Skip to main content

105 करोड़ के फायदे को 21 करोड़ के गर्त में पहुँचाया


अपेक्स बैंक को दीमक की तरह चट कर रहीं सहकारिता के भ्रष्ट अफसरों की कुदृष्टि


संदीप सिंह गहरवार


भोपाल। बिन सहकार नहीं उद्धार की मूल भावना पर तैयार की गई सहकारिता की नींव किसानों के लिए फायदे की जगह परेशानी का सबब बन गई है। अफसरों की जुगलबंदी और भ्रष्टाचार युक्त आचरण ने इसके पवित्रता पर कालिख पोत दी है। विगत डेढ़ दशकों में जिस सहकारिता को राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. सुभाष यादव ने अपने खून-पसीने से सींच कर कामयाबी की बुलंदियों तक पहुँचाया था, उसे इन निक्कम्मे और भ्रष्ट अधिकारियों ने गर्त की ओर ढकेल दिया है। सहकारिता की ऐसी दुर्गति देखकर तो स्व. यादव की आत्मा भी सिहर उठती होगी, कि क्या ऐसे दिन के लिए सहकारिता को किसानों की उन्नति का ढाल बनाया था।  विडंबना यह है कि पूर्व उप मुख्यमंत्री स्व. यादव की भावनाओं की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने तो सिरे से नकारते हुए भ्रष्टाचार का ऐसा कुचक्र चला कि सहकारिता की मूल भावना ही गम हो गई। पर वर्तमान कांग्रेस सरकार भी इसमें सुधार करने के बजाय उन्हीं भ्रष्ट अधिकारियों को ही आगे बढ़ा रही है जिन्होंने इसका बेड़ा गर्ग करने में महती भूमिका निभाई है। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार भी इस पर कुछ कठोर दण्डात्मक निर्णय लेने की जगह हाथ पर हाथ धरे बैठी है। सहकारिता विभाग के भ्रष्टाचार की बानगी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि अपेक्स बैंक के कुछ महीनों तक ही प्रभारी अधिकारी रहे अधिकारी रहे हो या बैंक के प्रभारी प्रबन्ध संचालक का जिम्मा सभाल रहे सहकारिता विभाग के भ्रष्ट अफसर। सब ने अपेक्स बैंक में भ्रष्टाचार की ऐसी कालिख पोती है कि 105 करोड़ के फायदे वाला बैंक महज 21 करोड़ 24 लाख के फायदे में पहुंच गया। यानी अपेक्स बैंक का मुनाफा पांच गुना घट गया है। बैंक के इस लाभांश को देखकर यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्रभारी प्रबन्ध संचालक प्रदीप नीखरा सहित अपेक्स बैंक और सहकारिता विभाग के अन्य अफसरों की कुदृष्टि किस कदर बैंक को दीमक की तरह चट कर रही है। 


अफसरों की मनमानी से 4 करोड़ आयकर में फंसे




अफसरों की मनमानी एवं भ्रष्टाचार के चलते अपेक्स बैंक का 4 करोड़ रूपया आयकर विभाग में फंसा हुआ है। इस पैसे के लौटने की संभावनाएं फिलहाल देर से हैं। दरअसल अपेक्स बैंक के अफसरों ने मार्च 19 में आयकर में जमा करने वाले एडवांस टैक्स में बैंक की आमदनी 12 करोड ज्यादा बता दी। बैंक अफसरों की इस लापरवाही के चलते आय का 31 फीसदी टैक्स यानी 4 करोड़ रुपया आयकर विभाग में ज्यादा चला गया। हलाकि बैंक बाद में इस पैसे के वापस आने की उम्मीद पर बैठा है, पर यह कब आएगा इसकी कोई मियाद अभी समझ मे नहीं आ रही है। इस मामले में अपेक्स बैंक के सहायक महाप्रबंधक (लेखा) उमेश रंगडाले और प्रभारी प्रबन्ध संचालक प्रदीप नीखरा की बड़ी लापरवाही सामने आई है। इन दोनों ही अफसरों पर इस महत्वपूर्ण कार्य की मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी है। जानकारी के अनुसार हाल ही में एजीएम ग्वालियर द्वारा अपेक्स बैंक की जो बैलेंस सीट फाइनल की है, उसके अनुसार अभी तक बैंक का शुद्ध लाभ 21 करोड़ 24 लाख बताया है। 


नीखरा और केसरी की ऐसी जुगलबंदी की दोनों दूसरी बार जमे

अपेक्स बैंक के प्रभारी प्रबन्ध संचालक प्रदीप नीखरा एवं सहकारिता विभाग के प्रमुख सचिव अजीत केसरी की आपस में कितनी जुगलबंदी हैं कि दोनों अफसर एक बार फिर एक साथ सहकारिता के उद्देश्य की दुर्गति में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। नीखरा की करामात पर पर्दा डालने में प्रमुख सचिव सहकारिता अजीत केसरी का बड़ा हाथ है। नीखरा इसके पहले 31 अक्टूबर 2014 से अक्टूबर 2017 तक अपेक्स बैंक के प्रभारी प्रबन्ध संचालक रहे। भ्रष्टाचार की शिकायतों के चलते उन्हें इस पद से हटाया गया था। सरकार बदलते ही फरवरी 2019 से दूसरी बार नीखरा अपेक्स बैंक के प्रभारी प्रबन्ध संचालक का पद हथियाने में कामयाब रहे। बैंक के इतिहास में यह पहला मौका है जब कोई प्रबन्ध संचालक दूसरी बार बना हो। वहीं अजीत केसरी भी दूसरी बार सहकारिता के प्रमुख सचिव बने हैं।

प्रशासक की छवि को लग रहा बट्टा : 

अपेक्स बैंक अफसरों की काली करतूतों के कारण बैंक के प्रशासक अशोक सिंह की छवि भी धूमिल हो रही है। अपनी साफ सुथरी छवि के लिए पहचाने जाने वाले ग्वालियर-चंबल क्षेत्र के कद्दावर कांग्रेस नेता अशोक सिंह को कुछ महीने पहले ही अपेक्स बैंक का प्रशासक सरकार द्वारा बनाया गया है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने जिस भरोसे के साथ श्री सिंह को सहकारिता की बिगड़ी छवि को पयरी पर लाने की जिम्मेदारी सौंपी है, वह इन अफसरों की काली कमाई के फेर में उलझती नजर आ रही है। 

इनका कहना है :-

-मुझे मामले की जानकारी नहीं है, पर इस तरह की चूक गम्भीर बात है। मैं इसे दिखवाता हूं, और प्रयास करूंगा कि ऐसी भूल आगे न हो। 

अशोक सिंह
प्रशासक, अपेक्स बैंक


 


Comments

Popular posts from this blog

बुजुर्गों की सेवा कर सविता ने मनाया अपना जन्मदिन

भोपाल। प्रदेश की जानीमानी समाजसेवी सविता मालवीय का जन्मदिन अर्पिता सामाजिक संस्था द्वारा संचालित राजधानी के कोलार स्थिति सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पर वहां रहने वाले वृद्धजनों की सेवा सत्कार कर मनाया गया। यहां रहने वाले सभी बुजुर्गों की खुशी इस अवसर पर देखते बन रही थी। सविता मालवीय के सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पहुंचे उनके परिजनों और  सखियों ने सभी बुजुर्गों को खाना सेवाभाव से खिलाया और अंत में केक खिलाकर जन्मदिन के आयोजन को आनंदमय कर दिया। इस जन्मदिन कार्यक्रम को संपन्न कराने में सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया का महत्वपूर्ण सहयोग रहा। इस जन्मदिन अवसर को महत्वपूर्ण बनाने के लिए सविता मालवीय के परिजन विवेक शर्मा, सुनीता, सीमा और उनके जेठ ओमप्रकाश मालवीय सहित सखियां रोहिणी शर्मा, स्मिता परतें, अर्चना दफाड़े, हेमलता कोठारी, मीता बनर्जी आदि की उपस्थिति प्रभावी रही। सभी ने सविता को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की तो वहां रहने वाले बुजुर्गों ने ढेर सारा आशीर्वाद दिया। सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया ने जन्मदिन आश्रम आकर मनाने के लिए सविता माल

पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन द्वारा कॉपी किताब का वितरण

झुग्गी बस्ती के बच्चों को सिखाया सफाई का महत्व, औषधीय पौधों का वितरण किया गया भोपाल। पद्मावती संभाग की पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन महिला मंडल द्वारा प्राइम वे स्कूल सेठी नगर के पास स्थित झुग्गी बस्ती के गरीब बच्चों को वर्ष 2022 -23  हेतु कॉपियों तथा पुस्तकों का विमोचन एवं  वितरण किया गया। हेमलता जैन रचना ने बताया कि उक्त अवसर पर संभाग अध्यक्ष श्रीमती कुमुदनी जी बरया  मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। आपने पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा द्वारा की जाने वाली सेवा गतिवधियों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। मुख्य अतिथि का हल्दी, कुमकुम और पुष्पगुच्छ से स्वागत के पश्चात् अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में शाखा अध्यक्ष कल्पना जैन ने कहा कि उनकी शाखा द्वारा समय-समय पर समाज हित हेतु, हर तबके के लिए सेवा कार्य किये जाते रहे हैं जिसमें झुग्गी बस्ती के बच्चों को साफ़-सफाई का महत्व समझाना, गरीब बच्चों को कॉपी किताब का वितरण करना, आर्थिक रूप से असक्षम बच्चों की फीस जमा करना, वृक्षारोपण अभियान के तहत औषधीय तथा फलदार पौधों का वितरण आदि किया जाता रहा है। इस अवसर पर अध्यक्ष कल्पना जैन, चेयर पर्सन सुषमा जैन, उपाध्यक्ष

गो ग्रीन थीम में किया गर्मी का सिलिब्रेशन

एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने जमकर की धमाल-मस्ती भोपाल। राजधानी की एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने गो ग्रीन थीम में गर्मी के आगाज को सिलिब्रेट किया। ग्रुप की कहकशा सक्सेना ने बताया कि सभी जानते हैं कि अब गर्मी के मौसम का आगमन हो चुका है इसलिए पार्टी की होस्ट पिंकी माथे ने हरियाली को मद्देनजर रख कर ग्रीन थीम रखी। जबकि साड़ी की ग्रीन शेड्स को कहकशा सक्सेना ने इन्वाइट किया। इस पार्टी में सभी एंजेल्स स्नेहलता, कहकशा सक्सेना, आराधना, गीता गोगड़े, इंदू मिश्रा, पिंकी माथे, शीतल और वैशाली तेलकर ने अपना पूरा सहयोग दिया। सभी ने मिलकर गर्मी का स्वागत लाइट फ़ूड, बटर मिल्क, लस्सी और फ्रूट्स से पार्टी को जानदार बना दिया।