वर्षा रावल की कविता - आजादी का रक्षाबंधन


आज़ादी का रक्षाबंधन....


आओ भैया कि
इस रक्षाबंधन 
मुझे आज़ाद करवा दो.....


जनमों के मकड़जाल से
सदियों से निकलने की
कोशिश में
उलझती जा रही हूं
उलझन सुलझा दो ...


आओ भैया कि
इस रक्षाबंधन मुझे
आज़ाद करवा दो.....


निष्कासित सीता को
निकाल लो
धरती का सीना चीरकर,
अहिल्या को श्राप मुक्ति दे दो
पत्थर के स्पंदित के होने तक....


आओ भैया कि
इस रक्षाबंधन मुझे
आज़ाद करवा दो.…....


कि छिटकी हुई यशोधरा 
बोती रही है बच्चे में इंसानियत
दे दो कलाई अपनी
बांध दूं सारी दुआएं .....
सर पर हाथ रख दो
साईं बनकर........


आओ भैया कि
इस रक्षाबंधन हमें
आज़ाद करवा दो .......


हर बहन को,
उसके अंदर की स्त्री को
सदियों से लगी हुई
गुलामी की बेड़ियों से.....



वर्षा@


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन