तत्काल एसमा हटाये सरकार : पटवारी


कर्मचारियों- अधिकारियों का भरोसा जीतने की जरुरत-जीतू 


भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी जीतू पटवारी ने सरकार से एस्मा हटाने की मांग की है उन्होने कहा कि इसके बजाय सरकार को कर्मचारियों का भरोसा जीतने की कोशिश करना चाहिये। उन्होंने कहा कि जानलेवा कोरोना महामारी के संक्रमितों की संख्या लगातार तेजी से बढ़ रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 15 दिनों के लॉकडाउन करने के बावजूद अभी तक कोरोना  के संक्रमण को कंट्रोल नहीं कर पा रहे हैं। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमिण और मृत्यु का  प्रतिशत निकाले तो वह देश में होने वाली औसत मौतों से लगभग दोगुना है, जबकि स्वस्थ होने की दर देश के औसत से आधा है।
इंदौर में प्रतिदिन एक कोरोना मरीज संसाधन की कमी के चलते दम तोड़ रहा है। सरकार के गलत प्रबंधन और संसाधनों की कमी से स्थिति अब और भयावह होती जा रहीहै। पटवारी   ने  कहा कि अगर 5 दिनों में इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, खरगोन, जबलपुर, शिवपुरी और उज्जैन में ध्यान नहीं दिया गया, तो मौत का आंकड़ा विकराल हो सकता है। उन्होंने बताया कि इंदौर में क्वॉरेंटाइन किये इलाकों के बाहर भी महामारी फैल रही है। जो की थर्ड स्टेज में जाने का संकेत है।


कोरोना वायरस को लेकर सरकार की कोई तैयारी नहीं


पटवारी ने कहा कि कोरोना से लड़ने के लिए सरकार के पास 15 दिन का लंबा समय था, लेकिन शिवराज सिंह चौहान सरकार बनाने और अपने पसन्दीदा अधिकारियों को लाभ की जगह बैठाने में लगे रहे। कोरोना से लड़ने के लिए कोई ठोस तैयारी नहीं की। शिवराज सिंह को और अधिक काम करने की जरूरत है। कोरोना वायरस जैसी महामारी के खिलाफ डॉक्टर्स जंग लड़ रहे हैं। वह दिन-रात मरीजों का इलाज कर रहे हैं। लेकिन शिवराज सिंह चौहान अभी मंत्रीमंडल की तैयारी कर रहे हैं। डॉक्टर्स, पुलिस अधिकारियों का तबादला किया जा रहा। ताकि समय आने पर मनमानी की जा सके।


भ्रष्टाचार रोकने में सरकार विफल


प्रदेश में कोरोना से अब तक हुई 20 से अधिक के मौत की घटना दुखद है।  प्रदेश के इंदौर और भोपाल जैसे बड़े और सुविधा संपन्न शहरों में कोरोना से लोग मर रहे हैं, और जिन डाक्टर डेहरिया की तीन दिन पहले पीठ ठोकी थी आज उनका तबादला कर दिया गया है,इससे सरकार की नीयत पर संदेह होता है। उन्होंने हैरानी जाहिर की कि भारतीय जनता पार्टी जनता के इस संकटकाल में घर में दुबक गई है। मुख्यमंत्री जनहित के फैसलों में तो नहीं दिखते बस टीवी पर दिखते हैं। पटवारी ने इंदौर के चंदन नगर की घटना की निंदा की और दोषियों पर कड़ी कार्यवाही करने की मांग की है।


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन