मप्र के भविष्य निर्माण के लिए नई कार्य संस्कृति और सोच में परिवर्तन जरूरी


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने किया "आइकन्स ऑफ मध्य प्रदेश" का विमोचन


भोपाल । मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि मध्यप्रदेश के भविष्य निर्माण के लिए नई कार्य संस्कृति विकसित करने, प्रशासनिक सुधार करने और सोच में परिवर्तन लाने की आवश्यकता है । उन्होंने विकास के विभिन्न क्षेत्रों में नई ऊचाइयाँ हासिल करने वाले मध्यप्रदेश के विशिष्ठ व्यक्तियों से आग्रह किया कि वे मध्यप्रदेश का नवनिर्माण करने में सरकार के सलाहकार बने। मुख्यमंत्री एक राष्ट्रीय पत्रिका द्वारा प्रकाशित "आइकन्स ऑफ मध्यप्रदेश" कॉफी टेबल बुक का विमोचन कर रहे थे। इस काफी टेबल बुक में ऐसी कई हस्तियों की उपलब्धियों और उनके व्यक्तित्व को शामिल किया गया है जिन्होंने अपने अपने क्षेत्र में शून्य से शिखर तक यात्रा की और अब मध्यप्रदेश के निर्माण में योगदान दे रहे हैं। मुख्यमंत्री ने उपस्तिथ हस्तियों को सम्मानित किया। इस अवसर पर जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा भी उपस्थित थे। मध्यप्रदेश के भविष्य निर्माण के संबंध में अपने विचार रखते हुए कमल नाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश को नई सोच की जरूरत है। नई निवेश और नई कृषि क्रांति की जरूरत है। उन्होंने कहा कि दुनिया में हर क्षेत्र में परिवर्तन हो रहा है । चाहे वह शिक्षा का क्षेत्र हो या प्रौद्योगिकी का। कृषि का क्षेत्र हो या उदयोग का। परिवर्तनों के साथ चलते हुए अपनी सोच में भी परिवर्तन लाना होगा अन्यथा पीछे छूट जायेंगे। उन्होने कहा कि जो संस्थान परिवर्तन के साथ नहीं चले वे या तो पीछे छूट गये हैं या समाप्त हो गये।
शिक्षा के क्षेत्र में आए परिवर्तनों का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि क्या सीखना है इससे ज्यादा ध्यान अब हमें सीखने के तरीकों पर लगाना पडता है। उन्होंने कहा कि उद्योग क्षेत्र के अलावा अन्य क्षेत्रों में भी निवेश की आवश्यकता है। निवेश की मांग नहीं की जा सकती । इसे सिर्फ प्रयासपूर्वक आकर्षित किया जा सकता है। उन्होंने अपने क्षेत्र में मध्यप्रदेश का नाम रोशन करने वाली और महत्वपूर्ण उपलब्धियाँ हासिल करने वाली हस्तियों का आभार जताते हुए आग्रह किया कि मध्यप्रदेश को आगे बढ़ाने में भी सरकार के साथ चलें।



Comments

Popular posts from this blog

विभा श्रीवास्तव ने जताया मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री का आभार

21 को साल की सबसे लम्बी रात के साथ आनंद लीजिये बर्फीले से महसूस होते मौसम का

मानदेय में बढ़ोतरी पर आशा कार्यकर्ताओं एवं सहयोगियों में खुशी की लहर