Skip to main content

ध्वस्त होती राहत की उम्मीदें


 कुणाल चौधरी   


दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत के प्रधानमंत्री का अपने देश के लोगों से बात करना इसलिए भी खास होता है क्योंकि वे दूसरी बड़ी आबादी वाले देश का भी प्रतिनिधित्व करते है।  इस समय भारत वैश्विक चुनौती से बुरी तरह जूझ रहा है। देश में लॉकडाउन है और करोड़ों गरीब मजदूर,किसान समेत सभी के लिए यह बेहद कठिन समय है। शुक्रवार सुबह 9 बजे भारत की डेढ़ अरब जनता की निगाहें टीवी पर जमी हुई थी और उनकी आशाओं में प्रधानमंत्री थे,जिनसे इस दुख और  चुनौतीपूर्ण वातावरण में राहत की बहुत सारी उम्मीदें थी। लॉकडाउन और कर्फ़्यू के इन दस दिनों में देश ने हजारों गरीब और मजदूरों को अपने सिर पर सामान ढोकर सैकड़ों किलोमीटर सफर तय करते हुए भी देखा है,भूख से लोगों को मरते हुए भी देखा है और कई परिवारों के सुनहरे सपनों को उजड़ते हुए भी देखा है। यह इस देश के मजबूत लोकतंत्र का कमाल है कि अप्रत्याशित,अनायास और अचानक बिना तैयारी कि देश के लोगों को रात के 8 बजे जहां है वही बने रहने कि अविश्व्श्नीय घोषणा को करोड़ों भारतीयों ने न केवल स्वीकार किया बल्कि उससे उत्पन्न अनगिनत कठिनाइयो से जूझने का जज्बा भी दिखाया। जिसमें दिल्ली,गुजरात, महाराष्ट्र,हरियाणा जैसे राज्यों से आने वाले हजारों मजदूर थे जो बेबसी और लाचारी से जूझते भूखे प्यासे ज़िंदा रहकर और सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलकर अपने घर पहुंचे। संकट और समस्याओं के बीच पीएम ने देशवासियों से अपील की कि वो कल रात यानी 5  अप्रैल को रात 9 बजे अपने-अपने घर बालकनियों में या छत पर जाकर मोमबत्ती जलाएं। पीएम ने कहा, जरूरी नहीं कि आप मोमबत्ती ही जलाएं आप चाहें तो घर पर रखी टॉर्च,मोबाइल की टॉर्च या फिर दिया भी  जला सकते हैं। इस समय यह विचार करना लाजिमी है कि देश में रोशनी लाने और फैलाने के लिए अभी महज दीप जैसे प्रतीक  की जरूरत है या इस कठिन दौर में सवा अरब की आबादी वाले इस महान देश का आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए और बेहतर प्रयास किए जा सकते है।


लॉकडाउन से लाखों दिहाड़ी मजदूर और गरीबों के चूल्हे नहीं जल रहे है,वो कैसे ज़िंदगी जिये और सरकार उन्हें फौरी राहत क्या देने जा रही है, पीएम के संदेश में ऐसी किसी घोषणा कि उम्मीद थी लेकिन गरीबों को निराशा हाथ लगी। गरीबों के घरों में गैस टंकी मुफ्त में पहुंचाने की घोषणा से करोड़ों लोगों को बड़ी राहत मिल सकती है। किसान असमंजस में है और रबी की फसलें उनकी नष्ट हो चुकी है,किसानों के लिए बड़े राहत के पैकेज की दरकार थी,उसके बारे में भी बात की जा सकती थी। पीएम ने इस बारे में कोई बात न करके देश के करोड़ों किसानों कि हताशा को बढ़ा दिया। कोरोना के बढ्ने को लेकर पूरा देश आशंकित है और वेंटिलेटर की कमी,बचाव किट को लेकर लोगों में भारी चिंता है,इसका क्या समाधान है और क्या इससे निपटने के माकूल इंतजामात किए गए है,इस पर भी देश को विश्वास में लेने की कोशिश तो की ही जानी चाहिए थी। लेकिन देशवासियों कि अपेक्षा के विपरीत पीएम का भाषण यथार्थ और हकीकत से बहुत दूर था,इससे लोगों कि आशाएँ और उम्मीदें बूरी तरह टूट गई।    


भारत एक संघात्मक लोकतांत्रिक गणराज्य है,लेकिन पिछलें दिनों से जो घटनाक्रम दिखाई दे रहा है वह तानाशाही रवैये को प्रतिबिम्बित करता है।  विभिन्नताओं वाले इस विशाल देश के राज्यों के मुख्यमंत्रियों को बिना सूचना दिये और उन्हे बिना विश्वास में लिए लॉकडाउन करने से समूचे देश की व्यवस्थाएं बुरी तरह चरमरा गई,लोगों के भूखों मरने की नौबत आ गई।  कानून व्यवस्था की स्थितियाँ बिगड़ी और इसका खामियाजा आम जनता और प्रशासन को भुगतना पड़ा। मध्यप्रदेश को ही देखिये,संकट के समय मुख्यमंत्री बिना केबिनेट के पूरे प्रदेश का संचालन कर रहे है। किसी लोकतांत्रिक राज्य में यह स्थिति स्वीकार्य नही हो सकती की लोकतांत्रिक ढंग से चुनी हुई सरकार को गिराकर संकट के समय बिना केबिनेट के कोई मुख्यमंत्री कार्य करें और निर्णय ले,यह तानाशाही का स्वरूप है और इसके नतीजे प्रदेश की जनता भोग रही है। स्वास्थ्य मंत्री के न होने से स्वास्थ्य व्यवस्थाएं चरमरा गई है और इंदौर जैसे बड़े औद्योगिक शहर पर संकट गहरा गया है। गृहमंत्री के न होने से प्रशासन से जुड़े लोगों पर हमलें किए जा रहे है।


जाहिर है देश की जनता कठिनाई में है और उनके जीवन को बचाएं रखने के लिए प्राथमिक जरूरतों की भरपाई होनी चाहिए। प्रधानमंत्री जी,सवा अरब लोगों की भावनाओं को समझिए,देश तो आपके साथ खड़ा है लेकिन अफसोस आप आम जनता जनार्दन की जरूरतों को अब तक नहीं समझ पा रहे है। हम सब घरों के बाहर निकलकर रोशनी तो जलाएंगे लेकिन यह भी चिंता कर लीजिये की दीपक जलाने के लिए गरीबों के घर में तेल है भी या नहीं।       


 


कुणाल चौधरी   


विधायक, कालापीपल, मध्यप्रदेश 


Comments

Popular posts from this blog

बुजुर्गों की सेवा कर सविता ने मनाया अपना जन्मदिन

भोपाल। प्रदेश की जानीमानी समाजसेवी सविता मालवीय का जन्मदिन अर्पिता सामाजिक संस्था द्वारा संचालित राजधानी के कोलार स्थिति सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पर वहां रहने वाले वृद्धजनों की सेवा सत्कार कर मनाया गया। यहां रहने वाले सभी बुजुर्गों की खुशी इस अवसर पर देखते बन रही थी। सविता मालवीय के सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पहुंचे उनके परिजनों और  सखियों ने सभी बुजुर्गों को खाना सेवाभाव से खिलाया और अंत में केक खिलाकर जन्मदिन के आयोजन को आनंदमय कर दिया। इस जन्मदिन कार्यक्रम को संपन्न कराने में सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया का महत्वपूर्ण सहयोग रहा। इस जन्मदिन अवसर को महत्वपूर्ण बनाने के लिए सविता मालवीय के परिजन विवेक शर्मा, सुनीता, सीमा और उनके जेठ ओमप्रकाश मालवीय सहित सखियां रोहिणी शर्मा, स्मिता परतें, अर्चना दफाड़े, हेमलता कोठारी, मीता बनर्जी आदि की उपस्थिति प्रभावी रही। सभी ने सविता को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की तो वहां रहने वाले बुजुर्गों ने ढेर सारा आशीर्वाद दिया। सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया ने जन्मदिन आश्रम आकर मनाने के लिए सविता माल

पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन द्वारा कॉपी किताब का वितरण

झुग्गी बस्ती के बच्चों को सिखाया सफाई का महत्व, औषधीय पौधों का वितरण किया गया भोपाल। पद्मावती संभाग की पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन महिला मंडल द्वारा प्राइम वे स्कूल सेठी नगर के पास स्थित झुग्गी बस्ती के गरीब बच्चों को वर्ष 2022 -23  हेतु कॉपियों तथा पुस्तकों का विमोचन एवं  वितरण किया गया। हेमलता जैन रचना ने बताया कि उक्त अवसर पर संभाग अध्यक्ष श्रीमती कुमुदनी जी बरया  मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। आपने पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा द्वारा की जाने वाली सेवा गतिवधियों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। मुख्य अतिथि का हल्दी, कुमकुम और पुष्पगुच्छ से स्वागत के पश्चात् अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में शाखा अध्यक्ष कल्पना जैन ने कहा कि उनकी शाखा द्वारा समय-समय पर समाज हित हेतु, हर तबके के लिए सेवा कार्य किये जाते रहे हैं जिसमें झुग्गी बस्ती के बच्चों को साफ़-सफाई का महत्व समझाना, गरीब बच्चों को कॉपी किताब का वितरण करना, आर्थिक रूप से असक्षम बच्चों की फीस जमा करना, वृक्षारोपण अभियान के तहत औषधीय तथा फलदार पौधों का वितरण आदि किया जाता रहा है। इस अवसर पर अध्यक्ष कल्पना जैन, चेयर पर्सन सुषमा जैन, उपाध्यक्ष

गो ग्रीन थीम में किया गर्मी का सिलिब्रेशन

एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने जमकर की धमाल-मस्ती भोपाल। राजधानी की एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने गो ग्रीन थीम में गर्मी के आगाज को सिलिब्रेट किया। ग्रुप की कहकशा सक्सेना ने बताया कि सभी जानते हैं कि अब गर्मी के मौसम का आगमन हो चुका है इसलिए पार्टी की होस्ट पिंकी माथे ने हरियाली को मद्देनजर रख कर ग्रीन थीम रखी। जबकि साड़ी की ग्रीन शेड्स को कहकशा सक्सेना ने इन्वाइट किया। इस पार्टी में सभी एंजेल्स स्नेहलता, कहकशा सक्सेना, आराधना, गीता गोगड़े, इंदू मिश्रा, पिंकी माथे, शीतल और वैशाली तेलकर ने अपना पूरा सहयोग दिया। सभी ने मिलकर गर्मी का स्वागत लाइट फ़ूड, बटर मिल्क, लस्सी और फ्रूट्स से पार्टी को जानदार बना दिया।