तीसरा अंतरराष्ट्रीय योगिनी अवार्ड सम्मेलन 11 फरवरी को ऋषिकेश में



सम्मानित होंगी देश-विदेश की योगिनी

भोपाल। एडुजीलाइफ (एजुकेशन फार गर्ल लाइफ) संस्था और परमार्थ निकेतन ऋषिकेश तीसरा अंतरराष्ट्रीय योगिनी अवार्ड सम्मेलन 11 फरवरी को ऋषिकेश के परमार्थ निकेतन आश्रम में करने जा रही है। उक्त जानकारी देते हुए एडुजीलाइफ संस्था की संस्थापक अध्यक्ष एवं इंडिपेंडेंट डायरेक्टर, आईएल, भारी उद्योग मंत्रालय नई दिल्ली डॉ आर एच लता ने बताया कि यह योगिनी अवार्ड का तीसरा वर्ष है। इस कार्यक्रम का प्रमुख उद्देश्य देश-विदेश में योग का व्यापकता से प्रसार-प्रचार और इस क्षेत्र में वर्षों से कार्य कर रही मातृशक्ति को उन्नत और उच्च सहयोग एवं संबल प्रदान करना है। डॉ लता ने कहा कि देश में शिक्षा क्षेत्र के बाद सबसे अधिक महिलाएं योग के क्षेत्र में कार्य कर रही है। पर बहुतायत यह देखने में आता है कि उन्हें इस सेवा के प्रति प्रेरित नहीं किया जाता और सम्मान भी नहीं दिया जाता है। जबकि उनका योगदान समाज में निःस्वार्थ भाव से ज्यादा है। डॉ लता ने बताया कि भारत में विकसित भारत की प्रक्रिया के तहत नियोजित विभिन्न  क्षेत्रों को सहयोग करते हुए एडुजीलाइफ भारत के स्वर्णिम अमृत काल के लिए वचनबद्ध है।  इस भव्य कार्यक्रम की सहयोगी आयोजक  इंडियन स्कूल ऑफ इमेज मैनेजमेंट की फाउंडर सुश्री सोनिया दुबे दीवान ने सभी योगिनी अवार्ड बहनों को अग्रिम  शुभकामनाएं देते हुए कहा कि प्रत्येक राष्ट्र की प्रगति आधी आबादी की संपन्नता और प्रसन्नता पर निर्भर करती है। योग के क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी न केवल भारत बल्कि विश्व में भी अधिक है। इस योग की ऊर्जा को एडुजीलाइफ योगिनी अवार्ड और सम्मेलन के माध्यम से एकत्र करने का प्रयास कर रही है। अवॉर्ड के चयन में सशक्त जूरी मेंबर श्रीमती नयना सहस्त्रबुद्धे, उपाध्यक्ष स्त्री शक्ति संगठन, डा गीता सिंह, डायरेक्टर दिल्ली विश्वविद्यालय, डा शशि ठाकुर, सलाहकार, राष्ट्रीय महिला आयोग ने महत्वपूर्ण निर्णय दिया है।

चयनित 30 योगिनी बहनों को किया जाएगा सम्मानित 

डॉ आर एच लता ने बताया कि प्रथम वर्ष 11 दिसंबर को तीन मूर्ति भवन , (वर्तमान में प्रधानमंत्री संग्रहालय)  दिल्ली में आयोजित इस कार्यक्रम में 22 राज्यों की प्रभावशाली योगिनी सम्मिलित हुई थी। दूसरे वर्ष इसमें 7 राष्ट्रों की योगिनी भी सम्मिलित रही है। इस वर्ष यह संख्या 30 है।
योगिनी अवार्ड में पांच प्रमुख केटेगरी है। पहला लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड, दूसरा रीसर्च के लिए गार्गी अवार्ड, तीसरा साधना के लिए शिवानी योगिनी अवार्ड, चौथा संस्थागत कार्य के लिए गौणिका अवार्ड, पांचवा योग के प्रचार के लिए मैत्रेई अवार्ड शामिल है। यह कार्यक्रम दो सत्रों में संपन्न होगा। प्रथम सत्र में कांफ्रेंस जिसमें योगिनी बहनों के पेपर प्रस्तुत किए जाएंगे और द्वितीय सत्र में अवार्ड का आयोजन होगा।


यह हस्तियां होंगी आयोजन की साक्षी  

डॉ लता ने बताया कि इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में  पूज्य स्वामी चिदानंद सरस्वती, साध्वी भगवती सरस्वती, इंडियन योगा एसोसिएशन के मुख्य सचिव और सी इओ कैवल्यधाम लोनावला सुबोध तिवारी, व्यासा सिंगापुर के डायरेक्टर मनोज ठाकुर, डा सुबोध शर्मा, नेपाल सांसद बालासोर, प्रताप सारंगी सहित कई गणमान्य जन शामिल होंगे। 

देश-विदेश की योगिनी होंगी शामिल 

डॉ लता ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय योगिनी अवार्ड सम्मेलन में शामिल होने वाली योगिनी बहनों में से अतंरराष्ट्रीय योगिनी सहित भारत से शामिल होने वाली अंडमान निकोबार द्वीप से लेकर जम्मू और गुजरात से लेकर मणिपुर तक की योगिनी सम्मान प्राप्त करेंगी। जिसमें जापान से शामिल होने वाली प्रसिद्ध सुश्री सुना मून प्रमुख हैं।

Comments

Popular posts from this blog

उपहार की गर्मजोशी से खिले गरीबों के चेहरे

चर्चा का विषय बना नड्डा के बेटे का रिसेप्शन किट

लंका पर भारत की विराट जीत, सेमीफाइनल में पहुंचा