औद्योगिक निवेश के मामले में, मध्यप्रदेश बनेगा देश का ‘रोल माॅडल’ : शोभा ओझा


कमलनाथ का मुंबई दौरा, प्रदेश में निवेश लाने की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा


भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने अपने बयान में कहा कि जब से मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी है, तब से हर वर्ग में एक विश्वास का वातावरण पैदा हुआ है और इसमें मुख्यमंत्री कमलनाथ की व्यक्तिगत, विश्वसनीय छवि का अहम योगदान है। यदि हम कमलनाथ सरकार के लगभग सात महीनों के कार्यकाल की तुलना, पिछले पंद्रह वर्षों के भाजपाई जंगलराज से करें, तो हम पाएंगे कि हर क्षेत्र में, कांग्रेस सरकार ने, तुलनात्मक रूप से बेहतर प्रदर्शन किया है। किसानों, व्यापारियों के साथ ही, प्रदेश के उद्योग जगत में भी, एक नई आशा का संचार हुआ है क्योंकि कमलनाथ, प्रदेश में औद्योगिक निवेश का वातावरण बनाने के लिए, पूरी तन्मयता से लगे हुए हैं।
श्रीमती ओझा ने अपने बयान में कहा कि प्रदेश में औद्योगिक निवेश को आमंत्रित करने के संदर्भ में, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने मुंबई दौरे पर यह कहा कि मेरा प्रयास है कि मध्यप्रदेश में एक विश्वास का वातावरण बने, क्योंकि निवेश तभी आता है, जब एक विश्वास का वातावरण पैदा होता है, मैं इसको लेकर प्रयासरत हूं। मध्यप्रदेश के पास बहुत सारे मौके हैं कि यहां निवेश आये। हमारे पास हर क्षे़त्र में मौके हैं, इसलिए मैं इस दौरे पर कई उद्योगपतियों से चर्चा करूंगा और उनका विश्वास प्रदेश को कैसे मिले, इस पर बातचीत करूंगा। चूंकि मैं स्वयं निवेश से जुड़ा हुआ हूं, अतः इस बात को जानता हूं कि इससे हमारे नौजवानों का भविष्य बनेगा, प्रदेश में अर्थिक गतिविधि बढे़गी, जिससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। मैं उद्योगपतियों से चर्चा कर, यह जानने का प्रयास करूंगा कि उनकी क्या सोच है? हमारी निवेश नीति कैसी हो? हम ऐसी निवेश नीति बनाएंगें, जो जिलों पर आधारित हो, जो रोजगार पर आधारित हो और जिससे आर्थिक गतिविधियां बढ़ें।
मध्यप्रदेश में औद्योगिक निवेश को आकर्षित करने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा, मुंबई में व्यक्त उपरोक्त विचारों का उल्लेख करते हुए, श्रीमती ओझा ने आगे बताया कि अपने अल्प कार्यकाल में ही, कमलनाथ सरकार ने प्रदेश में इंडिया सीमेंट्स, एचईजी, वंडर सीमेंट्स, प्राॅक्टर एंड गैम्बल, श्री राम पिस्टन जैसे बड़े उद्योगों को आकर्षित कर, लगभग 6000 करोड़ के निवेश के साथ ही लगभग 7600 सौ प्रत्यक्ष रोजगारों को सृजित करने का प्रशंसनीय और अभूतपूर्व कार्य किया है।  श्रीमती ओझा ने कहा कि प्रदेश के युवाओं को 70 प्रतिशत रोजगार, नये उद्योगों में देना अनिवार्य करना, कमलनाथ सरकार का ऐतिहासिक फैसला है, जिससे प्रदेश के युवाओं को रोजगार तो मिलेगा ही, अब तक बड़े पैमाने पर हो रहा प्रतिभा पलायन भी रूकेगा। श्रीमती ओझा ने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि महंगी-महंगी इन्वेस्टर्स मीटों में करोड़ों रूपयों का अपव्यय करने के बाद भी, शिवराज सरकार मध्यप्रदेश में शून्य उद्योग और शून्य रोजगार ला पाई। इसके विपरीत अपने कार्यकाल के प्रारंभ में ही, बडे़ औद्योगिक निवेशों को प्रदेश में आकर्षित कर, कमलनाथ सरकार ने, इस बात के स्पष्ट संकेत दे दिये हैं कि अगले पांच वर्षों में मध्यप्रदेश औद्योगिक निवेश के मामले में, देश का 'रोल माॅडल' होगा।


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन