छग के युवा वैज्ञानिक ने महुआ से बना दिया हैंड सैनिटाइजर

महिला स्वयं सहायता समूह के साथ मिलकर 31 वर्षीय युवा वैज्ञानिक ने किया कमाल
जशपुर। एक तरफ देश जहां कोरोना महामारी से परेशान है तो दूसरी तरफ देश में कुछ स्वदेशी आविष्कार भी हो रहे हैं। कहीं कम दाम के पीपीई किट और टेस्टिंग किट बन रहे हैं तो कहीं वेंटिलेटर। इस बीच छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में महिला स्वयं सहायता समूह के साथ मिलकर 31 वर्षीय युवा वैज्ञानिक ने महुआ के फूल से हैंड सैनिटाइजर बनाया है। राज्य में महुआ फूल आमतौर पर आदिवासियों के लिए शराब बनाने के काम में आता है। वनों से समृद्ध छत्तीसगढ़ में महुआ बहुतायत में पाया जाता है। महुआ यहां के आदिवासियों की जीविका का साधन भी है। यहां के आदिवासी महुआ फूल को एकत्र करते हैं और बाजार में बेचते हैं। गहरा पीलापन लिए हुए महुआ फूल औषधि और देसी शराब बनाने के काम आता है। अब आदिवासी बाहुल्य जशपुर जिले में महुआ फूल से हैंड सैनिटाइजर बनाया जा रहा है। 
महुआ फूल से कोरोना वायरस से लडऩे के लिए हैंड सैनिटाइजर बनाने वाले युवा वैज्ञानिक समर्थ जैन कहते हैं कि हम जानते हैं कि आवश्यकता आविष्कार की जननी है। महुआ से हैंड सैनिटाइटर विकसित करने का विचार तब आया जब हमें अपने पेट्रोल पंप में कर्मचारियों के लिए सेनेटाइटर की कमी हुई।
फार्मास्युटिकल तकनीक का ज्ञान रखते हैं समर्थ:
समर्थ जैन फार्मास्युटिकल तकनीक का ज्ञान रखते हैं और जशपुर में एक कंपनी चलाते हैं जो कृषि और हर्बल संबंधित उत्पादों का निर्माण करती है। जैन ने बताया कि महुआ जशपुर क्षेत्र में बहुतायत में पाया जाता है जो आमतौर पर आदिवासियों द्वारा देसी शराब बनाने में उपयोग किया जाता है। मैंने सोचा कि हम संकट के इस दौर में महुआ के शुद्ध रूप का उपयोग कर सकते हैं। मैंने इसके लिए जिला प्रशासन और वन विभाग से संपर्क किया। तथा इस विचार को कार्य रूप में सामने लाने के लिए उनका सहयोग मांगा। 
30 लीटर हैंड सेनेटाइटर का निर्माण:
उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन की अनुमति के बाद हमने सिंगनी नामक एक स्थानीय स्व-सहायता समूह जो वन विभाग के साथ मिलकर काम करता है के साथ मिलकर तीन दिनों में महुआ से सेनेटाइजर बनाने में सफलता प्राप्त कर ली। जैन ने बताया कि वन विभाग ने इसके लिए कच्चे माल की आपूर्ति की है। तथा अब तक हमने लगभग 30 लीटर हैंड सेनेटाइटर का निर्माण कर लिया है। अभी इसका परीक्षण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि महुआ से बने हैंड सैनिटाइजर को 100 मिलीलीटर की बोतलों में पैक किया गया है और इसे लॉकडाउन के दौरान ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों के बीच वितरित किया गया है।


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन