रमाकांत आर्ट गैलरी में जयश्री सरकार की पेंटिंग का प्रदर्शन



- जयश्री सरकार के लीफ आर्ट बेजान पत्तों में भी डाल देते हैं रंग

भोपाल। कहते हैं कि किसी भी कलाकार को कला के लिए कल्पनाशील होना अनिवार्य शर्त है। पर सिर्फ कल्पनाशील होने मात्र से आप कलाकार नहीं हो जाते। अपनी कल्पना को साकार करने के लिए आपके पास जज्बा और लगन का होना भी बेहद जरूरी होता है। अगर आपमें ये गुण हैं तो यकीन मानें कि आपके सपनों में आसमान भी अपने रंग भर देगा। जी हां, राजधानी भोपाल की अलकापुरी निवासी जयश्री सरकार एक ऐसी ही कलाकार हैं जिनके लीफ आर्ट में लगता है मानो कुदरत ने अपने रंग भर दिया है।

लीफ आर्ट यानी पत्तियों पर कलाकारी। परंपरागत रूप से हम यही जानते हैं कि पत्तियों से पर्णहरित हटाकर उसके रेशों पर पेंटिंग करने की कला लीफ आर्ट कहलाती है। लेकिन राजधानी की जयश्री टूटे पत्तों पर पेंटिग कर तस्वीरें बनाती हैं। जयश्री सरकार  ऐक्रेलिक, तेल, स्प्रे और लीफ पेंटिंग में विभिन्न विधाओं में पारंगत हैं। मां को विभिन्न वस्त्रों में  कढ़ाई करते देख उन्हें यह आइडिया आया। 



टूटे पत्तों पर पेंटिंग कर जयश्री ने विभिन्न देवी देवताओं के चित्रों को बना देती हैं, जिन्हें उपहार के रूप में भी दिया जा सकता है। जयश्री बताती हैं कि पीपल, आम, कटहल या पलाश सहित अन्य पेड़ों के पत्ते इस काम के लिए मुफीद होते हैं। 

हाल ही में 25 से 27 नवंबर के दौरान ध्रुपद संस्थान भोपाल की रमाकांत आर्ट गैलरी में जयश्री सरकार की दो पेंटिंग प्रदर्शित की गईं। दरअसल ध्रुपद संस्थान में ध्रुपद संगीत के प्रतिपादकों की स्नेहमयी स्मृति में एक बैठक आयोजित की गई थी। इस अवसर पर बगल की रमाकांत आर्ट गैलरी में एक पेंटिंग प्रदर्शनी का आयोजन किया गया था।



Comments

Popular posts from this blog

उपहार की गर्मजोशी से खिले गरीबों के चेहरे

चर्चा का विषय बना नड्डा के बेटे का रिसेप्शन किट

लंका पर भारत की विराट जीत, सेमीफाइनल में पहुंचा