शनि पृथ्वी और सूर्य एक सीध में आज


शाम को एक तरफ डूबता सूर्य तो दूसरी तरफ उगता शनि होगा: सारिका घारू
भोपाल। सौरमंडल का छटवां ग्रह शनि, पृथ्वी की सीध में आ रहा है। आज 20-21 जुलाई की मध्यरात्रि  3 बजकर 44 मिनिट पर शनि और पृथ्वी और सूर्य एक सीध में आ जायेगी। एक सप्ताह में ग्रहों के पृथ्वी की सीध में आने की दुर्लभ तीसरी घटना की इस खगोलीय घटना की जानकारी देते हुये नेषनल अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने बताया कि पृथ्वी का शनि और सूर्य के बीच में रहते हुये एक सीध में आने की यह घटना सेटर्न एट अपोजिशन कहलाती है। सारिका ने बताया कि अमावस्या होने से पृथ्वी का चंद्रमा सूर्य की तरफ होने से सारी रात नहंी दिखाई देगा। वहीं सामना कर रहा 82 चंद्रमा वाला शनि आज पृथ्वी की सीध में होगा। शनि के  53 चंद्रमाओं की पुष्टि हो चुकी है इसके साथ ही 29 अन्य की पुष्टि की जा रही है। अपोजीशन की स्थिति में इस साल के लिये शनि की पृथ्वी से दूरी  सबसे कम होगी।  कोरी आंख से तो ये तारे के रूप में दिखेगा लेकिन टेलिस्कोप या अच्छे बाइनाकुलर से इसके रिंग बहुत अच्छे से देखे जा सकेंगे। 
सारिका ने बताया कि 149 करोड़ 76 लाख किमी की दूरी पर परिक्रमा करता यह सूर्य से इतना दूर है कि सूर्य के प्रकाश को शनि तक पहुंचने में 83 मिनिट का समय लगता है। शनि इतना विशाल है कि इसके व्यास पर रखने के लिये 9 पृथ्वी की जरूरत होंगी। शनि का एक दिन लगभग 11 घंटे के बराबर है तो इसका एक साल पृथ्वी के 29 सालों से कुछ अधिक है।  हाईड्रोजन एवं हीलियम से बने इस गैसीय पिंड में ठोस धरातल नहीं है।  सारिका ने बताया कि रिंगों के कारण मनमोहक दिखने वाला शनि की जानकारी लेने नासा  के स्पेसक्रा?ट पायोनियर 11 तथा वायजर 1 एवं 2 इसके पास से निकल चुके हैं। 2004 से 2017 तक इसकी 294 परिक्रमा कर डाटा एकत्र करने के बाद दो टन का केसिनी इसमें समा गया। शनि से अब अगला सामना 2 अगस्त 2021 को होगा।


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन