प्रतिभा श्रीवास्तव की कविता-माँ

माँ


क्या हुआ....
जो माँ के साथ,
एक भी तस्वीर नही....
पर हाँ!
यादें बहुत हैं.....
कहोगे तो,
यादों की पोटली से...
कुछ जीवित,
तस्वीर निकाल लाऊंगी...
कभी चोटी बनाती...
कभी रोटी बनाती....
कभी डांटती हुई...
मुझे पकड़ती.....
बहुत स्मृतियां है,
जो रह-रहकर,
द्रविड़ कर रही....
क्या फर्क पड़ता हैं....
तस्वीर हो ना हो....
माँ तो है ना!!!!



प्ररतिभा श्रीवास्तव "अंश"


 


 


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन