तिथियों पर तिथियां, यह है इस सावन की खूबियां: सारिका घारू



- तिथियों का तथ्य बताया सारिका ने, चंद्रमा का कोणीय चलन तय करता है तिथियों का नामकरण
-अष्टमी के बाद दशमी, सप्तमी के बाद सप्तमी और एकम के बाद तीज, ये है सावन की खास चीज

भोपाल। आने वाला सावन है बेहद खास। 29 दिन के इस सावन माह में सप्तमी तिथि के अगले दिन फिर सप्तमी तिथि आ जायेगी। कृष्ण पक्ष की एकम के बाद द्वितिया एवं शुक्ल पक्ष की अष्टमी के बाद नवमी आयेगी ही नहीं । नेशनल अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने क्षय होती एवं वृद्धि करती तिथियों के पीछे छिपे खगोलविज्ञान की जानकारी दी।

सारिका ने बताया कि अमावस्या के दिन सूर्य और चंद्रमा के बीच अंतर जीरो डिग्री होता है। अगले लगभग 24 घंटे में चंद्रमा आगे बढ़ जाता है और यह अंतर 12 डिग्री हो जाता है। 12 डिग्री होने के लिये जो अवधि लगती है उसे तिथि कहते हैं। चंद्रमा, पृथ्वी की परिक्रमा अंडाकर पथ में करता है। इस कारण चंद्रमा पृथ्वी से हमेशा समान दूरी पर नहीं रहता है। इस कारण 12 डिग्री का कोण बनाने के लिये चंद्रमा को कभी ज्यादा चलना पड़ता है तो कभी कम दूरी। इसलिये तिथि की अवधि कभी  24 घंटे से अधिक होती है तो कभी 24 घंटे से कम। यह लगभग अवधि 26 घंटे और 19 घंटे के बीच हो सकती है।

सारिका ने जानकारी दी कि किसी दिन सूर्यादय के समय जो तिथि होती है वही तिथि पूरे दिन मानी जाती है, भले ही सूर्यादय के कुछ मिनिट बाद ही अगली तिथि आ रही हो। अगर किसी तिथि की अवधि 24 घंटे से अधिक है और वह सूर्यादय से कुछ देर पहले ही आरंभ हुई हो तो वह अगले सूर्यादय के बाद भी जारी रहेगी इससे अगले दिन भी वहीं तिथि मानी जायेगी। जैसा कि इस सावन में कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि दो दिन रहेगी। इसे तिथि वृद्धि कहते हैं। अगर किसी तिथि की अवधि 24 घंटे से कम है और वह सूर्यादय के बाद आरंभ हुई और अगले सूर्यादय के पहले ही समाप्त हो गई तो यह तिथि क्षय कहलाता है। जैसा कि इस सावन में कृष्ण पक्ष की द्वितिया एवं शुक्ल पक्ष की नवमी का क्षय है। तो इस माह समझें तिथियों का तथ्य और फुहारो के बीच आनंद लें सावन के झूलों का।



खास बातें सावन की तिथि वृद्धि :

सावन माह में 30 जुलाई  को सप्तमी तिथि के अगले दिन 31 जुलाई को फिर सप्तमी तिथि आ जायेगी। 

तिथि क्षय :

- 25 जूलाई को एकम के बाद 26 जुलाई को द्वितिया आयेगी ही नहीं, सीधे तृतीया तिथि आ जायेगी।

- 16 अगस्त को अष्टमी के बाद 17 अगस्त को नवमी आयेगी ही नहीं सीधे दसवीं तिथि आ जायेगी। 

सावन माह :

25 जुलाई से आरंभ होकर 22 अगस्त तक चलेगा इसमें 29 दिन होंगे।


Comments

Popular posts from this blog

विभा श्रीवास्तव ने जताया मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री का आभार

21 को साल की सबसे लम्बी रात के साथ आनंद लीजिये बर्फीले से महसूस होते मौसम का

मानदेय में बढ़ोतरी पर आशा कार्यकर्ताओं एवं सहयोगियों में खुशी की लहर