संकट की घड़ी में, मैं और लाखों कांग्रेस कार्यकर्ता देश के साथ


राहुल ने मोदी को लिखा पत्र, शहर छोड़कर गांव जा रहे लोगों को रोकिए


नई दिल्ली। कोरोनावायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए प्रधानमंत्री ने देश में 21 दिन का लॉकडाउन किया है। रविवार को लॉकडाउन का 5वां दिन है। दिल्ली समेत दूसरे शहरों से बड़ी संख्या में लोग लॉकडाउन का उल्लंघन कर अपने घर वापस जा रहे हैं। इसे देखते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। उन्होंने लिखा, डियर प्रधानमंत्री, मानवीय संकट की घड़ी में, मैं और लाखों कांग्रेस कार्यकर्ता आपके साथ खड़े हैं। कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए प्रत्येक कदम के साथ हम सहयोग कर रहे हैं। दुनिया कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए तेजी से सख्त कदम उठा रही है। जबकि हमारे यहां तीन हफ्तों का लॉकडाउन किया गया है। मैं आपसे प्रार्थना करता हूं कि पूरे देश में ठीक से लॉकडाउन कीजिए और लोगों को, समाज और देश की अर्थव्यवस्था को बचाने पर विचार कीजिए। हमारे लिए यह समझ पाना मुश्किल है कि भारत की स्थिति अलग है। इसलिए हमें अलग कदम उठाने और रणनीति बनाने की जरूरत हैं। देश में करोड़ों की संख्या में गरीब लोग हैं। ये सब अपनी दिहाड़ी मजदूरी के भरोसे रहते हैं। ऐसे में सभी तरह की आर्थिक गतिविधियां बंद करना उचित नहीं।
बच्चों और बुजुर्गों को संक्रमण से बचाएं:
सरकार के लिए लोगों तक वास्तविक पहुंच सुनिश्चित करने पर विचार करना बहुत जरूरी है। हमारी पहली प्राथमिकता ही बच्चों और बुजुर्गों को वायरस के संक्रमण से बचाना है। आज लाखों की संख्या में बुजुर्ग गांवों में रहते हैं। ऐसे में लॉकडाउन का मतलब सबकुछ बंद कर देना। इससे देश हमारा इकोनॉमिक इंजन बंद हो जाएगा। लोग बेरोजगार होकर अपने गांवों में घर की ओर भागेंगे। इससे संक्रमण का खतरा और बढ़ेगा। लोग वहां जाकर अपने माता-पिता, बुजुर्गों और बच्चों में वायरस फैलाएंगे। यह जिंदगी के लिए घातक हो सकता है।
सामाजिक सुरक्षा तंत्र विकसित करें:
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है कि हमें तुरंत सामाजिक सुरक्षा तंत्र विकसित कर गरीबों के शेल्टर बनाने के लिए जन संसाधनों का इस्तेमाल करना चाहिए। सरकार द्वारा उठाए गए आर्थिक राहत के कदम बहुत महत्वपूर्ण हैं, लेकिन इन्हें शीघ्र अमल में भी लाना होगा। बड़ी संख्या में लोगों के लिए हजारों बेड वाले अस्पताल, वेंटिलेटर्स तैयार करने होंगे। सरकार द्वारा तुरंत लॉकडाउन का कदम परेशानी और उलझाने वाला था। इससे हजारों की संख्या में प्रवासी मजदूर प्रभावित हुए। 


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन