पुलिस ने अगर मारपीट की तो एसपी होंगे जिम्मेदार


पुलिस मुख्यालय ने सभी एडीजी, आईजी, डीआईजी और सभी जिलों के एसपी को लिखा पत्र


भोपाल । राजधानी में एम्स के जूनियर डॉक्टरों के साथ मारपीट और मंडला में बैंक मैनेजर के साथ दुव्र्यवहार के बाद पुलिस मुख्यालय सख्त हो गया है। उसने इन घटनाओं पर गहरी नाराजगी जताते हुए साफ कर दिया है कि अब कहीं भी जनता या आवश्यक सेवा में लगे कर्मचारियों के साथ पुलिस ने दुव्र्यवहार किया तो उस जिले के एसपी को जिम्मेदार माना जाएगा।
पुलिस मुख्यालय ने सभी एडीजी, आईजी, डीआईजी और सभी जिलों के एसपी को पत्र लिखा है। इस पत्र में दोनों जिलों में हुई घटना के लिए पुलिस अधिकारियों को जिम्मेदार बताया गया है। मुख्यालय ने कहा कि इन दोनों जिलों के पुलिस अधिकारियों ने जनता से व्यवहार को लेकर मैदानी अमले को ब्रीफिंग नहीं की, यह आपत्तिजनक है। पुलिस मुख्यालय ने जारी अपने आदेश में कहा कि अगर जनता समेत अन्य अधिकारियों से दुव्र्यवहार किया गया तो इसके लिए व्यक्तिगत जिम्मेदारी उस जिले के एसपी की होगी। मैदानी अमले को एसपी जनता से व्यवहार के संबंध में ब्रीफिंग करें।साथ ही पुलिस द्वारा किए जा रहे दुव्र्यवहार की घटना को तत्काल प्रभाव से रोका जाए। यह जिम्मेदारी व्यक्तिगत रूप से पुलिस अधीक्षकों की होगी।
दो जिलों के अफसरों की लापरवाही
पुलिस मुख्यालय ने अपने पत्र में भोपाल में ड्यूटी कर घर लौट रहे एम्स के डॉक्टरों के साथ पुलिस द्वारा की गई मारपीट और मंडला में बैंक मैनेजर के साथ दुव्र्यवहार की घटना का जिक्र किया गया है। इन घटनाओं में दोनों जिलों में पुलिस अधिकारियों की लापरवाही को जिम्मेदार ठहराया गया है।कहा गया है कि पुलिस अधिकारियों ने पुलिस बल को पर्याप्त रूप से ब्रीफिंग नहीं की। यह आपत्तिजनक है।


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन