प्रतिभा श्रीवास्तव की कविता-माँ

माँ


क्या हुआ....
जो माँ के साथ,
एक भी तस्वीर नही....
पर हाँ!
यादें बहुत हैं.....
कहोगे तो,
यादों की पोटली से...
कुछ जीवित,
तस्वीर निकाल लाऊंगी...
कभी चोटी बनाती...
कभी रोटी बनाती....
कभी डांटती हुई...
मुझे पकड़ती.....
बहुत स्मृतियां है,
जो रह-रहकर,
द्रविड़ कर रही....
क्या फर्क पड़ता हैं....
तस्वीर हो ना हो....
माँ तो है ना!!!!



प्ररतिभा श्रीवास्तव "अंश"


 


 


Comments

Popular posts from this blog

बुजुर्गों की सेवा कर सविता ने मनाया अपना जन्मदिन

पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन द्वारा कॉपी किताब का वितरण

गो ग्रीन थीम में किया गर्मी का सिलिब्रेशन