सरकार के केंद्र बिंदु में गांव, गरीब और किसान, 2022 तक सभी के पास होगा घर


वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एनडीए-2 सरकार का पहला बजट पेश किया


नई दिल्ली ।  वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को एनडीए-2 सरकार का पहला बजट पेश किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि सरकार के केंद्र बिंदु में गांव, गरीब और किसान हैं। इन्हीं को देखते हुए सरकार योजना तैयार करती है। उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि 2022 तक सभी ग्रामीण परिवारों के पास अपना घर होगा। इसके अलावा 2024 तक सबको स्वच्छ जल का लक्ष्य रखा गया है।सीतारमण ने कहा, अगले पांच साल में 1.95 करोड़ घर बनाए जाएंगे। सभी गरीबों के पास 2022 तक अपना घर होगा। गैस-बिजली कनेक्शन और टॉयलेट होंगे। उन्होंने कहा कि सरकार की पहल ग्रामीण परिवार के जीवन में बदलाव लाना है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत प्रति मकान निर्माण में औसत 314 दिन का वक्त लगता था, अब सरकार इसे 114 दिन तक ले आई है। उन्होंने कहा, भारतमाला, सागरमाला और उड़ान जैसी योजनाएं ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के बीच की खाई को कम कर रहीं हैं और ट्रांसपोर्ट सेवाएं बेहतर कर रही हैं। हरित तकनीकी के तहत 30 हजार किमी सड़क का निर्माण किया जाएगा। इसके अलावा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत, 80 हजार करोड़ की लागत से 1.25 लाख किमी रोड बनाए जाएंगे। इसके लिए सरकार ने पेट्रोल डीजल पर रोड एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर सेस लगाया है।


प्रत्येक घर को 2024 तक स्वच्छ और पर्याप्त जल


वित्तमंत्री सीतारमण ने कहा है कि जल संकट से निपटने के लिए गठित जल शक्ति मंत्रालय के तहत, प्रत्येक घर को 2024 तक स्वच्छ और पर्याप्त जल उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस मकसद से सरकार ने जल से जुड़े सभी मंत्रालयों को जोड़कर जल शक्ति मंत्रालय बनाया है। यह मंत्रालय राज्य सरकारों के साथ मिलकर हर घर को जल उपलब्ध कराने के मिशन के साथ काम करेगा।


10 हजार नए किसान उत्पादक संगठनों का होगा निर्माण


सीतारमण ने कहा, 10 हजार नए किसान उत्पादक संगठनों का अगले 5 साल में निर्माण किया जाएगा। जीरो बजट खेती पर जोर दिया जाएगा। खेती के बुनियादी तरीकों पर लौटना इसका उद्देश्य है। इसी से किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य पूरा होगा। खाद्यानों, दलहनों, तिलहनों, फलों और सब्जियों की स्व-पर्याप्तता और निर्यात पर विशेष रूप से जोर दिया गया है।


सोना- चांदी पर कस्‍टम ड्यूटी 12 फीसदी होगी



इस बजट में आमजन को जहां कई राहतें दी गई हैं, वहीं इस बजट में सोना पर शुल्क बढ़ाया गया है। सोना-चांदी के आयात पर 2 प्रतिशत कस्‍टम ड्यूटी बढ़ाई गई है। इससे पहले सोना और अन्य बहुमूल्य धातुओं पर 10 फीसदी कस्टम ड्यूटी लगती थी, जिसे अब बढ़ाकर 12.5 फीसदी कर दिया गया है। इससे अब देश में सोना- चांदी खरीदना महंगा हो जाएगा।
इसके अलावा पेट्रोल- डीजल पर एक्साइज ड्यूटी बढ़ाने का प्रस्ताव रख सरकार ने आम जनता को झटका दिया है। वित्‍त मंत्री ने पेट्रोल- डीजल की कीमतों पर एक रुपए प्रति लीटर का विशेष अतिरिक्‍त एक्‍साइज ड्यूटी और इतना ही रोड एंड इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर उपकर लगाने की बात कही है। इससे पेट्रोल- डीजल अब दो रुपए प्रति लीटर महंगा हो जाएगा।


वस्तुओं का भाव बढ़ेगा


पेट्रोल- डीजल के दाम बढ़ने से रोजमर्रा के उपयोग में आने वस्तुओं पर सीधा असर पड़ेगा। दरअसल डीजल मंहगा होने के चलते एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने आने वाली वस्तुओं का चार्ज बढ़ जाएगा। ऐसे में इन वस्तुओं का भाव बढ़ेगा। 


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन