Skip to main content

प्रेम ही मार्ग है, प्रेम ही हमारी मंजिल है



एडवोकेट ममता जैन 






 संत कबीर कुछ सोच-विचार कर ही कह गए हैं  –“ढाई आखर प्रेम का पढ़े सो पंडित होय”। शायद उनका  अनुभव रहा होगा कि केवल पुस्तकों को पढ़कर पंडित कहलाए जाने भर से यह जरूरी नहीं हो जाता कि जीवन के भी पंडित हो गए। पुस्तक पढ़े हुए पंडित कोरे तर्क-वितर्क वाद-विवाद और शास्त्रार्थ भर करने में निपुण तो हो सकते हैं। लेकिन जीवन के धरातल पर पंडित और प्रज्ञावान वह होता है जिसने अपने जीवन में जीवन का आधार प्रेम के पवित्र पाठ को पढ़ा  है।  


न जाने कब से यह सारा जगत किताब, शास्त्रों, पुराणों  को पढ़ता ही रहा है। लेकिन इस पढ़ने से आचरण में कितना प्रभाव हुआ है यह आंकलन करना सरल नहीं दिखाई दे रहा। पढ़े हुए ज्ञान को अपने हृदय में उतार कर ही प्रेम को पाया जा सकता है।


हमारे जीवन में जो भी दृढ और स्थायी ख़ुशी है उसके लिए नब्बे प्रतिशत प्रेम ही उत्तरदायी है। -सी. एस. लुईस
हमारी यह जीवन-यात्रा प्रेम से ही शुरू होती है। जन्म से मरण तक हम प्रेम की ही छाया में सांस लेते हैं।  परिवार का तो प्राण ही प्रेम है।  मां का वात्सल्य अतुल्य प्रेम का रूप है, भाई बहन का स्नेह प्रेम के अतिरिक्त और क्या ? पति-पत्नी का संबंध तो दो अपरचितों के प्रेम का प्रतिरूप ही है। समाज की शक्ति परस्पर प्रेम-भाव है। सत्य तो यह है कि हमारे लिए प्रेम ही मार्ग है, प्रेम ही हमारी मंजिल है। पूजा-भक्ति में अगर ईश्वर से  हृदय से प्रेम ना उपजता हो तो वह केवल शब्द-जाल है। मात्र चंदन का घिसना है और सामग्री का एक थाल से दूसरे थाल में पलटना है।  


मनुष्य की समस्त दुर्बलताओं पर विजय प्राप्त करने वाली अमोघ वस्तु प्रेम मेरे विचार से परमात्मा की सबसे बड़ी देन है।-डॉ० राधाकृष्णन
महावीर की अहिंसा को विस्तृत अर्थ में देखें तो पाएंगे कि वह भी सभी जीवो के प्रति मान-सम्मान, कुशलक्षेम के प्रति एक प्रेम का ही प्रतिरूप है। राम की मर्यादा प्रेम का सकारात्मक पहलू है। कृष्ण की भक्ति का रास्ता तो प्रेम की पगडंडी से ही जाता है। जीवन की नीरसता को प्रेम ही भरता है। किसी बीमार और उदास व्यक्ति को कहीं से दो मीठे बोल प्रेम के  मिल जाते  हैं तो उसका अंतर-बाहर खिल उठता है।


प्रेम के अनेक रूप  हैं। राधा-कृष्ण का निश्छल हास-परिहास, कृष्ण और सुदामा के सत्तू प्रेम के ही प्रतीक थे। प्रेम तो आत्मिक है, हृदय  की विषय-वस्तु है। शारीरिक आकर्षण प्रेम नहीं। हृदय में बज रही विशुद्ध प्रेम की वीणा की झंकार उस परमात्मा की वाणी से भी कम नहीं है। लेकिन आज हमारा विश्वास प्रेम की अपेक्षा भौतिक पदार्थों पर अधिक हो रहा है। हम चंद्रलोक, मंगलग्रह की यात्रा करने को उद्धत हैं, मृत्यु पर विजय प्राप्त करने के लिए प्रयत्नशील हैं। लेकिन अपने अंतर में झाँकने का कोई प्रयास नहीं। यही कारण है हमारा  हृदय अत्यंत संकुचित होता जा रहा है। मानवता और  प्रेम तो उसके अंदर बचे ही नहीं हैं ।


वर्तमान जगत की  पर्यावरण से लेकर हिंसा और आतंक की सारी समस्याओं का एकमात्र समाधान प्रेम है। प्रेम का प्रारंभ पहले मनुष्य से होता है लेकिन अगर उसका विस्तार पशु-पक्षी, फूल-पौधे तक हो जाये तो वो पूजा और  इबादत बन जाता है। यह प्रेम ही तो है जिसे आत्मसात करते ही  जीवन प्रभु का प्रसाद और पुरस्कार हो जाएगा। 


लेखिका  ममता जैन, एडवोकेट है ओर आई.आर.एस(IRS)LADIES एसोसिएशन दिल्ली मे संयुक्त सचिव है।





Comments

Popular posts from this blog

बुजुर्गों की सेवा कर सविता ने मनाया अपना जन्मदिन

भोपाल। प्रदेश की जानीमानी समाजसेवी सविता मालवीय का जन्मदिन अर्पिता सामाजिक संस्था द्वारा संचालित राजधानी के कोलार स्थिति सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पर वहां रहने वाले वृद्धजनों की सेवा सत्कार कर मनाया गया। यहां रहने वाले सभी बुजुर्गों की खुशी इस अवसर पर देखते बन रही थी। सविता मालवीय के सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पहुंचे उनके परिजनों और  सखियों ने सभी बुजुर्गों को खाना सेवाभाव से खिलाया और अंत में केक खिलाकर जन्मदिन के आयोजन को आनंदमय कर दिया। इस जन्मदिन कार्यक्रम को संपन्न कराने में सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया का महत्वपूर्ण सहयोग रहा। इस जन्मदिन अवसर को महत्वपूर्ण बनाने के लिए सविता मालवीय के परिजन विवेक शर्मा, सुनीता, सीमा और उनके जेठ ओमप्रकाश मालवीय सहित सखियां रोहिणी शर्मा, स्मिता परतें, अर्चना दफाड़े, हेमलता कोठारी, मीता बनर्जी आदि की उपस्थिति प्रभावी रही। सभी ने सविता को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की तो वहां रहने वाले बुजुर्गों ने ढेर सारा आशीर्वाद दिया। सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया ने जन्मदिन आश्रम आकर मनाने के लिए सविता माल

पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन द्वारा कॉपी किताब का वितरण

झुग्गी बस्ती के बच्चों को सिखाया सफाई का महत्व, औषधीय पौधों का वितरण किया गया भोपाल। पद्मावती संभाग की पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन महिला मंडल द्वारा प्राइम वे स्कूल सेठी नगर के पास स्थित झुग्गी बस्ती के गरीब बच्चों को वर्ष 2022 -23  हेतु कॉपियों तथा पुस्तकों का विमोचन एवं  वितरण किया गया। हेमलता जैन रचना ने बताया कि उक्त अवसर पर संभाग अध्यक्ष श्रीमती कुमुदनी जी बरया  मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। आपने पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा द्वारा की जाने वाली सेवा गतिवधियों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। मुख्य अतिथि का हल्दी, कुमकुम और पुष्पगुच्छ से स्वागत के पश्चात् अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में शाखा अध्यक्ष कल्पना जैन ने कहा कि उनकी शाखा द्वारा समय-समय पर समाज हित हेतु, हर तबके के लिए सेवा कार्य किये जाते रहे हैं जिसमें झुग्गी बस्ती के बच्चों को साफ़-सफाई का महत्व समझाना, गरीब बच्चों को कॉपी किताब का वितरण करना, आर्थिक रूप से असक्षम बच्चों की फीस जमा करना, वृक्षारोपण अभियान के तहत औषधीय तथा फलदार पौधों का वितरण आदि किया जाता रहा है। इस अवसर पर अध्यक्ष कल्पना जैन, चेयर पर्सन सुषमा जैन, उपाध्यक्ष

गो ग्रीन थीम में किया गर्मी का सिलिब्रेशन

एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने जमकर की धमाल-मस्ती भोपाल। राजधानी की एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने गो ग्रीन थीम में गर्मी के आगाज को सिलिब्रेट किया। ग्रुप की कहकशा सक्सेना ने बताया कि सभी जानते हैं कि अब गर्मी के मौसम का आगमन हो चुका है इसलिए पार्टी की होस्ट पिंकी माथे ने हरियाली को मद्देनजर रख कर ग्रीन थीम रखी। जबकि साड़ी की ग्रीन शेड्स को कहकशा सक्सेना ने इन्वाइट किया। इस पार्टी में सभी एंजेल्स स्नेहलता, कहकशा सक्सेना, आराधना, गीता गोगड़े, इंदू मिश्रा, पिंकी माथे, शीतल और वैशाली तेलकर ने अपना पूरा सहयोग दिया। सभी ने मिलकर गर्मी का स्वागत लाइट फ़ूड, बटर मिल्क, लस्सी और फ्रूट्स से पार्टी को जानदार बना दिया।