जान जोखिम में डाल जनसेवा में जुटी आशा ऊषा कार्यकर्ता


हाथ से मास्क बनाकर सैनेटाइजर सहित लोगों को कर रहीं जागरुक
भोपाल। मध्यप्रदेश आशा कार्यकर्ता व सहयोगी कार्यकर्ता संगठन द्वारा पूरे प्रदेश के 51 जिले में संगठन की जिला अध्यक्ष और ब्लॉक अध्यक्ष सहित 75000 कार्यकर्ता घर-घर सर्वे कार्य कर रही हैं और बाहर से आए हुए व्यक्तियों का सर्वे करके लिस्ट जिला चिकित्सालय में दे रही हैं। मध्यप्रदेश आशा ऊषा कार्यकर्ता संगठन की प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती विभा श्रीवास्तव ने बताया कि ऐसी महामारी की घड़ी में लॉकडाउन में जब लोग घर से नहीं निकल रहे, पैसे वाले लोग पैसा देकर दूर से ही दान कर देते हैं, नेता लोग फेसबुक और व्हाट्सएप पर ही आदेश दे देते हैं, ऐसी परिस्थिति में एक गरीब सोशल वर्कर के रुप में जिसे समय पर मानदेय भी नहीं मिलता समाजसेविका के रुप में जान जोखिम में डालकर इस कार्य में जुटी हैं। सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर इस महामारी में पूरा सपोर्ट कर रही हैं। 
हाथ से मास्क बनाकर कर रहीं वितरित: 
आशा ऊषा कार्यकर्ता इसके साथ ही अपने हाथ से मास्क बनाकर सैनेटाइजर से लोगों को जागरुक कर रहीं साथ ही जो व्यक्ति भूखा है उस तक राशन पहुंचा रही हैं। लोगों को स्वच्छता का पूरा संदेश दे रही है साथ में दवाइयां भी वितरित कर रही हैं। घर-घर जाकर पैरासिटामॉल की गोलियां भी दे रही हैं और साथ में परिवार नियोजन के साधन भी उपलब्ध करा रही हैं और साफ-सफाई के लिये बाहर धुलाई का पूरा संदेश दे रही हैं। जिन जिलों में हाथों से मास्क बनाकर संगठन के जिला अध्यक्षों द्वारा बांटे जा रहे हैं उनमें भोपाल से कविता सैनी, रतलाम मंजू जाट, मंडला राधा शर्मा, विदिशा सोमनाथ शर्मा, खंडवा पुष्पा निमोली, छिंदवाड़ा नरवदा ठाकरे, बड़वानी लबकुशी राठौर, खरगोन रेखा रंजोरे, इंदौर ज्योति ममता एवं सीधी, रीवा उवं सतना  जिले में भी दिए जा रहे हैं। 
इनका कहना है:-
वह आषा कार्यकर्ता ही है जो हर क्षेत्र में अपनी जान पर खेलकर लोगों की जान बचा रही है। दिखावा न करके आज आशा कार्यकर्ता पूरे लगन से कार्य कर रहीं हैं। 



श्रीमती विभा श्रीवास्तव
प्रदेश अध्यक्ष


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन