Skip to main content

अर्चना सिंह "अना" की कहानी "साथी"



साथी

मौसम के करवट बदलने के साथ ही गुलाबी जाड़ा सुबह और सांझ पर  अपनी गिरफ्त कहने लगा था। बरामदे में बैठी मानवी अचानक एक सर्द हवा के झोंके से सिहर उठी, ठंड का अहसास होने पर उसने पास ही तिपाही पर रखी शॉल उठाकर लपेटनी चाही तभी उसकी गर्दन में कुछ चुभ गया। कहीं कोई कीड़ा तो नहीं, घबराहट में  मानवी ने एक झटके से शॉल उतार कर झाड़ी तो एक कलम टप्प से नीचे गिर कर मानवी को मुंह चिढ़ाने लगी।

ओह तो ये तुम हो... मैं तो डर ही गई थी.. मन ही मन बुदबुदाती मानवी के अधरों पर मृदु स्मित की एक हल्की सी रेखा खिंच गई। लॉन में लगे अशोक की ऊंची शाखाएं सलेटी दुशाला में सिमटने लगीं थीं ... शाम को दिए गए पानी की बूंदें अभी तक  छोटे पौधों के फूल- पत्तों पर सुस्ता रहीं थीं, हल्की हवा से टहनियां हिलने पर यूं आभास हो रहा था मानो ट्यूब लाईट की दूधिया रौशनी उनके साथ मानों आँख मिचौली खेल रही हो ।

कस कर शाल लपेटती हुई मानवी उठ खड़ी हुई  कि उसकी नजर  नीचे गिरी कलम पर पड़ी... अरे! कहते हुए उसने झुक कर  कलम उठा ली। 

ग्यारसी बाई! ....अंधेरा घिर आया है  .. चलो जल्दी घर जाओ... भीतर आते ही मानवी ने रसोई में काम करती ग्यारसी को चेताया। दीदी! पहले आप गरम गरम खाना खा लो फिर रसोई समेट कर चली जाऊंगी ग्यारसी बोली.... अरे... नहीं... नहीं...आज कुछ खाने का मन नहीं है बस सूप पीऊंगी, और वो  मैं बना लूंगी तुम जाओ ... ठंड बढ़ रही है, और हां सुबह जल्दी आना।

रसोई समेट सूप का कप हाथ में लिए मानवी सोफे पर बैठी ही थी कि कुछ चुभने के अहसास से उठ खड़ी हुई... देखा तो एक पैन जीभ निकाले मुंह बाए उसकी ओर देख रहा था। झुंझलाकर मानवी ने पैन उठाकर मेज पर पटक दिया और नैटफ्लिक्स पर अपनी पसंद का कोई प्रोग्राम ढूंढने लगी। आधे घण्टे की खोजबीन के बाद भी मनमाफिक प्रोग्राम ना पाकर खीझ उठी, न जाने क्या हो गया है समाज को   आजकल  न तो ढंग की कोई  फिल्म या सीरियल बन रहे हैं और ना ही कोई अच्छा मनोरंजन देखना चाहता है। जहां देखो वही बिना सिर पैर की ऊटपटांग सीरीज ...देखे भी तो कोई क्या देखे ... अपने आप से बात करते हुए दो घूंट में ही सूप का कप खाली कर मेज़ पर पड़े पैन को एक नजर देख, अनदेखा कर सोने के लिए अपने कमरे की ओर बढ़ गई।

पलंग का हाल देखकर मानवी झल्ला उठी...   दो डायरी, एक टैबलेट और भांति भांति के पैन पैन्सिल पूरे पलंग पर कब्जा किए थे। ओफ्फो .... तुम क्यों नहीं मेरा पीछा छोड़ते... कहीं भी रहूं वहीं पहुंच जाते हो। यूं लगा मानो मानवी उन सबके साथ बात कर रही हो, हटो एक तरफ,  मुझे नहीं है तुम्हारी जरूरत और मानवी ने सारा सामान हाथ से समेट कर एक तरफ़ कर दिया। सोने का उपक्रम करती मानवी ने एक उचाट सी नजर डायरी पर डाली... डायरी के पन्ने फड़फड़ा उठे मानो हाथ में उठाने का  निमंत्रण दे रहे हों ... तभी एक पैन भी लुढ़कता हुआ मानवी की उंगलियों से खेलने लगा जैसे कह रहा हो ... कब तक दूर रहोगी, तुम भले ही कितनी भी नाराज़ रहो हमसे, हम तुम्हारा साथ कभी नहीं छोड़ेंगे। हर हाल में तुम्हारा साथ देने का वादा जो किया  है तुमसे।

ये क्या...कुछ ही देर बाद कमरा शब्दों के कोलाहल से गूंज उठा... डायरी मानवी की गोद में विराजमान थी और पैन उसकी उंगलियों में। शब्द दर शब्द लय साधती गुनगुनाती मानवी एक नई रचना रचने में व्यस्त थी।



अर्चना सिंह 'अना'

 जयपुर

Comments

Popular posts from this blog

बुजुर्गों की सेवा कर सविता ने मनाया अपना जन्मदिन

भोपाल। प्रदेश की जानीमानी समाजसेवी सविता मालवीय का जन्मदिन अर्पिता सामाजिक संस्था द्वारा संचालित राजधानी के कोलार स्थिति सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पर वहां रहने वाले वृद्धजनों की सेवा सत्कार कर मनाया गया। यहां रहने वाले सभी बुजुर्गों की खुशी इस अवसर पर देखते बन रही थी। सविता मालवीय के सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पहुंचे उनके परिजनों और  सखियों ने सभी बुजुर्गों को खाना सेवाभाव से खिलाया और अंत में केक खिलाकर जन्मदिन के आयोजन को आनंदमय कर दिया। इस जन्मदिन कार्यक्रम को संपन्न कराने में सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया का महत्वपूर्ण सहयोग रहा। इस जन्मदिन अवसर को महत्वपूर्ण बनाने के लिए सविता मालवीय के परिजन विवेक शर्मा, सुनीता, सीमा और उनके जेठ ओमप्रकाश मालवीय सहित सखियां रोहिणी शर्मा, स्मिता परतें, अर्चना दफाड़े, हेमलता कोठारी, मीता बनर्जी आदि की उपस्थिति प्रभावी रही। सभी ने सविता को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की तो वहां रहने वाले बुजुर्गों ने ढेर सारा आशीर्वाद दिया। सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया ने जन्मदिन आश्रम आकर मनाने के लिए सविता माल

पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन द्वारा कॉपी किताब का वितरण

झुग्गी बस्ती के बच्चों को सिखाया सफाई का महत्व, औषधीय पौधों का वितरण किया गया भोपाल। पद्मावती संभाग की पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन महिला मंडल द्वारा प्राइम वे स्कूल सेठी नगर के पास स्थित झुग्गी बस्ती के गरीब बच्चों को वर्ष 2022 -23  हेतु कॉपियों तथा पुस्तकों का विमोचन एवं  वितरण किया गया। हेमलता जैन रचना ने बताया कि उक्त अवसर पर संभाग अध्यक्ष श्रीमती कुमुदनी जी बरया  मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। आपने पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा द्वारा की जाने वाली सेवा गतिवधियों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। मुख्य अतिथि का हल्दी, कुमकुम और पुष्पगुच्छ से स्वागत के पश्चात् अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में शाखा अध्यक्ष कल्पना जैन ने कहा कि उनकी शाखा द्वारा समय-समय पर समाज हित हेतु, हर तबके के लिए सेवा कार्य किये जाते रहे हैं जिसमें झुग्गी बस्ती के बच्चों को साफ़-सफाई का महत्व समझाना, गरीब बच्चों को कॉपी किताब का वितरण करना, आर्थिक रूप से असक्षम बच्चों की फीस जमा करना, वृक्षारोपण अभियान के तहत औषधीय तथा फलदार पौधों का वितरण आदि किया जाता रहा है। इस अवसर पर अध्यक्ष कल्पना जैन, चेयर पर्सन सुषमा जैन, उपाध्यक्ष

गो ग्रीन थीम में किया गर्मी का सिलिब्रेशन

एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने जमकर की धमाल-मस्ती भोपाल। राजधानी की एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने गो ग्रीन थीम में गर्मी के आगाज को सिलिब्रेट किया। ग्रुप की कहकशा सक्सेना ने बताया कि सभी जानते हैं कि अब गर्मी के मौसम का आगमन हो चुका है इसलिए पार्टी की होस्ट पिंकी माथे ने हरियाली को मद्देनजर रख कर ग्रीन थीम रखी। जबकि साड़ी की ग्रीन शेड्स को कहकशा सक्सेना ने इन्वाइट किया। इस पार्टी में सभी एंजेल्स स्नेहलता, कहकशा सक्सेना, आराधना, गीता गोगड़े, इंदू मिश्रा, पिंकी माथे, शीतल और वैशाली तेलकर ने अपना पूरा सहयोग दिया। सभी ने मिलकर गर्मी का स्वागत लाइट फ़ूड, बटर मिल्क, लस्सी और फ्रूट्स से पार्टी को जानदार बना दिया।