भोपाल उत्सव मेले में उठाएं 10 प्रकार के समोसे का लुफ्त


कुछ करने के जुनून ने दिया एक नया मुकाम, मेले में लगा स्टॉल 

भोपाल। कहते हैं कि जब आपके मन में कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो सारी कायनात उसे पूरा करने की कोशिश करने लगती है। कुछ ऐसा ही जुनून मन में ठान कर राजधानी की कटारा हिल्स निवासी श्रीमती आरती घोष ने जब घर में सामान्य रुप से बनने वाले समोसे को अपने हुनर के जरिए विभिन्न प्रकार देना शुरु किया तो उनको भी इतना अंदाजा नहीं था कि इतनी जल्दी वह भोपाल उत्सव मेले का हिस्सा बन जाएंगी। श्रीमती आरती घोष की एस्ट्रोलॉजर बेटी अर्पिता घोष ने अपनी मां की इस प्रतिभा को मानसिक प्रोत्साहन के जरिए बाजार का रुप देने की बात कही तो एक बारगी उन्हें भी अटपटा लगा। पर बच्चों की सलाह को उन्होंने अपनी जिद बनाकर यह भी पूरा कर दिखाया। लगभग आठ माह पहले आए हार्ट अटैक के बाद से तो आरती घोष ने अपनी समोसे बनाने की कला को और निखारने की प्रण ले लिया। वह 35 प्रकार के समोसे बनाने में महारत हैं। लोग समोसे के अलावा उनकी फलाहारी थाली के बहुत ज्यादा कायल हैं। फिलहाल आरती घोष घर से ही अपने सभी आर्डर पूरा करती हैं। 

 लोगों की पसंद बनते जा रहे समोसे

सुबह के नाश्ते में गरम गरम समोसे का नाम सुनकर कौन ऐसा होगा जो मना करेगा। अब तक आपने सिर्फ आलू के समोसे ही खाए होंगे। लेकिन भोपाल उत्सव मेले की स्टाल नंबर 2 की इस दुकान पर एक नहीं दो नहीं बल्कि 10 तरह के समोसे बनते हैं। सबसे खास बात तो यह है कि जो समोसे वर्तमान में लोगों की पसंद बन रहे हैं, वह फिलहाल राजधानी में और कहीं नहीं मिलते हैं। दुकान की मालिक आरती घोष ने बताया कि उनके बनाए 10 प्रकार के समोसे लोगों की पसंद बनते जा रहे हैं। इसकी वजह यह है की जो वैरायटी के समोसे उनकी दुकान पर उपलब्ध हैं, वैसे समोसे शायद ही आपको और कहीं पर मिलेंगे। उनके यहां 10 अलग-अलग प्रकार के समोसे उपलब्ध हैं, जो लोगों को खासा लुभा रहे हैं। हर समोसे के लिए अलग मसाला: आरती घोष ने बताया कि हर समोसे के लिए अलग प्रकार का मसाला तैयार करना पड़ता है। इसमें काफी समय भी लगता है। इस दौरान ग्राहकों की भीड़ को देखते हुए कई बार हमें स्टॉक में भी एक्स्ट्रा समोसे तैयार रखने पड़ते हैं, जो डिमांड मिलते ही तत्काल ग्राहकों को उपलब्ध कराया जा सके।

 लिस्ट में शामिल हैं कई समोसा 

भोपाल उत्सव मेले में फूडवट नाम से फेमस इस दुकान पर आलू समोसा, गोभी समोसा, मटर समोसा, मिक्सवेज समोसा, कॉनचीज समोसा, पनीर समोसा, सेजवान समोसा, ओनियन समोसा, चीज समोसा, सहित अन्य प्रकार के समोसे उपलब्ध हैं, जिनके दाम भी अलग-अलग हैं। 

अलग है हर समोसा

दुकान पर समोसों का स्वाद लेने पहुंचे सूरज चौरसिया ने बताया कि वह करौंद में रहते हैं। लेकिन उन्होंने मीडिया प्लेटफॉर्म पर इनका वैरायटी ऑफ समोसा देखा था। इसे देखने के बाद वे उन समोसों का स्वाद लेने चले आए। उन्होंने बताया कि इनके समोसे का स्वाद बेहद यूनिक है और जो दाम इन्होंने रखे हैं, उसको जस्टिफाई भी करता है। इसके अलावा पनीर समोसा खा रहे देवा रावत ने बताया कि समोसे का स्वाद वाकई काबिले तारीफ है। साथ में हरी चटनी और सॉस के साथ इसका स्वाद और भी बढ़ गया है। तो अगर आप भी समोसे खाने के शौकीन हैं और अलग-अलग वैरायटी के समोसों का लुत्फ लेना चाहते हैं तो एक बार इस दुकान पर अवश्य जाएं।
x

Comments

Popular posts from this blog

उपहार की गर्मजोशी से खिले गरीबों के चेहरे

चर्चा का विषय बना नड्डा के बेटे का रिसेप्शन किट

लंका पर भारत की विराट जीत, सेमीफाइनल में पहुंचा