Skip to main content

क्या इंद्रेश बचा पाएगा स्वाति और अपने होने वाले बच्चे को



मुंबई। वट पूर्णिमा पर सभी हिंदू शादीशुदा महिलाएं एक साथ मिलकर अपने पति की लंबी उम्र और सलामती के लिए उपवास रखती हैं। एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाये व्रत कथायें‘ में स्वाति (तन्वी डोगरा) भी अपने पति, इंद्रेश (आशीष कादियान) के लिए प्रार्थना करने का मन बना चुकी है। इंद्रेश, पूजा में पत्नी के साथ शामिल होने का फैसला करता है। उनके प्यार की कोई सीमा नहीं है और वे एक-दूसरे के लिए कुर्बानी देने से कभी पीछे नहीं हटते। कहानी में जो कहा गया है, वो बहुत कुछ सावित्री की कहानी से मिलता-जुलता है। जो अपनी इच्छाशक्ति और दृढ़ संकल्प से अपने पति को स्वयं यमराज के चंगुल से बचाकर लायी थी। दर्शकों को अभी एक बेहद ही रोमांचक एपिसोड देखने को मिलने वाला है, क्योंकि देवेश (धीरज राय) ने स्वाति का अपहरण कर उसे एक संदूक में बंद कर दिया है। सिंहासन सिंह (सुशील सिंह), देवेश को गोली मार देता है, क्योंकि वह भागने की कोशिश करता है। स्वाति और उसके होने वाले बच्चे दोनों की जान को खतरा है। इंद्रेश ने स्वाति के साथ सुनहरा भविष्य जीने के लिये सारी बाधाओं को पार किया है। क्या इंद्रेश को सावित्री की कहानी से प्रेरणा मिलेगी और वह समय रहते अपने परिवार को मौत के मुंह से बचा लेगा या किस्मत के सामने घुटने टेक देगा?

सावित्री का इतिहास और उसके महत्व से जुड़ी लोककथा काफी प्रसिद्ध है। एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाये व्रत कथायें‘ में संतोषी मां बनी ग्रेसी सिंह कहती हैं, “इस दिन को अपने पति के प्रति सावित्री के समर्पण के सम्मान में मनाया जाता है। वह सत्यवान से प्यार करती थी और यह जानते हुए भी कि उनका जीवन छोटा है, उनसे शादी करती है। अपने भाग्य को हराने के लिए, वह हर दिन उनकी लंबी उम्र के लिए प्रार्थना करने लगती है। एक दिन जब सत्यवान बरगद के पेड़ के नीचे विश्राम कर रहे थे, अचानक उनकी मृत्यु हो जाती है। जब यमराज उनकी आत्मा को लेने आते हैं तो सावित्री उनके सामने खड़ी हो जाती है। यमराज, सावित्री को अपने पति के प्राण के बदले एक के बाद एक तीन वरदान देते हैं। सावित्री अपने तीसरे वरदान के रूप मे यमराज से पुत्रवती होने का वर मांगती है और यमराज तथास्तु कह देते हैं। सावित्री की सूझबूझ भरे जवाब और अपने पति के प्रति उसके प्रेम को देखकर मृत्यु के देवता स्तब्ध रह जाते हैं और स्वयं ही सत्यवान को जीवनदान दे देते हैं। यह कथा दृढ़ता और साहस का एक मजबूत उदाहरण है। सावित्री की कहानी महिलाओं को निडर बने रहने और खुद पर विश्वास रखने के लिए प्रेरित करती है। ”एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाये व्रत कथायें‘ में स्वाति की भूमिका निभा रहीं तन्वी डोगरा व्रत की रस्मों के बारे में कहती हैं, इस मौके पर महिलाएं वट सावित्री कथा सुनती और सुनाती हैं। वह व्रत रखती हैं और दुल्हन की तरह तैयार होकर बरगद के पेड़ के चारों ओर लाल या पीले रंग का धागा बांधकर पूजा करती हैं। यह व्रत चार दिनों तक चलता है, जिसमें पहले तीन दिनों तक फल खाये जा सकते हैं और चैथे दिन चंद्रमा को जल चढ़ाने के बाद महिलाएं अपना व्रत तोड़ती हैं।

देखिये, वट सावित्री व्रत स्पेशल ‘संतोषी मां सुनाये व्रत कथायें‘, हर सोमवार से शुक्रवार रात 9 बजे केवल एण्ड टीवी पर

Comments

Popular posts from this blog

बुजुर्गों की सेवा कर सविता ने मनाया अपना जन्मदिन

भोपाल। प्रदेश की जानीमानी समाजसेवी सविता मालवीय का जन्मदिन अर्पिता सामाजिक संस्था द्वारा संचालित राजधानी के कोलार स्थिति सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पर वहां रहने वाले वृद्धजनों की सेवा सत्कार कर मनाया गया। यहां रहने वाले सभी बुजुर्गों की खुशी इस अवसर पर देखते बन रही थी। सविता मालवीय के सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पहुंचे उनके परिजनों और  सखियों ने सभी बुजुर्गों को खाना सेवाभाव से खिलाया और अंत में केक खिलाकर जन्मदिन के आयोजन को आनंदमय कर दिया। इस जन्मदिन कार्यक्रम को संपन्न कराने में सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया का महत्वपूर्ण सहयोग रहा। इस जन्मदिन अवसर को महत्वपूर्ण बनाने के लिए सविता मालवीय के परिजन विवेक शर्मा, सुनीता, सीमा और उनके जेठ ओमप्रकाश मालवीय सहित सखियां रोहिणी शर्मा, स्मिता परतें, अर्चना दफाड़े, हेमलता कोठारी, मीता बनर्जी आदि की उपस्थिति प्रभावी रही। सभी ने सविता को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की तो वहां रहने वाले बुजुर्गों ने ढेर सारा आशीर्वाद दिया। सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया ने जन्मदिन आश्रम आकर मनाने के लिए सविता माल

पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन द्वारा कॉपी किताब का वितरण

झुग्गी बस्ती के बच्चों को सिखाया सफाई का महत्व, औषधीय पौधों का वितरण किया गया भोपाल। पद्मावती संभाग की पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन महिला मंडल द्वारा प्राइम वे स्कूल सेठी नगर के पास स्थित झुग्गी बस्ती के गरीब बच्चों को वर्ष 2022 -23  हेतु कॉपियों तथा पुस्तकों का विमोचन एवं  वितरण किया गया। हेमलता जैन रचना ने बताया कि उक्त अवसर पर संभाग अध्यक्ष श्रीमती कुमुदनी जी बरया  मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। आपने पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा द्वारा की जाने वाली सेवा गतिवधियों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। मुख्य अतिथि का हल्दी, कुमकुम और पुष्पगुच्छ से स्वागत के पश्चात् अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में शाखा अध्यक्ष कल्पना जैन ने कहा कि उनकी शाखा द्वारा समय-समय पर समाज हित हेतु, हर तबके के लिए सेवा कार्य किये जाते रहे हैं जिसमें झुग्गी बस्ती के बच्चों को साफ़-सफाई का महत्व समझाना, गरीब बच्चों को कॉपी किताब का वितरण करना, आर्थिक रूप से असक्षम बच्चों की फीस जमा करना, वृक्षारोपण अभियान के तहत औषधीय तथा फलदार पौधों का वितरण आदि किया जाता रहा है। इस अवसर पर अध्यक्ष कल्पना जैन, चेयर पर्सन सुषमा जैन, उपाध्यक्ष

गो ग्रीन थीम में किया गर्मी का सिलिब्रेशन

एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने जमकर की धमाल-मस्ती भोपाल। राजधानी की एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने गो ग्रीन थीम में गर्मी के आगाज को सिलिब्रेट किया। ग्रुप की कहकशा सक्सेना ने बताया कि सभी जानते हैं कि अब गर्मी के मौसम का आगमन हो चुका है इसलिए पार्टी की होस्ट पिंकी माथे ने हरियाली को मद्देनजर रख कर ग्रीन थीम रखी। जबकि साड़ी की ग्रीन शेड्स को कहकशा सक्सेना ने इन्वाइट किया। इस पार्टी में सभी एंजेल्स स्नेहलता, कहकशा सक्सेना, आराधना, गीता गोगड़े, इंदू मिश्रा, पिंकी माथे, शीतल और वैशाली तेलकर ने अपना पूरा सहयोग दिया। सभी ने मिलकर गर्मी का स्वागत लाइट फ़ूड, बटर मिल्क, लस्सी और फ्रूट्स से पार्टी को जानदार बना दिया।