आंदोलन का असर, चालू हुई नहर, किसानों में खुशी की लहर : उमेश तिवारी



किसानों की चिंता पर कलेक्टर सीधी की पहल प्रशंसनीय

सीधी। टोंको-रोंको-ठोंको क्रांतिकारी मोर्चा के संयोजक उमेश तिवारी ने एक विज्ञप्ति में कहा है कि महान नहर संभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की लापरवाही एवं निष्क्रियता के चलते लगभग 6-7 वर्ष पूर्व में भोलगढ़ एवं अकौरी ग्राम के लिए निर्माण कराई गई नहर में पानी नहीं पहुंच पा रहा था। विभागीय कर्मचारियों की लापरवाही एवं मनमानी के कारण इन ग्रामों के स्थानीय किसानों में लापरवाहों के प्रति गुस्सा एवं आक्रोश था जिसके चलते किसानों ने क्रांतिकारी मोर्चा एवं युवा सक्ति समिति के अगुआई में खेतों में नहर का पानी पहुंचाए जाने हेतु दिनांक 23-11-2020 को ग्राम हनुमानगढ़ में विशाल किसान आंदोलन किया था। धरना आंदोलन के पूर्व दिनांक 16-11-2020 को कलेक्टर सीधी को एक ज्ञापन पत्र सौप कर अन्य मांगों के साथ भोलगढ़ एवं अकौरी ग्राम में नहर का पानी चालू करने की मांग की गई थी। ज्ञापन पत्र सौंपते समय कलेक्टर सीधी के द्वारा आस्वस्त किया गया था कि नहर चालू होने में जो भी अबरोध है उसका निराकरण करके निश्चित ही इस सीजन की रवी फसल सिंचाई हेतु हर हाल में नहर से पानी इन ग्रामों को पहुंचाया जाएगा। घोषित कार्यक्रम अनुरूप किए गए धरना आंदोलन के दिन महान नहर संभाग के जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा आंदोलन स्थल पर पहुंचकर आंदोलनकारी किसानों से यह वादा किया गया था कि हमारे द्वारा शीघ्र ही नहर चालू करने में जो भी दिक्कतें आ रही हैं उसका निराकरण करके किसानों को खेत सिंचाई हुई नहर में पानी चालू कर दिया जाएगा।

श्री तिवारी ने बताया कि आंदोलन के असर के चलते जवाबदेहों एवं जिम्मेदारों के द्वारा कार्यालयीन अबरोध एवं छतिग्रस्त नहर को ठीक करके ग्राम भोलगढ़ एवं ग्राम अकौरी के लिए निर्मित नाहर में पानी चालू कर दिया गया है। नहर से खेतों तक पानी पहुंचने से इन ग्रामों के किसानों में खुशी की लहर व्याप्त है। किसानों की चिंता को कलेक्टर सीधी द्वारा गंभीरता पूर्वक लेते हुए वर्षो पूर्व निर्मित नहर में पानी चलवाये जाने पर कलेक्टर सीधी के प्रयास को किसानों ने प्रशंसनीय माना है।


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन