संध्या मिश्रा की कविता-मैं और तुम

मैं नहीं तुम 


मै अल्हड़ बहती सी सरिता
पर तुमने बाँध बनाए क्यों
मै अर्द्ध निशा का चंचल तारा
तुम मार्गदर्श बन आये क्यों
मै नीलगगन की गौरैया 
तुम जाल बिछा कर आये क्यों
मै वीत राग की स्वछंद स्वरा
तुम बहर बीच में लाये क्यों
मै नए गीत का नवल छंद
तुम शब्द खींच कर लाये क्यों
मै स्वप्न लोक की परिकथा
तुम स्वप्न तोड़ते आये क्यों
मै जोगन नहीं कापाला संग
तुम शमशान मुझे ले आये क्यों
मै जीवन की थी भरी उमंग
तुम काल मेरा बन आये क्यों।



संध्या मिश्रा, भोपाल


Comments

Popular posts from this blog

विभा श्रीवास्तव ने जताया मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री का आभार

21 को साल की सबसे लम्बी रात के साथ आनंद लीजिये बर्फीले से महसूस होते मौसम का

मानदेय में बढ़ोतरी पर आशा कार्यकर्ताओं एवं सहयोगियों में खुशी की लहर