गतिशील और समृद्ध मप्र के लिए नए नजरिए और दृष्टिकोण की आवश्यकता : कमलनाथ


मुख्यमंत्री नेे बताया प्रदेश के विकास का रोड मैप, युवाओं को रोजगार मिले, कृषि क्षेत्र मजबूत हो ऐसे विकास को प्रोत्साहन

भोपाल । मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि उभरता हुआ, गतिशील, समृद्ध मध्यप्रदेश बनाने के लिए वे नए नजरिए और दृष्टिकोण से काम कर रहे हैं। मेरा विजन है कि हम मध्यप्रेदश में ऐसे विकास को प्रोत्साहित करें जो युवाओं को रोजगार दें, कृषि क्षेत्र को मजबूती प्रदान करें और आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा दें। श्री नाथ एक निजी चैनल के प्रगति पथ कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।मुख्यमंत्री कमल नाथ ने छिंदवाड़ा के विकास मॉडल के साथ भविष्य के मध्यप्रदेश का नक्शा कैसा होगा, इस पर विस्तार से अपनी योजनाओं को रेखांकित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनके लिए स्किल डेव्हलपमेंट महज रस्म अदायगी नहीं मैं स्किल डेव्हलपमेंट का मुल्यांकन इस बात से करता हूँ कि वह स्किल्ड लोगों को कितना रोजगार देती है और कैसा रोजगार देती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब वे रोजगार की बात करते है तो उनके जहन में एमए, बीए या सिर्फ बीई शिक्षित लोगों को रोजगार देने की बात नहीं होती है बल्कि वह उन लोगों के बारे में भी सोंचते है। जो सातवीं-आठवीं पास या बिल्कुल अशिक्षित है। इन लोगों के प्रति भी हमारा दायित्व है कि ये लोग रोजगार पाएं और सम्मानित जीवन जिएं। उन्होंने बताया कि पूरे विश्व में आज छिंदवाड़ा में सबसे अधिक स्किल सेंटर है। और इन स्किल सेंटर को मैंने रोजगार से जोड़ा है जो भी व्यक्ति प्रशिक्षित होकर निकले उसे रोजगार मिले, रोजगार भी ऐसा मिले कि वह अपना जीवन बेहतरी के साथ बिता सके। मुख्यमंत्री ने उदाहरण दिया कि 10 हजार रुपए का रोजगार उसे दिल्ली, मुम्बई में मिले मुफिद नहीं होगा। यहीं रोजगार उसे गाँव, शहर या आस-पास मिले तो उसके लिए उपयोगी होगा। जब मैंने बैंड की ट्रेनिंग देनी की बात कही तो मेरा विरोधी दलों ने काफी मजाक उड़ाया लेकिन मैं इस क्षेत्र में ऐसा काम करूंगा कि मजाक उड़ाने वालों का मजाक उड़ेगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि आज बैंड बाजे की कल्पना हम सिर्फ शादी-बारात के संदर्भ में नहीं कर सकते। हर बड़े समारोह में सेरेमोनियल बैंड बजाए जाते है। उन लोगों को जो इस व्यवसाय में पूर्व से लगे हैं और जो इस व्यवसाय में लगने वाले हैं, उन्हें हम अगर इस विधा में प्रशिक्षित कर देंगे तो वे बेहतर रोजगार पा सकेंगे। इसी तरह सिक्योर्टी गार्ड सर्विस में भी रोजगार की व्यापक संभावनाएँ है। इससे हम उन वर्गों को रोजगार दे सकते है जो अन्यनय कारणों से शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाते। इस दृष्टि के साथ मैं स्किल डेव्हलपमेंट के साथ देखता हूँ। जिसकी शुरूआत मैंने 12 वर्ष पूर्व छिंदवाड़ा में की थी उसे मैं पूरे प्रदेश के संदर्भ में देखता हूँ और इस दिशा में प्रयास कर रहा हूँ।


धोती-कुर्ता वाले किसान जींस और शर्ट पहने 


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि हमारे प्रदेश के 70 प्रतिशत आबादी कृषि क्षेत्र पर निर्भर है। इस क्षेत्र को मजबूत बनाने के लिए हमें पारंपरिक खेती को आधुनिक खेती में बदलना होगा। किसान का बेटा खेती करे इसके लिए हमें उन्नत खेती को प्रोत्साहित करना होगा। उद्यानिकी के क्षेत्र में हमारे प्रदेश में बड़ी संभावनाएँ है । इन संभावनाओं को हमें किसानों की आय को दोगुना करने में साकार करना होगा। इससे हम जहाँ ग्रामीण क्षेत्रों में बड़े पैमाने में रोजगार उपलब्ध करवा पाएंगे और दूसरी ओर हमारा कृषि क्षेत्र मजबूत होगा जो हमारी अर्थव्यवस्था का आधार है। 


आईटी में उनको चुने जो मप्र के लिए उपयोगी हो


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि आईटी एक विशाल क्षेत्र है। हमें इसमें यह देखना होगा कि हम इसकी किस विधा को मध्यप्रदेश में विकसित करे जो हमारे प्रदेश को आगे बढ़ाये, वहीं इससे लोगों को रोजगार भी मिलें। उन्होंने कहा कि आर्टीफिशियल इंटेलिजेंश का केंन्द्र मध्यप्रदेश बने इस दिशा में हम प्रयास कर रहे है। उन्होंने कहा कि इसी तरह हम मध्यप्रदेश में ड्रायपोर्ट बनाना चाहते है जिससे मध्यप्रदेश के उद्योगपतियों और व्यवसायियों को आयात-निर्यात में सुविधा मिल सके।


निवेश वहीं होगा जो प्रदेश में रोजगार और आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाएगा


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि प्रदेश में हमारी निवेश की नीति स्पष्ट हम प्रदेश में ऐसे निवेश को प्रोत्साहित करेंगे जो अधिक से अधिक रोजगार दे ओर आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाएं। हम अपने प्रदेश की अर्थव्यवस्था का मूल्यांकन जीडीपी के आधार पर नहीं बल्कि इस आधार पर करेंगे कि आर्थिक गतिविधियाँ हमारे प्रदेश में कितनी बढ़ी हैं। मुख्यमंत्री ने एक निवेशक से अपनी मुलाकात का उल्लेख करते हुए कहा कि जब उन्होंने प्रदेश में निवेश की इच्छा जताई तब मैंने उनसे एक ही सवाल किया कि उनके निवेश से प्रदेश को क्या लाभ होगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि सीमेंट व्यवसाय से जुड़े निवेशक से मैंने पूछा कि आप अपने उत्पादन को कहाँ ले जाएंगे उसके लिए उनके पास क्या व्यवस्था है। उन्होंने कहा कि अपने उत्पादन को बाहर ले जाने के लिए प्रतिदिन 500 ट्रक की आवश्यकता होगी तब मैंने उनसे कहा कि जो भी ट्रक आपके उत्पादन को लाने ले जाने का काम करेंगे वे सभी ट्रक मध्यप्रदेश में रजिस्टर्ड होना चाहिए। इससे हम अपने प्रदेश के नौजवानों न केवल रोजगार देंगे बल्कि इससे जुड़ी हुई कई आर्थिक गतिविधियाँ विकसित होंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी तरह प्रदेश में पूरे देश का सबसे बड़ा फुड पार्क भी बनाने की हमारी योजना है। इससे संबंधित कंपनी से हमारी चर्चा चल रही है। मुख्यमंत्री ने प्रदेश की निवेश नीति का उल्लेख करते हुए कहा कि हमारी निवेश नीति हर क्षेत्र के लिए अलग-अलग होंगी। जिससे हम उन्हें पूरी मदद कर सकेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम प्रदेश में डिस्पोजिबल इंकम को भी बढ़ाना चाहते है इससे हमारी आर्थिक गतिविधियाँ बढ़ेगी।


योजनाएँ अच्छी पर डिलेवरी सिस्टम खराब


मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकार ढेर सारी योजनाएँ है और योजनाओं का डिलेवरी सिस्टम ठीक नहीं हो तो इसका लाभ उन लोगों तक नहीं पहुँच पाता जिन तक पहुँचाने की सरकार की मंशा होती है। उन्होंने बजट में ट्राइबल सब प्लान का उल्लेख करते हुए कहा कि अगर हम पिछले 30-40 साल का इसके बजट का आकलन करें तो हम पाएंगे कि यह राशि सीधे आदिवासी भाईयों को दे देते तो उनका संपूर्ण विकास हो जाता। आज हमें इस दिशा में सोंचना पड़ेगा कि हम अपनी कल्याणकारी योजनाओं का क्रियान्वयन कैसे करे जो जरूरत मंदों को लाभ मिलना सुनिश्चित कर सके। केंद्रीय शहरी विकास मंत्री के रूप में उन्होंने भोपाल के सौंदर्यीकरण और मेट्रो रेल का प्रोजेक्ट दिया। नाथ ने बताया कि आज भोपाल तालाब का जो सौंदर्यीकरण दिख रहा है और बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण के रूप में हरियाली दिख रही है इसके लिए उन्होंने केंद्रीय शहरी विकास मंत्री के रूप में कई योजनाओं के लिए पैसा दिया।


शहरों के विस्तार के लिए आज से ही सोचना होगा


मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि हर शहर की अपनी एक कैयरिंग कैपेसिटी होती है । आज प्रदेश के भोपाल, इंदौर सहित कई बड़े शहरों के विस्तार की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि अगर दिल्ली के पास नोयडा और गुड़गांव नहीं बनता और मुम्बई के पास नवी मुम्बई नहीं बनती तो इन शहरों के हालात बदतर होते । उन्होंने बताया कि दिल्ली के नोयडा बनाने की योजना उन्होंने संजय गांधी के साथ मिलकर बनाई थी। नाथ ने कहा कि शहरों के विस्तारिकरण के साथ ही हमें इस बात पर ध्यान देना होगा कि हम जो भी सेटेलाइट सिटी बनाए वहाँ सभी बुनियादी सुविधाएँ उपलब्ध हो तभी हम सफल हो पाएंगे। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर शिक्षा, अधोसंरचना, बैंकिंग और अन्य क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वालों को सम्मानित किया। 


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन