Skip to main content

ग्लोबल हर्बल ट्रेड में मध्यप्रदेश निभा सकता है बड़ी भूमिका


भोपाल । वैश्विक हर्बल व्यापार और दवा बाजार में भारत की स्थिति मजबूत करने में मध्यप्रदेश महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। वैश्विक हर्बल व्यापार अब 120 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गया है। भारत का हर्बल उत्पाद निर्यात 456 मिलियन अमेरिकी डॉलर को छू गया है, लेकिन यह मध्यप्रदेश जैसे वन सम्पदा संपन्न राज्य के होते हुए और भी ज्यादा बढ़ सकता है। यह तथ्य भोपाल में इंटरनेशनल हर्बल फेयर-2019 शामिल हुए प्रतिभागियों से साक्षात्कार के बाद सामने आया है। प्रतिभागियों में हर्बल उत्पाद, आयुर्वेदिक दवा निर्माण कंपनियों, लघु वनोपज की जिला प्राथमिक सहकारी सोसायटियों के सदस्य, वनोपज इकठ्ठा करने वाले जनजातीय बंधु और पारंपरिक आयुर्वेदिक प्रणाली से जुड़े चिकित्सक शामिल थे। वैश्विक हर्बल दवा बाजार में भारतीय कंपनियों की संख्या अन्य देशों के मुकाबले ज्यादा है। विश्व स्तर पर 12 प्रमुख कंपनियों में से कम से कम पांच प्रमुख कंपनियां भारत की हैं। इनमें हिमालय ड्रग कंपनी, झंडू फार्मास्यूटिकल्स वर्क्स लिमिटेड, डाबर लिमिटेड, हमदर्द लेबोरेटरीज और पतंजलि आयुर्वेदिक लिमिटेड शामिल हैं। अन्य नामी कंपनियों में जर्मनी की श्वाबे, स्पेन की मैडौस, फ्रांस की अरकोफरमैन, ऑस्ट्रेलिया की ब्लैकमोर, जापान की त्समुरा, ताइवान की शेंग चांग फार्मास्युटिकल, स्विटजरलैंड की रिकोला एजी, यूएस की चाइना हर्ब्स और न्यूट्रास्यूटिकल इंटरनेशनल शामिल हैं।
मध्यप्रदेश के लिए बहुत अधिक संभावनाएं 
मध्यप्रदेश में अश्वगंधा, सर्पगंधा, कालमेघ, शतावर, आंवला, ब्राम्ही, जैसी महत्वपूर्ण जड़ी-बूटियों के नियमित आपूर्तिकर्ता बनने की संभावना है। भारत सरकार जड़ी-बूटियों की खेती को प्रोत्साहित कर रही है। खेती की लागत का 75 प्रतिशत तक अनुदान दे रही है। जिन जड़ी-बूटियों की खेती के लिए अनुदान दिया जा रहा है, उनमें से ज्यादातर मध्यप्रदेश के जैव विविधता समृद्ध जंगलों में पाई जाती हैं। हर्बल दवा उद्योग में कच्चे माल के रूप में प्रमुख रूप से बीज, जड़, छाल, फूल, पत्ते और तेल उपयोग में आते हैं। पंडित खुशीलाल शर्मा शासकीय आयुर्वेदिक संस्थान, भोपाल में काय-चिकित्सा के विभाग प्रमुख डॉ राजेश मेश्राम कहते हैं कि ' आयुर्वेदिक दवाओं के लिए लोगों का रुझान और विश्वास बढ़ने से घरेलू हर्बल दवा बाजार में भी मध्यप्रदेश के लिए बहुत अधिक संभावनाएं बनी हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन का अनुमान है कि एशियाई देशों में 80% आबादी प्राथमिक स्वास्थ्य के लिए पारंपरिक दवाओं पर निर्भर है।' वे पेटेंट कराने की सुविधा के कानूनी ढांचे, अनुसंधान औऱ हर्बल दवाओं के मानकीकरण को भी जरूरी बताते हैं। 
