इमरती देवी को घेरने कांग्रेस महिला ब्रिगेड को उतारेगी मैदान में


कमलनाथ ने हिना कांवरे, विजयलक्ष्मी साधौ और झूमा सोलंकी को डबरा सीट जीतने की सौंपी  जिम्मेदारी


भोपाल । मध्य प्रदेश में 27 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की तारीख अभी तय नहीं है, लेकिन भाजपा और कांग्रेस पूरा दम लगाने के लिए तैयार है। कांग्रेस ने ऐसी जमावट तेज कर दी है, जिसके जरिए वो बीजेपी को उपचुनाव में कड़ी चुनौती दे सके। ग्वालियर चंबल की 16 सीटों पर फोकस कर रही कांग्रेस सिंधिया समर्थक कैबिनेट मिनिस्टर इमरती देवी की घेराबंदी के लिए


कमलनाथ की महिला ब्रिगेड को मैदान में उतार रही है।


कांग्रेस की इस महिला ब्रिगेड में विधानसभा में डिप्टी स्पीकर रहीं और कांग्रेस विधायक हिना कांवरे, पूर्व मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ और कांग्रेस विधायक झूमा सोलंकी को डबरा सीट जीतने की जिम्मेदारी सौंपी है। ग्वालियर की डबरा विधानसभा सीट पर सिंधिया समर्थक इमरती देवी का कब्जा रहा है जो अब दल बदल कर शिवराज सरकार में भी महिला और बाल विकास विभाग की मंत्री हैं।


इमरती देवी डबरा सीट पर मजबूत चेहरा


2008, 2013 और 2018 के चुनाव में इमरती देवी ने इस सीट पर कांग्रेस का झंडा बुलंद करते हुए रिकॉर्ड वोटों से जीत हासिल की थी। 2018 के चुनाव में इमरती देवी को 90598 वोट मिले थे। उन्होंने भाजपा के कप्तान सिंह को जबरदस्त शिकस्त दी थी। यही कारण है कि डबरा सीट कांग्रेस के मजबूत गढ़ में तब्दील हो गई थी। लेकिन, सिंधिया के दल बदल कर भाजपा में शामिल होने के बाद सिंधिया समर्थक इमरती देवी भी भाजपा में शामिल हो गईं। शिवराज सरकार में भी उन्हें महिला-बाल विकास विभाग ही मिला।


तीन विधायक मैदान में


डबरा सीट पर इमरती देवी उपचुनाव में बीजेपी का चेहरा होंगी। सिंधिया समर्थक मंत्री की घेराबंदी के लिए कमलनाथ ने अपनी महिला ब्रिगेड को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। तीन सीनियर विधायकों विजयलक्ष्मी साधौ, हिना कांवरे, झूमा सोलंकी के सहारे कांग्रेस पार्टी सिंधिया की समर्थक इमरती देवी को घेरने के प्लान में जुट गई है। कांग्रेस विधायक हिना कांवरे का कहना है 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने यहां पर बढ़त हासिल की थी। ऐसे में डबरा सीट पर इमरती देवी से बड़ी कांग्रेस पार्टी है और उपचुनाव में कांग्रेस इमरती देवी को हराएगी।


 


 


 


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन