वोकल फॉर लोकल : वो कोशिश कर रहे हैं हमारे घर दीपक जले, थोड़ा हम एक कदम बढ़ाए और स्वदेशी अपनायें



- इस दिवाली सोशल मीडिया पर  पर होने लगा Vocal for local ट्रेंड, यूजर्स ने की देसी सामान अपनाने की अपील

नई दिल्ली। दिवाली की तैय्यारियां शुरू गो गई हैं. में रौनक नजर आ रही है। घर सजाने के सामान से लेकर दिवाली पूजन सामग्री से बाजार अटे पड़े है। इस बार भी वोकल फॉर लोकल का नारा है। सबसे ज्यादा अट्रैक्टिव दीये, कैंडल, लाइट, सजावट सामग्री लोकल ही डिमांड में हैं। ऐसे में भारतीय बहुभाषीय ऐप पर भी लोग वोकल फॉर लोकल  को इतना सपोर्ट कर रहे हैं कि ट्रेंड होने लगा. अनगिनत लोग Koo कर ना केवल मिट्टी के दिए बनाने धन्यवाद कर रहे हैं बल्कि साथ ही लोगो से अपील भी कर रहे हैं कि वो देशी सामान अपनाएं और देश को मजबूत करें. हलांकि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने भी हाल ही में लोगों को 'वोकल फॉर लोकल' की याद दिलाई। वाराणसी में प्रधानमंत्री कहा था कि हमें इस दिवाली में भी अपने स्‍थानीय कामगारों का ख्‍याल रखना है। हम जितना अधिक 'वोकल फॉर लोकल' होंगे, उतना ही हमारे परिवारों में खुशहाली आएगी। उन्‍होंने लोगों से धनतेरस से दीवाली तक स्‍थानीय उत्‍पादों की खरीदारी का आह्वान किया था। इसके साथ यह भी कहा कि लोकल का मतलब सिर्फ मिट्टी के दीये नहीं हैं। पीएम मोदी की इस अपील के बाद लोगों लोगो में और भी ज़्यादा उत्साह बढ़ गया.




Comments

Popular posts from this blog

विभा श्रीवास्तव ने जताया मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री का आभार

21 को साल की सबसे लम्बी रात के साथ आनंद लीजिये बर्फीले से महसूस होते मौसम का

मानदेय में बढ़ोतरी पर आशा कार्यकर्ताओं एवं सहयोगियों में खुशी की लहर