लगातार बढ़ रही जड़ी-बूटियों की मांग 
मध्यप्रदेश लघु वनोपज (व्यापार और विकास) सहकारी संघ के प्रबंध निदेशक एस.के. मंडल ने बताया कि कच्चा माल पौधों की विविधतापूर्ण प्रजातियों से मिलता है। भारत में लगभग 6,500 प्रकार के औषधीय उपयोग की वनस्पति मिलती है। मध्यप्रदेश की स्थिति के संबंध में विस्तार से बताते हुए श्री मंडल कहते हैं कि आयुर्वेद की दवाओं में लोगों का विश्वास बढ़ने के कारण हर्बल दवाओं में उपयोग के लिए जड़ी-बूटियों की व्यावसायिक मांग पिछले कुछ वर्षों में लगातार बढ़ रही है। यह देश में 5,12,000 मीट्रिक टन अनुमानित है। इसी तरह, बिना प्र-संस्कृत जड़ी-बूटियों का अनुमानित निर्यात लगभग दो लाख मीट्रिक टन आंका गया है। हर्बल औषधि व्यापार में वर्तमान में लगभग 1178 औषधीय पौधों की प्रजातियों का उपयोग किया जा रहा है। इनमें से 242 पौधों की प्रजातियों की आवश्यकता हर साल 100 मीट्रिक टन से अधिक है। जाहिर है, मध्यप्रदेश में इस क्षेत्र में योगदान करने की अपार संभावना है क्योंकि यहां 500 से अधिक पत्ते, झाड़ियों, जड़ी-बूटियों, जडों और मौसमी औषधीय पौधों का भंडार है। उन्होंने बताया कि ' इस सम्पदा का दोहन करने के लिए हम नई रणनीति तैयार कर रहे हैं।
जड़ी-बूटियों के संरक्षण की आवश्यकता 
धन्वंतरि उपचार और अनुसंधान समिति बालाघाट के डॉ. एस.एल. पटले हर्बल उपचार में अनुसंधान को बढ़ावा दे रहे हैं। उनका कहना है कि आयुर्वेद दवाओं का प्रमाणीकरण अत्यावश्यक है। वे आदिवासी परिवारों को प्रशिक्षण देने की भी वकालत करते हैं, जो वनोपज संग्रहण से अपनी आजीविका कमाते हैं, विशेष रूप से जड़ी-बूटियाँ बीनने का काम करते हैं। उन्होंने कहा कि प्र-संस्करण के साथ इन समुदायों को भी जोड़ना चाहिए। उनके अनुसार पौडर जैसी बहुमूल्य जड़ी-बूटियों के संरक्षण की आवश्यकता है।
प्रमुख उद्योग का आकार ले लिया 
पिछले एक दशक में जड़ी-बूटियों के प्र-संस्करण ने एक प्रमुख उद्योग का आकार ले लिया है। इसलिए उभरते हुए उद्यमियों को इस पर ध्यान केन्दित करना चाहिए। एम. आर. खोखर मंडला में औषधीय वनस्पति प्र-संस्करण केन्द्र के प्रमुख हैं। उन्होंने जैव सम्पदा की विविधता के बारे में साक्षरता बढ़ाने की जरूरत बताई। सिवनी कैंप बालाघाट के फिरोज अख्तर हर्बल उत्पाद निर्माण से जुड़े हैं। उनका कहना है कि बालाघाट, मंडला, डिंडोरी, पचमढ़ी, पातालकोट जैसे क्षेत्रों में हर्बल प्रोसेसिंग उद्योग की स्थापना की जा सकती है, जहाँ हर्बल वनस्पतियाँ आसानी से उपलब्ध हैं। वे मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ की गरीबी और बेरोजगारी को दूर करने के लिए उद्योगोन्मुखी विकास की पहल के प्रति आशान्वित हैं।


Comments

Popular posts from this blog

बुजुर्गों की सेवा कर सविता ने मनाया अपना जन्मदिन

भोपाल। प्रदेश की जानीमानी समाजसेवी सविता मालवीय का जन्मदिन अर्पिता सामाजिक संस्था द्वारा संचालित राजधानी के कोलार स्थिति सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पर वहां रहने वाले वृद्धजनों की सेवा सत्कार कर मनाया गया। यहां रहने वाले सभी बुजुर्गों की खुशी इस अवसर पर देखते बन रही थी। सविता मालवीय के सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पहुंचे उनके परिजनों और  सखियों ने सभी बुजुर्गों को खाना सेवाभाव से खिलाया और अंत में केक खिलाकर जन्मदिन के आयोजन को आनंदमय कर दिया। इस जन्मदिन कार्यक्रम को संपन्न कराने में सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया का महत्वपूर्ण सहयोग रहा। इस जन्मदिन अवसर को महत्वपूर्ण बनाने के लिए सविता मालवीय के परिजन विवेक शर्मा, सुनीता, सीमा और उनके जेठ ओमप्रकाश मालवीय सहित सखियां रोहिणी शर्मा, स्मिता परतें, अर्चना दफाड़े, हेमलता कोठारी, मीता बनर्जी आदि की उपस्थिति प्रभावी रही। सभी ने सविता को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की तो वहां रहने वाले बुजुर्गों ने ढेर सारा आशीर्वाद दिया। सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया ने जन्मदिन आश्रम आकर मनाने के लिए सविता माल

पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन द्वारा कॉपी किताब का वितरण

झुग्गी बस्ती के बच्चों को सिखाया सफाई का महत्व, औषधीय पौधों का वितरण किया गया भोपाल। पद्मावती संभाग की पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन महिला मंडल द्वारा प्राइम वे स्कूल सेठी नगर के पास स्थित झुग्गी बस्ती के गरीब बच्चों को वर्ष 2022 -23  हेतु कॉपियों तथा पुस्तकों का विमोचन एवं  वितरण किया गया। हेमलता जैन रचना ने बताया कि उक्त अवसर पर संभाग अध्यक्ष श्रीमती कुमुदनी जी बरया  मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। आपने पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा द्वारा की जाने वाली सेवा गतिवधियों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। मुख्य अतिथि का हल्दी, कुमकुम और पुष्पगुच्छ से स्वागत के पश्चात् अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में शाखा अध्यक्ष कल्पना जैन ने कहा कि उनकी शाखा द्वारा समय-समय पर समाज हित हेतु, हर तबके के लिए सेवा कार्य किये जाते रहे हैं जिसमें झुग्गी बस्ती के बच्चों को साफ़-सफाई का महत्व समझाना, गरीब बच्चों को कॉपी किताब का वितरण करना, आर्थिक रूप से असक्षम बच्चों की फीस जमा करना, वृक्षारोपण अभियान के तहत औषधीय तथा फलदार पौधों का वितरण आदि किया जाता रहा है। इस अवसर पर अध्यक्ष कल्पना जैन, चेयर पर्सन सुषमा जैन, उपाध्यक्ष

गो ग्रीन थीम में किया गर्मी का सिलिब्रेशन

एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने जमकर की धमाल-मस्ती भोपाल। राजधानी की एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने गो ग्रीन थीम में गर्मी के आगाज को सिलिब्रेट किया। ग्रुप की कहकशा सक्सेना ने बताया कि सभी जानते हैं कि अब गर्मी के मौसम का आगमन हो चुका है इसलिए पार्टी की होस्ट पिंकी माथे ने हरियाली को मद्देनजर रख कर ग्रीन थीम रखी। जबकि साड़ी की ग्रीन शेड्स को कहकशा सक्सेना ने इन्वाइट किया। इस पार्टी में सभी एंजेल्स स्नेहलता, कहकशा सक्सेना, आराधना, गीता गोगड़े, इंदू मिश्रा, पिंकी माथे, शीतल और वैशाली तेलकर ने अपना पूरा सहयोग दिया। सभी ने मिलकर गर्मी का स्वागत लाइट फ़ूड, बटर मिल्क, लस्सी और फ्रूट्स से पार्टी को जानदार बना दिया।