वाले वृद्धजनों की सेवा सत्कार कर मनाया गया। यहां रहने वाले सभी बुजुर्गों की खुशी इस अवसर पर देखते बन रही थी। सविता मालवीय के सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पहुंचे उनके परिजनों और  सखियों ने सभी बुजुर्गों को खाना सेवाभाव से खिलाया और अंत में केक खिलाकर जन्मदिन के आयोजन को आनंदमय कर दिया। इस जन्मदिन कार्यक्रम को संपन्न कराने में सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया का महत्वपूर्ण सहयोग रहा। इस जन्मदिन अवसर को महत्वपूर्ण बनाने के लिए सविता मालवीय के परिजन विवेक शर्मा, सुनीता, सीमा और उनके जेठ ओमप्रकाश मालवीय सहित सखियां रोहिणी शर्मा, स्मिता परतें, अर्चना दफाड़े, हेमलता कोठारी, मीता बनर्जी आदि की उपस्थिति प्रभावी रही। सभी ने सविता को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की तो वहां रहने वाले बुजुर्गों ने ढेर सारा आशीर्वाद दिया। सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया ने जन्मदिन आश्रम आकर मनाने के लिए सविता माल

पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन द्वारा कॉपी किताब का वितरण

झुग्गी बस्ती के बच्चों को सिखाया सफाई का महत्व, औषधीय पौधों का वितरण किया गया भोपाल। पद्मावती संभाग की पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन महिला मंडल द्वारा प्राइम वे स्कूल सेठी नगर के पास स्थित झुग्गी बस्ती के गरीब बच्चों को वर्ष 2022 -23  हेतु कॉपियों तथा पुस्तकों का विमोचन एवं  वितरण किया गया। हेमलता जैन रचना ने बताया कि उक्त अवसर पर संभाग अध्यक्ष श्रीमती कुमुदनी जी बरया  मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। आपने पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा द्वारा की जाने वाली सेवा गतिवधियों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। मुख्य अतिथि का हल्दी, कुमकुम और पुष्पगुच्छ से स्वागत के पश्चात् अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में शाखा अध्यक्ष कल्पना जैन ने कहा कि उनकी शाखा द्वारा समय-समय पर समाज हित हेतु, हर तबके के लिए सेवा कार्य किये जाते रहे हैं जिसमें झुग्गी बस्ती के बच्चों को साफ़-सफाई का महत्व समझाना, गरीब बच्चों को कॉपी किताब का वितरण करना, आर्थिक रूप से असक्षम बच्चों की फीस जमा करना, वृक्षारोपण अभियान के तहत औषधीय तथा फलदार पौधों का वितरण आदि किया जाता रहा है। इस अवसर पर अध्यक्ष कल्पना जैन, चेयर पर्सन सुषमा जैन, उपाध्यक्ष

गो ग्रीन थीम में किया गर्मी का सिलिब्रेशन

एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने जमकर की धमाल-मस्ती भोपाल। राजधानी की एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने गो ग्रीन थीम में गर्मी के आगाज को सिलिब्रेट किया। ग्रुप की कहकशा सक्सेना ने बताया कि सभी जानते हैं कि अब गर्मी के मौसम का आगमन हो चुका है इसलिए पार्टी की होस्ट पिंकी माथे ने हरियाली को मद्देनजर रख कर ग्रीन थीम रखी। जबकि साड़ी की ग्रीन शेड्स को कहकशा सक्सेना ने इन्वाइट किया। इस पार्टी में सभी एंजेल्स स्नेहलता, कहकशा सक्सेना, आराधना, गीता गोगड़े, इंदू मिश्रा, पिंकी माथे, शीतल और वैशाली तेलकर ने अपना पूरा सहयोग दिया। सभी ने मिलकर गर्मी का स्वागत लाइट फ़ूड, बटर मिल्क, लस्सी और फ्रूट्स से पार्टी को जानदार बना दिया।