दुःख की घड़ी में प्रदेश सरकार आपके साथ : चौधरी

स्कूल शिक्षा मंत्री ने मृतक के परिजन एवं घायलों को दिए आर्थिक सहायता के चेक


रायसेन। गैरतगंज बस स्टेण्ड पर गत 29 जून को तेज हवाओं के चलते विद्युत तार टूटकर गिरने से गैरतगंज तहसील के ग्राम बीनापुर निवासी भीकम सिंह दांगी की मृत्यु हो गई थी तथा सात अन्य व्यक्ति घायल हो गए थे। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने मृतक भीकम सिंह दांगी की पत्नी वंदना को स्वीकृत चार लाख रूपए की आर्थिक सहायता का चेक मृतक के पिता लाखन सिंह को प्रदान किया। इसके साथ ही घायल हुए अन्य 7 लोगों को भी 10-10 हजार रूपए की आर्थिक सहायता राशि का चेक प्रदान किया।
स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने मृतक भीकम सिंह दांगी के परिजनों को ढांढस बंधाते हुए कहा कि दुख की इस घड़ी में प्रदेश सरकार उनके साथ है। उन्होंने इस दुर्घटना में घायल हुए लोगों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की। स्कूल शिक्षा मंत्री ने इस दुर्घटना में घायल हुए श्यामलाल नागझिर, पवन सेन, लाला प्रसाद पड़रियागंज, सजन कुशवाह देवनगर, जय सिंह चांदोनीगढ़ी, कैलाश गैरतगंज,  अरविंद बीनापुर तथा मृतक भीकम सिंह दांगी की पत्नी वंदना को 10-10 हजार रूपए की आर्थिक सहायता का चेक प्रदान किया।
उल्लेखनीय है कि गत 29 जून को गैरतगंज बस स्टेण्ड पर तेज हवाओं के चलने से पेड़ की टूटकर 11केवी विद्युत लाईन पर गिर गई थी। जिस कारण विद्युत लाईन टूटकर नीचे गिर गया था। इस दुर्घटना में भीकम सिंह दांगी की मृत्यु की हो गई थी तथा सात अन्य लोग घायल हो गए थे। घटना के तुरंत बाद स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी तथा कलेक्टर  उमाशंकर भार्गव घायलों को देखने जिला चिकित्सालय पहुंचे थे। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने कलेक्टर उमाशंकर भार्गव को मृतक के परिजन तथा घायलों को शीघ्र आर्थिक सहायता स्वीकृत करने के निर्देश दिए थे। जिला प्रशासन द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए उसी दिन मृतक के परिजनों को चार लाख रूपए की आर्थिक सहायता तथा घायलों को रेडक्रास से 10-10 हजार रूपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई थी। इस अवसर पर डिप्टी कलेक्टर सुश्री प्रियंका मिमरोट तथा नायब तहसीलदार एके जैन उपस्थित थे।


 


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन