Skip to main content

एक महिला को एक महिला से बेहतर कोई और नहीं समझ सकता : तन्वी डोंगरा

अभिनेत्री एवं एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’ की तन्वी डोगरा का साक्षात्कार

मुम्बई। ‘अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस‘ के मौके पर एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं‘ की स्वाति यानी तन्वी डोगरा ने बताया कि एक महिला होना क्या होता है। उन महिलाओं के बारे में बात की, जिन्हें वह मानती हैं और एक सशक्त महिला किरदार निभाने के बारे में भी बताया। प्रस्तुत है उनसे हुई बातचीत के प्रमुख अंश........

सवाल : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के विषय ‘ नेतृत्व में महिलाएंः कोविड-19 की दुनिया में समान भविष्य हासिल करना, आपके लिये क्या मायने रखता है। 

तन्वी : कोविड-19 से एक चीज हम सबने सीखी है कि इससे फर्क नहीं पड़ता क्या परिणाम होने वाला है। सभी लोग इससे किसी ना किसी रूप में प्रभावित हुए हैं। पुरुषों की तुलना में महिलाओं पर कोविड-19 का सामाजिक और आर्थिक प्रभाव ज्यादा पड़ा है। महिलाओं के कंधों पर बिना वेतन के देखभाल करने का अतिरिक्त बोझ आ गया। अन्य चीजों के अलावा, इसका प्रभाव महिलाओं के रोजगार पर भी पड़ा। उन बढ़ी हुई जिम्मेदारियों की वजह से महिलाएं शारीरिक, मानसिक, आर्थिक और भावनात्मक रूप से बोझ तले दब गयी थीं। चूंकि, हम रिकवरी मोड की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, ऐसे में महिलाओं के लिये जेंडर के अनुकूल भूमिकाएं पहले से ज्यादा अहम हैं। वह भी पहले से ज्यादा सपोर्ट और अवसरों के साथ।  

सवाल : आपके लिये सबसे प्रेरणादायी महिला कौन हैं (किसी बड़े पद पर और मनोरंजन की दुनिया में) और क्यों?

तन्वी : मैंने ग्रेसी सिंह को हमेशा ही अपने आदर्श के तौर पर देखा है, जोकि एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’ में मेरी को-स्टार भी हैं। उनकी एक्टिंग का हुनर और जिस तरह का उनका व्यक्तित्व है, वह वाकई सीखने लायक है। अपने काम के प्रति उनकी लगन मुझे अच्छी लगती है। पिछले एक साल में मैंने उनसे काफी कुछ सीखा है। उनके आस-पास बहुत ही सकारात्मक ऊर्जा रहती है। मैं खुद को खुशकिस्मत मानती हूं कि उनके साथ काम करने का मौका मिला। 

सवाल : पिछले साल से ही, हम देश में महामारी की स्थिति से लड़ रहे हैं। ऐसी स्थिति में आपने अपने काम को किस तरह संभाला, जब पूरी दुनिया पर छंटनी और आर्थिक मंदी के बादल मंडरा रहे थे।

तन्वी : महामारी का समय हम सबके लिये चुनौतीपूर्ण रहा है। मेरे पिता चंडीगढ़ से हैं, जोकि पूरे दिल से पंजाबी हैं और उन्हें खाना बहुत पसंद है। उन्हें हमेशा से ही कुकिंग का शौक रहा है। पहले शूटिंग की व्यस्तता की वजह से मैं किचन में उनका हाथ नहीं बंटा पाती थी। लेकिन लाॅकडाउन के समय मुझे उनकी मदद करने और उनके साथ वक्त बिताने का मौका मिला। इसके अलावा इस दौरान मैंने कुछ नई चीजें सीखने में अपना समय लगाया। 

सवाल : आपको क्या लगता है, आज के दौर की महिलाओं के सामने सबसे मुश्किल चुनौती कौन-सी है, खासकर कामकाजी महिलाओं को घर और बाहर के बीच संतुलन बनाने में।

तन्वी : मुझे ऐसा लगता है कि महिलाएं भावनाओं के आगे कमजोर पड़ जाती हैं और अक्सर खुद से ज्यादा दूसरों का ध्यान रखती हैं। एक महिला को रुककर विचार करना चाहिये और अपने पर्सनल तथा प्रोफेशनल लाइफ से जुड़ी चीजों को साफ नजरिये से देखना चाहिये। काम और घर के बीच संतुलन बनाना बहुत जरूरी है। एक महिला के तौर पर हम अक्सर दूसरों के सामने अपनी क्षमता साबित करने के लिये काम और अपनी जिंदगी के बीच की रेखा को देख नहीं पाते। वक्त के साथ-साथ हम एक प्रगतिशील दुनिया की तरफ कदम बढ़ा रहे हैं, जोकि आज के दौर की महिलाओं की जरूरतों को समझती है। इसलिये, मुझे ऐसा लगता है कि मुखर होना एक बेहद जरूरी क्वालिटी है। 

सवाल : आपका किरदार दर्शकों के दिलोदिमाग पर छाया हुआ है। आपके हिसाब से इस भूमिका/किरदार की खासियत क्या है। 

तन्वी : स्वाति, संतोषी मां (ग्रेसी सिंह) की परम भक्त हैं। वह अपने पति इंद्रेश (आशीष कादियान) को प्यार करने वाली पत्नी हैं। खुद से ज्यादा वह सबके लिये अच्छा करती है और सोचती है। वह नेक, ईमानदार, शांत और दयालु है। संतोषी मां से मिलने वाले लगातार मार्गदर्शन और सपोर्ट के साथ-साथ अपनी असीम भक्ति से स्वाति ने अपने जीवन में आने वाली कई बाधाओं को पार किया है। स्वाति की दृढ़ता, धैर्य और लगन उसे जीवन के मुश्किल समय से बाहर निकलने में मदद करती है। ये चीजें दर्शकों के सामने एक उदाहरण पेश करती हैं कि अपने रोजमर्रा के जीवन में अलग-अलग स्थितियों से निपटने के लिये इन सारी खूबियों को अपने अंदर लायें। 

सवाल : आपके हिसाब से महिला होना क्या है। 

तन्वी : मुझे ऐसा लगता है कि जब कुछ समझ नहीं आ रहा होता है तो उस स्थिति में महिलाएं स्पष्टता लेकर आती हैं। वह अपने आस-पास के लोगों का पूरा ध्यान रखती हैं और उन्हें बिना किसी शर्त प्यार करती हैं। महिला होने का अहसास बेहद अनूठा है। वह सटीकता, लचीलेपन और धैर्य को परिभाषित करती हैं। मुश्किल घड़ी का सामना वह हिम्मत और इच्छाशक्ति से कर सकती हैं। 

सवाल : आप सभी लड़कियों और महिलाओं से क्या कहना चाहेंगी?

तन्वी : सबसे पहले तो मैं सभी महिलाओं को ‘महिला दिवस’ की शुभकामनाएं देना चाहूंगी! खुद को प्यार करें। किसी और चीज से पहले खुद की आंतरिक खुशी का ध्यान रखें। अपने सहज ज्ञान को आगे बढ़ने दें और यह विश्वास करें कि कोई भी चीज असंभव नहीं है। विश्वास और हिम्मत बनाये रखें। मैं सभी लड़कियों को कहना चाहूंगी कि खुद के प्रति ईमानदार रहें और जब भी किसी को जरूरत हो उनकी मदद जरूर करें। एक महिला को एक महिला से बेहतर कोई और नहीं समझ सकता।

Comments

Popular posts from this blog

बुजुर्गों की सेवा कर सविता ने मनाया अपना जन्मदिन

भोपाल। प्रदेश की जानीमानी समाजसेवी सविता मालवीय का जन्मदिन अर्पिता सामाजिक संस्था द्वारा संचालित राजधानी के कोलार स्थिति सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पर वहां रहने वाले वृद्धजनों की सेवा सत्कार कर मनाया गया। यहां रहने वाले सभी बुजुर्गों की खुशी इस अवसर पर देखते बन रही थी। सविता मालवीय के सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पहुंचे उनके परिजनों और  सखियों ने सभी बुजुर्गों को खाना सेवाभाव से खिलाया और अंत में केक खिलाकर जन्मदिन के आयोजन को आनंदमय कर दिया। इस जन्मदिन कार्यक्रम को संपन्न कराने में सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया का महत्वपूर्ण सहयोग रहा। इस जन्मदिन अवसर को महत्वपूर्ण बनाने के लिए सविता मालवीय के परिजन विवेक शर्मा, सुनीता, सीमा और उनके जेठ ओमप्रकाश मालवीय सहित सखियां रोहिणी शर्मा, स्मिता परतें, अर्चना दफाड़े, हेमलता कोठारी, मीता बनर्जी आदि की उपस्थिति प्रभावी रही। सभी ने सविता को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की तो वहां रहने वाले बुजुर्गों ने ढेर सारा आशीर्वाद दिया। सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया ने जन्मदिन आश्रम आकर मनाने के लिए सविता माल

पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन द्वारा कॉपी किताब का वितरण

झुग्गी बस्ती के बच्चों को सिखाया सफाई का महत्व, औषधीय पौधों का वितरण किया गया भोपाल। पद्मावती संभाग की पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन महिला मंडल द्वारा प्राइम वे स्कूल सेठी नगर के पास स्थित झुग्गी बस्ती के गरीब बच्चों को वर्ष 2022 -23  हेतु कॉपियों तथा पुस्तकों का विमोचन एवं  वितरण किया गया। हेमलता जैन रचना ने बताया कि उक्त अवसर पर संभाग अध्यक्ष श्रीमती कुमुदनी जी बरया  मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। आपने पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा द्वारा की जाने वाली सेवा गतिवधियों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। मुख्य अतिथि का हल्दी, कुमकुम और पुष्पगुच्छ से स्वागत के पश्चात् अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में शाखा अध्यक्ष कल्पना जैन ने कहा कि उनकी शाखा द्वारा समय-समय पर समाज हित हेतु, हर तबके के लिए सेवा कार्य किये जाते रहे हैं जिसमें झुग्गी बस्ती के बच्चों को साफ़-सफाई का महत्व समझाना, गरीब बच्चों को कॉपी किताब का वितरण करना, आर्थिक रूप से असक्षम बच्चों की फीस जमा करना, वृक्षारोपण अभियान के तहत औषधीय तथा फलदार पौधों का वितरण आदि किया जाता रहा है। इस अवसर पर अध्यक्ष कल्पना जैन, चेयर पर्सन सुषमा जैन, उपाध्यक्ष

गो ग्रीन थीम में किया गर्मी का सिलिब्रेशन

एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने जमकर की धमाल-मस्ती भोपाल। राजधानी की एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने गो ग्रीन थीम में गर्मी के आगाज को सिलिब्रेट किया। ग्रुप की कहकशा सक्सेना ने बताया कि सभी जानते हैं कि अब गर्मी के मौसम का आगमन हो चुका है इसलिए पार्टी की होस्ट पिंकी माथे ने हरियाली को मद्देनजर रख कर ग्रीन थीम रखी। जबकि साड़ी की ग्रीन शेड्स को कहकशा सक्सेना ने इन्वाइट किया। इस पार्टी में सभी एंजेल्स स्नेहलता, कहकशा सक्सेना, आराधना, गीता गोगड़े, इंदू मिश्रा, पिंकी माथे, शीतल और वैशाली तेलकर ने अपना पूरा सहयोग दिया। सभी ने मिलकर गर्मी का स्वागत लाइट फ़ूड, बटर मिल्क, लस्सी और फ्रूट्स से पार्टी को जानदार बना दिया।