Skip to main content

दिग्विजय तो अपने नेता राहुल की लाइन को ही तो बढ़ा रहे !

समसामयिक



गोविंद मालू


मौलाना दिग्विजय सिंह अपने हिन्दू और राष्ट्रवाद विरोधी बयानों के कारण ही हमेशा सुर्खियों में बने रहना चाहते हैं। वोट बैंक के लिए यह उनकी निर्लज्जता की पराकाष्ठा है। उनकी जुबान तब क्यों नहीं खुलती, जब पाकिस्तान में 400 साल पुराना गुरुद्वारा तोड़ दिया जाता है, वहाँ के मंदिरों ध्वस्त किया जाता है और अल्पसंख्यक सिख ग्रंथी की बेटी को अगवा कर उसे धर्म बदलकर निकाह के लिए मजबूर किया जाता है! दिग्विजय सिंह को अपने आरोपों पर प्रमाण देना चाहिए! हमारे पास तो सिलसिलेवार ढेरों प्रमाण है कि वे और उनकी पार्टी आतंकियों को एक मज़हब के दायरे में रखकर उनका बचाव करती रही है।
   दिग्विजय सिंह ऐसा इसलिए कर रहे हैं कि उनके नेता भी इसी लाइन पर हैं! राहुल गाँधी ने 8 मार्च 2013 को अमेरिकी राजदूत से मुलाकात में कहा था कि इस्लामी चरमपंथ की तुलना में भारत में हिंदू चरमपंथ ज्यादा घातक है। इसी से लगता है राहुल ने अपने नेताओं को क्या संदेश दिया था, जो वे आजतक इसी राग को अलाप रहे हैं। लगता है यही कांग्रेस की अधिकृत लाइन भी है। ऐसे ढेरों प्रमाण है जो कांग्रेस ने देश की सुरक्षा से समझौते करके वोटबैंक के लिए किए हैं।
   त्रिपुरा में 4 अक्टूबर 2007 को अलकायदा से जुड़े सरगना को कांग्रेस ने स्थाई आवास पत्र पत्नी सरकार से जारी करवाया था। कोयम्बटूर में बम धमाके के आरोपी अब्दुल नासेर मदनी की रिहाई के लिए काँग्रेस की पहल पर ही विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर प्रस्ताव पास करवाया गया था। क्या भारत के लिए कांग्रेस का ये पुण्यकार्य था? 
काँग्रेस नेता सैफ़ुद्दीन सोज़ ने अपनी पुस्तक में लिखा कि कश्मीर के लोगों की पहली पसन्द आज़ादी है।यही बात मुशर्रफ और इमरान कहते हैं तो काँग्रेस मुस्लिम लीग की फ़ोटो कॉपी नहीं लगती क्या? दिग्विजय सिंह कभी कहते थे आरएसएस यानी संघ के पास बम बनाने की फैक्ट्री है! क्योंकि, कांग्रेस का पहला काम हिंदुओं को देश विरोधी साबित करना है! इस तरह वे वोट बैंक की सियासत के लिए ये कुकर्म कर रहे हैं। इसका मकसद देश के राष्ट्रवादी अल्पसंख्यकों, खासकर मुस्लिमों में अज्ञात भय पैदा करना है। यदि दिग्विजय सिंह वास्तव में अल्पसंख्यक समुदाय के हितचिंतक हैं, तो उन्हें कश्मीर और पाकिस्तान के अल्पसंख्यक भाइयों, बहनों की भी चिंता करना चाहिए! कश्मीर के पीड़ित भारतीय समुदाय के साथ हुए नृशंस अत्याचार पर उनकी जुबान लकवा क्यों मार जाता है?
  कुंठित, पराजित और असहाय दिग्विजय सिंह से और भी कई सवाल हैं! मुंबई बम धमाकों के अपराधी याकूब मेमन, जिनके हाथ मासूमों के खून से सने थे, उसकी फाँसी रुकवाने के पत्र पर दिग्विजय सिंह ने भी हस्ताक्षर किए थे! क्या इसमें काँग्रेस की सहमति थी? ओसामा बिन लादेन के शव को समुद्र में फैंकने के बजाए उसे दफ़नाया जाना चाहिए था, ये सुझाव भी दिग्विजय सिंह का था या काँग्रेस का? ओसामा बिन लादेन को ओसामा 'जी' संबोधित कर दिग्विजय सिंह ने उसे भी सम्मान देने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी! 
   बाटला एनकाउंटर को कोर्ट ने सही बताया था, तो दिग्विजय सिंह उसके बाद भी उसे फर्जी क्यों बताते रहे? जबकि, इसमें जांबाज पुलिस अधिकारी मोहन शर्मा ने सीने पर गोली खाई थी! क्या मोहन शर्मा की शहादत को काँग्रेस षड्यंत्र ही मानती है? देश में वैमनस्यता और अस्थिरता फैलाने वाले जाकिर नाईक को संरक्षण देकर दिग्विजय सिंह कौनसा पुण्य कमाने का काम कर रहे हैं! अजीज़ बर्नी ने अपनी क़िताब में लिखा था कि मुंबई पर हुए 26/11 हमले के पीछे संघ का हाथ था! इस किताब का विमोचन भी दिग्विजय सिंह ने किया था! क्या विमोचन से पहले उन्होंने संघ की जिम्मेदारी की सही पड़ताल की थी? क्या कांग्रेस आज भी मानती है कि 26/11 हमले के पीछे संघ का हाथ था?
कश्मीर के अलगाववादी नेता बुरहान वानी की शवयात्रा में शामिल होना, क्या काँग्रेस का चरित्र नहीं दर्शाता? वास्तव में दिग्विजय सिंह यही सब तो फॉलो कर रहें हैं। उनकी सरकार में हुए उज्जैन जिले के चर्चित झिरन्या विदेशी हथियार काण्ड के आरोपी 'खान बंधुओं' को तब कांग्रेस ने निर्दोष बताया था! जबकि, गुजरात पुलिस ने कहा था कि दाऊद, छोटा दाऊद सहित हथियार काण्ड को मध्यप्रदेश में राजनीतिक संरक्षण था। इसके बावजूद दिग्विजय सिंह 15 अगस्त 1995 को प्रदेश के संदेश में कहा था 'यहाँ अल्पसंख्यक समुदाय असुरक्षा की भावना से पीड़ित हैं, इसलिए वे हथियार जमा करते हैं।' लगता है ऐसे ही लोगों और 1992 के दंगों के सिध्द आरोपियों से मुस्लिम लीग समर्थित काँग्रेस वायनाड़ में राहुल गाँधी का चुनाव प्रचार करवाती है।


(लेखक वरिष्ठ भाजपा नेता हैं)


@ यह लेखक के अपने विचार हैं । 


 


Comments

Popular posts from this blog

बुजुर्गों की सेवा कर सविता ने मनाया अपना जन्मदिन

भोपाल। प्रदेश की जानीमानी समाजसेवी सविता मालवीय का जन्मदिन अर्पिता सामाजिक संस्था द्वारा संचालित राजधानी के कोलार स्थिति सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पर वहां रहने वाले वृद्धजनों की सेवा सत्कार कर मनाया गया। यहां रहने वाले सभी बुजुर्गों की खुशी इस अवसर पर देखते बन रही थी। सविता मालवीय के सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पहुंचे उनके परिजनों और  सखियों ने सभी बुजुर्गों को खाना सेवाभाव से खिलाया और अंत में केक खिलाकर जन्मदिन के आयोजन को आनंदमय कर दिया। इस जन्मदिन कार्यक्रम को संपन्न कराने में सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया का महत्वपूर्ण सहयोग रहा। इस जन्मदिन अवसर को महत्वपूर्ण बनाने के लिए सविता मालवीय के परिजन विवेक शर्मा, सुनीता, सीमा और उनके जेठ ओमप्रकाश मालवीय सहित सखियां रोहिणी शर्मा, स्मिता परतें, अर्चना दफाड़े, हेमलता कोठारी, मीता बनर्जी आदि की उपस्थिति प्रभावी रही। सभी ने सविता को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की तो वहां रहने वाले बुजुर्गों ने ढेर सारा आशीर्वाद दिया। सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया ने जन्मदिन आश्रम आकर मनाने के लिए सविता माल

पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन द्वारा कॉपी किताब का वितरण

झुग्गी बस्ती के बच्चों को सिखाया सफाई का महत्व, औषधीय पौधों का वितरण किया गया भोपाल। पद्मावती संभाग की पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन महिला मंडल द्वारा प्राइम वे स्कूल सेठी नगर के पास स्थित झुग्गी बस्ती के गरीब बच्चों को वर्ष 2022 -23  हेतु कॉपियों तथा पुस्तकों का विमोचन एवं  वितरण किया गया। हेमलता जैन रचना ने बताया कि उक्त अवसर पर संभाग अध्यक्ष श्रीमती कुमुदनी जी बरया  मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। आपने पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा द्वारा की जाने वाली सेवा गतिवधियों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। मुख्य अतिथि का हल्दी, कुमकुम और पुष्पगुच्छ से स्वागत के पश्चात् अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में शाखा अध्यक्ष कल्पना जैन ने कहा कि उनकी शाखा द्वारा समय-समय पर समाज हित हेतु, हर तबके के लिए सेवा कार्य किये जाते रहे हैं जिसमें झुग्गी बस्ती के बच्चों को साफ़-सफाई का महत्व समझाना, गरीब बच्चों को कॉपी किताब का वितरण करना, आर्थिक रूप से असक्षम बच्चों की फीस जमा करना, वृक्षारोपण अभियान के तहत औषधीय तथा फलदार पौधों का वितरण आदि किया जाता रहा है। इस अवसर पर अध्यक्ष कल्पना जैन, चेयर पर्सन सुषमा जैन, उपाध्यक्ष

गो ग्रीन थीम में किया गर्मी का सिलिब्रेशन

एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने जमकर की धमाल-मस्ती भोपाल। राजधानी की एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने गो ग्रीन थीम में गर्मी के आगाज को सिलिब्रेट किया। ग्रुप की कहकशा सक्सेना ने बताया कि सभी जानते हैं कि अब गर्मी के मौसम का आगमन हो चुका है इसलिए पार्टी की होस्ट पिंकी माथे ने हरियाली को मद्देनजर रख कर ग्रीन थीम रखी। जबकि साड़ी की ग्रीन शेड्स को कहकशा सक्सेना ने इन्वाइट किया। इस पार्टी में सभी एंजेल्स स्नेहलता, कहकशा सक्सेना, आराधना, गीता गोगड़े, इंदू मिश्रा, पिंकी माथे, शीतल और वैशाली तेलकर ने अपना पूरा सहयोग दिया। सभी ने मिलकर गर्मी का स्वागत लाइट फ़ूड, बटर मिल्क, लस्सी और फ्रूट्स से पार्टी को जानदार बना दिया।