कमलनाथ के राज में मप्र फिर बना टाइगर स्टेट


13 साल बाद 526 टाइगर के साथ पहले पायदान पर मध्यप्रदेश, मुख्यमंत्री ने जताई खुशी


भोपाल। मध्यप्रदेश ने एक बार फिर अपना प्रथम टाइगर स्टेट का दर्जा पा लिया है। देश में सबसे ज्यादा 526 टाइगर के साथ मध्यप्रदेश अब पहले स्थान पर आ गया है। वहीं कर्नाटक 524 टाइगर के साथ दूसरे पायदान पर है। इनके अलावा उत्तराखंड 442 टाइगर के साथ तीसरे स्थान पर है। गौरतलब है कि बीते कुछ सालों में बाघ के बढ़ते शिकार और उनके अंगों की तस्करी ने मध्य प्रदेश से टाइगर स्टेट का तमगा छीन लिया था। इसे लेकर वन विभाग की वन्य प्राणी शाखा ने अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस के मौके पर जन जागरूकता मुहिम की शुरुआत की। हस्ताक्षर अभियान चलाया, इस दौरान अलग-अलग स्थानों पर वन्य प्रेमियों से बाघ को बचाने के बारे में बातचीत की गई।
इसके अलावा कई स्थानों पर स्टॉल लगाए गए, साथ ही विशेष पोस्टर पर बाघ की आकृति भी उकेरी गई। बाघ को बचाने के लिए लघु नाटक भी आयोजित किए गए। प्रदेशभर में चल रहे अभियान के दौरान पोस्टर पर उकेरी गई आकृति को इकट्ठा किया गया। इसके बाद इन्हें सरकारी भवन में प्रदर्शनी के लिए रखा गया। इस प्रकार तमाम जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए गए थे। अंतत: विभाग की यह मुहिम रंग लाई और मध्यप्रदेश अब फिर टाइगर स्टेट का तमगा प्राप्त कर लिया है। अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मध्यप्रदेश को देश में सबसे अधिक बाघ वाले प्रदेश का दर्जा मिलने पर भी ख़ुशी जाहिर की है। इसके लिए उन्होंने प्रदेश के सभी टाइगर रिज़र्व की प्रबंधन टीम को बधाई दी है। उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि टाइगर प्रदेश की आन-बान और शान हैं। इनके संरक्षण के लिए जो बन पड़ेगा, वह किया जाएगा। वहीं नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि हम दो पैरों पर चलते हैं और प्रदेश की तुलना जानवर से करना ठीक नहीं है। जबकि एक कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुद को सांकेतिक रूप से कहा था कि टाइगर अभी जिंदा है। 


प्रधानमंत्री ने जारी की रिपोर्ट


सोमवार को 'वर्ल्ड टाइगर डे' के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाघों की जनगणना-2018 रिपोर्ट जारी की। उन्होंने कहा है कि भारत दुनिया में बाघों के लिए सबसे सुरक्षित जगह है। लिहाजा बाघों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। आज देश में बाघों की संख्या 3000 तक जा पहुंची हैं। पूरी दुनिया में बाघों की तेजी से घटती संख्या के प्रति संरक्षण के लिए जागरूकता फैलाने को लेकर हर साल 29 जुलाई को 'वर्ल्ड टाइगर डे' मनाया जाता है। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि 9 साल पहले सेंट पीटसबर्ग में तय किया गया था कि 2022 तक बाघों की संख्या दोगुनी की जाएगी लेकिन हमने ये लक्ष्य 4 साल में ही पूरा कर लिया।


 टाइगर के लिए सबसे सुरक्षित जगह है भारत



पीएम मोदी के मुताबिक, साल 2014 में भारत में संरक्षित इलाकों की संख्या 692 थी जो 2019 में बढ़कर 860 से ज्यादा हो गई है। इसके अलावा कम्युनिटी रिजर्व की संख्या में भी इज़ाफा हुआ है। साल 2014 में ये संख्या 43 से बढ़कर 100 से ज्यादा हो गई है। उन्होंने कहा, आज हम गर्व के साथ कह सकते हैं कि भारत करीब 3 हज़ार टाइगर्स के साथ दुनिया के सबसे बड़े और सबसे सुरक्षित हैबिटैट् में से एक है।


मिंटो हॉल में टाइगर डे पर हुआ कार्यक्रम


इंटरनेशनल टाइगर डे पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मिन्टो हॉल में राज्य स्तरीय कार्यक्रम का शुभारंभ कर किंगडम ऑफ टाइगर्स फोटो प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। इस मौके पर 'बाघों की कहानी, मुन्ना की जुबानी' पुस्तक का विमोचन भी किया गया। इस अवसर पर वन मंत्री उमंग सिंघार भी उपस्थित रहे।


 


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन