नहीं बजेगी दो माह शहनाई, कैंसल के मैसेज डालने लगे लोग


अब नए मुहूर्त की तलाश, एक साल तक भी करना पड़ सकता है इंतजार
भोपाल । कोरोना वायरस का ग्रहण अप्रैल व मई माह में पडऩे वाले मांगलिक समारोह पर भी पडऩे लगा है। वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग ही एक उपाय बताया गया है, जिससे अप्रैल और मई माह में यहां तक की जून माह में आयोजित होने वाले विवाह समारोह प्रभावित होने लगे है। एक साल से से मांगलिक कार्यों की तिथि तय कर मुहूर्त का इंतजार करने वाले लोग अब सोशल मीडिया पर मांगलिक कार्यक्रम की तिथि स्थगित होने की सूचना डालने लगे है, क्योंकि इस वायरस से जल्द छूटकारा मिलना मुश्किल नजर आ रहा है।
पहले 14 अप्रैल तक लॉकडाउन के साथ ही लग्न भी शुरू हो गए है। अधिकांश लोगों ने अप्रैल व मई में शादी की पूरी तैयारी कर ली थी। पर  लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ने से अगले महीने की उम्मीद भी कम दिखाई दे रही है। क्योंकि इसके आगे बढ़ने की सम्भावना ज्यादा है। पहले उम्मीद भी थी कि हालात सामान्य होंगे, लेकिन अब स्थिति और भयावह होने के चलते मुहूर्त टालने की शादी वाले घरों की मजबूरी हो गई है। अब ऐसे लोग अपने संबंधियों को सोशल मीडिया के माध्यम से तिथि टालने के साथ ही मैरेज हॉल, कैटरर्स, बैंडबाजा, टेंट आदि की बुकिंग निरस्त करने लगे हैं। पंडित भास्कर रामपुरकर के अनुसार जिन लोगों के यहां अप्रैल व मई में शादियां थी वे तिथि टालने की सूचना देने के साथ नए तिथि की बात कर रहे है। उन्होंने बताया कि अप्रैल अप्रैल में 15, 16, 26, 27, मई में 2 4, 5, 6, 8, 12, 14, 17, 18, 19 24 तथा जून में 11, 14, 15 तारीख के मुहूर्त है। इसके बाद नवंबर में दीपावली के बाद ही शादियां होंगी। नवंबर में ज्यादा तारिखे नहीं है, वहीं दिसंबर में भी ज्यादा मुहूर्त नहीं है, यानी जिन लोगों की शादियां इस साल स्थगित होती है उन्हें अगले साल तक भी इंतजार करना पड़ सकता है।
कईयों ने कार्ड भी छपवा लिए थे
इस माह और मई माह में होने वाली शादियों के लिए लोगों ने कार्ड भी छपवा लिए है, अब लोग कार्यक्रम निरस्त कर लोगों को सूचना देने में लगे है। कई लोग तो अभी-भी उम्मीद कर रहे है कि यदि परिमशन मिल जाए तो हम 10 लोगों में ही शादी कर लेंगे।
नहीं हो पाएगी अक्षय तृतिया पर सामूहिक शादी
इसी माह की 26 अप्रैल को अक्षय तृतिया  पर शहर में कई बड़े सामूहिक विवाह और यज्ञोपवीत के आयोजन होते है, लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण इस साल यह भी नहीं होने की पूरी संभावना है। नगर निगम द्वारा भी सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन होता है, लेकिन वह भी खटाई में पड़ गया है। 


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन