मिशन- 2020 को लेकर सपाक्स पार्टी की बैठक संम्पन्न


हस्ताक्षर अभियान, ज्ञापन, जनजागृति यात्रा की बनी रणनीति


भोपाल । सपाक्स पार्टी जातिगत आरक्षण एवं एट्रोसिटी एक्ट के विरोध में तथा लोकसभा एवं विधानसभा में आरक्षण की अवधि पुनः यथावत न बढ़ाकर उसमें संशोधन करने हेतु पूरे देश में जन जागृति यात्रा निकालेगी। इस संबंध में भोपाल में सपाक्स पार्टी की मिशन 2020 की समिति की बैठक राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरालाल त्रिवेदी की अध्यक्षता में हुई। इस बैठक में निम्नलिखित निर्णय लिए गए। पहले चरण में अपने मुद्दों के बारे में प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन को जनता के सामने रखकर मध्यप्रदेश सहित बिहार, उप्र, एवं दिल्ली में प्रत्येक जिले में हस्ताक्षर अभियान चलाया जायेगा। प्रत्येक माह की 20 तारीख को यह ज्ञापन सांसद एवं कलेक्टर को दिए जाएंगे। माह अगस्त व सितंबर में मध्यप्रदेश सहित बिहार, उप्र, दिल्ली प्रदेश के प्रत्येक जिले में जिलेवार जन जागृति यात्रा आयोजित की जाएगी। यह यात्रा जिले के किसी नियत स्थान से प्रारम्भ होकर कलेक्ट्रेट कार्यालय तक रैली के रूप में चलेगी। यात्रा से पूर्व ज्ञापन के विषय में परिचर्चा व संवाद कर जनता को आरक्षण से होने वाले घातक परिणामों से अवगत कराया जाय। कलेक्ट्रेट में प्रधानमंत्री को सम्बोधित किया गया ज्ञापन कलेक्टर के समक्ष पढ़ा जायगा तथा उन्हें सौंपा जायेगा, तत्पश्चात् यह ज्ञापन सांसद को दिया जायेगा। इस यात्रा में आरक्षण में आए दोषों की जानकारी आम जनता को दी जाएगी। विशेषकर जातिगत आरक्षण खत्म करने तथा एक बार के पश्चात दूसरी बार आरक्षण न देने जैसे मुद्दों पर चर्चा होगी। सांसद और विधायक के आरक्षित क्षेत्रों को समाप्त करने या संशोधित करने जिससे उस परिवार को दोबारा आरक्षण का लाभ नहीं मिले जो एक बार लाभ के चुके हैं, जैसे मुद्दे होंगे।
भोपाल चलो के आव्हान् के साथ 29 एवं 30 सितंबर को राज्य स्तरीय जनजागृति यात्रा जिलों से प्रारम्भ होकर राजधानी भोपाल तक आयोजित की जाएगी। भोपाल में 30 सितम्बर को दोपहर पश्चात जन जागृति यात्रा का महासम्मेलन होगा। इसके पश्चात दिल्ली कूच की तैयारियां प्रारम्भ की जाएगी। नवंबर से भोपाल से दिल्ली कूच करने की जन जागृति यात्रा आयोजित होगी। रास्ते मे इस यात्रा में उप्र, राजस्थान, बिहार हरियाणा एवं दिल्ली की यात्राएं शामिल होंगी। भोपाल से चलकर यात्रा 5-6 पड़ावों पर रुकती हुयी दिल्ली पहुंचेगी। दो पड़ावों के मध्य 2-3 पूर्व से चयनित स्थानों पर नुक्कड़ सभाऐं अथवा बड़ी सभाऐं आयोजित की जायंगी। 5 या 6 नवम्बर को यात्रा के दिल्ली पहुंचने पर यात्रा का समापन एक सम्मेलन में होगा जिसमें केंद्र सरकार और सभी सांसदों को आरक्षण के दुष्प्रभाव के बारे में बताते हुए इसे पुनः यथावत आगे न बढ़ाने की चेतावनी दी जाएगी। यहाँ से यह यात्रा एक रैली के रूप में प्रधानमंत्री कार्यालय तक जायेगी, जहाँ प्रधानमंत्री को ज्ञापन देकर आरक्षण का कार्यकाल पुनः न बढा़ये जाने की अपील की जायेगी।


यात्रा निकालने सौंपी जिम्मेदारी


जो जनजागृति यात्रा निकाली जाएगी उसमें समन्वय करने तथा जिलेवार जिम्मेदारी सौंपने के लिए कुछ पदाधिकारियों को दायित्व दिया गया है। इनमें बीके बक्शी भोपाल कार्यालय में राज्य समन्वयक, अरुण गोरख सह समन्वयक उज्जैन संभाग के लिए जियालाल शर्मा प्रदेश उपाध्यक्ष के मार्गदर्शन में अजेंद्र त्रिवेदी, आगर, शाजापुर एवं देवास के समन्वयक तथा दीपक व्यास युवा मोर्चा सह समन्वयक रहेंगे। इंदौर संभाग के लिए अनुराग गोयल प्रदेश उपाध्यक्ष का कार्य देखेंगे। वे उज्जैन संभाग के नीमच, मंदसौर एवं रतलाम जिले में भी समन्वय का कार्य कर स्थानीय जिलो से विचार विमर्श कर जिला यात्रा समितियां बनाये। उक्त निर्णयों के क्रियान्वयन की जिम्मेदारी मध्यप्रदेश, उप्र, बिहार एवं दिल्ली प्रदेश इकाई को सौंपी गई है। महाराष्ट्र, राजस्थान हरियाणा में भी शीघ्र पार्टी की राज्य इकाई बनाने एवं उक्त जिम्मेदारी सौपने पर भी चर्चा हुई। प्रदेश इकाई सभी यात्राओं की जानकारी मिशन-2020 की प्रभारी वीणा घाणेकर एवं जन-जागृति यात्रा प्रभारी कुलदीप सक्सैना को देगी। यात्रा की तारीख 10 दिन पूर्व घोषित करनी होगी।


यह रहे मौजूद


बैठक में सपाक्स पार्टी की कार्यवाहक अध्यक्ष डॉ वीणा घाणेकर, विधि प्रकोष्ठ के अध्यक्ष अनिल चतुर्वेदी, राष्ट्रीय महासचिव हरिओम गुप्ता, राष्ट्रीय सचिव सुरेश शुक्ला, मप्र के महासचिव संतोष ढिमोले, प्रदेश युवा मोर्चा के अध्यक्ष राहुल राजपूत, सहित बीके बक्षी, अरुण गोरख, प्रदीप नायर, आशीष जैन, डॉ एसके जैन, अनिकेश पांडे, शैलेन्द्र तिवारी, सुभाष शर्मा, रिषि मिश्रा सहित कई पदाधिकारी मौजूद थे।


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन