बाबा साहब के विचार को जन-जन तक पहुंचाए

 


भोपाल। आजक्‍स मंत्रालयीन शाखा वल्‍लभ भवन भोपाल के अध्‍यक्ष  घनश्‍यामदास भकोरिया ने बतया कि मंत्रालयीन सेवा/सचिवालयीन सेवा के वर्ष 2020 में सेवानिवृत्‍त हुए शासकीय सेवकों का विदाई समारोह का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मंत्रालयीन सेवा के सेवानिवृत्‍त 88 शासकीय सेवक उपस्थित हुए, जिसमें उप सचिव, अवर सचिव, अनुभाग अधिकारी, सहायक अनुभाग अधिकारी, सहायक ग्रेड-2, सहायक ग्रेड-3 एवं चतुर्थ श्रेणी शासकीय सेवक उपस्थित हुए।स्‍वागत की शुरूआत चतुर्थ श्रेणी शासकीय सेवकों से की गई और बढ़ते क्रम में शासकीय सेवकों को स्‍वागत हेतु बुलाया गया। मप्र अजाक्‍स के प्रांतीय अध्‍यक्ष जेएन कांसोटिया ने कहा कि कार्यक्रम में सभी वर्ग के शासकीय सेवक उपस्थित हुए, यह एक सद्भावना भाईचारा और अपने वरिष्ठों के प्रति सम्मान का प्रतीक है और यह भावना मंत्रालय के हर शासकीय सेवक में रहे मैं यह कामना करता हूं। मंत्रालय सेवा से सेवानिवृत्त हुए सभी शासकीय सेवाओं को सफलतापूर्वक सेवा अवधि  पूर्ण होने की बधाई देता हूं  साथ ही आपके सुखद समृद्ध सुखी और स्वस्थ जीवन की कामना करता हूं और आशा करता हूं कि सेवानिवृत्ति के उपरांत आप समाज सेवा के कार्यों में शेष अपना जीवन लगाएं ताकि हमारी आगामी पीढ़ी को आपके अनुभवों का लाभ मिल सके। एसएल सूयवंशी, महासचिव, अनुसूचित जाति, जनजाति के अधिकारी/कर्मचारियों के अधिकारो की रक्षा के साथ-साथ अपने सामाजिक दायित्वों का भी पूरी जिम्मेदारी के साथ निर्वहन करना है और डॉक्टर बाबा  साहब के विचार को जन-जन तक पहुंचाना है । समता, समानता, बंधुता की भावना प्रदेश के हर नागरिक में लाने का प्रयास ही हमारा उद्देश होना चाहिए l इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए अजाक्स द्वारा अजाक्स चला गांव की ओर,  करियर काउंसलिंग आदि कार्यक्रम चलाये जा रहें है l साथ ही प्रदेश या देश में कहीं भी कोई अन्याय होता है तो अजाक्स आवाज उठाता है। मानव जीवन में रहते हुए सामाजिक दायित्व का निभाना हर व्यक्ति की जिम्मेदारी है और इसी उद्देश्य की पूर्ति की कड़ी में मंत्रालय अजाक्स शाखा द्वारा अपने वरिष्ठ शासकीय सेवक जो  वर्ष 2020 में मंत्रालय सेवा से  सेवानिवृत्त हुए हैं उन सभी का विदाई समारोह का आयोजन  रखा गया है l  साथ ही उन्‍होंने कहा की शासन में नवीन पदोन्‍नति नियम 2017 से लंबित है सरकार शीघ्र जारी करें, जिससे पदोन्‍नति के सेवानिवृत्‍त हो रहे सभी वर्गो के शासकीय सेवकों को पदोन्‍नति का लाभ मिल सके।

मंत्रालय इकाई के अध्‍यक्ष घनश्‍यामदास भकोरिया ने कहा कि मंत्रालय सेवा में आप एक परिवार के रूप में रहे हैं और लगभग 30-40 वर्षो की सेवा में कई अनुभव प्राप्‍त किये होंगे साथ ही अपने कनिष्‍ठ शासकीय सेवकों को मागदर्शन भी दिया होगा। और उनके दुख-सुख में सहयोग भी किया होगा । वरिष्‍ठ शासकीय सेवक अपने कनिष्‍ठ शासकीय सेवक के लिए गुरू के समान होता है। उनके प्रति संवेदना व भावना सम्‍मान उसके मन में होता है। जब वरिष्‍ठ शासकीय सेवक सेवानिवृत्‍त होता है तो वह आपके साथ शासकीय सेवा में बिताय हुए पलों, मार्गदर्शन, संरक्षण को याद करता है। उस क्षण व पल को स्‍मृति के रूप में याद रखने के लिए इस प्रकार के आयोजन अति आवश्‍यक होते हैं। आपने शासन में जो में योगदान दिया है वह निर्देश/नियम और फाईलों में टीपों के रूप में शासन प्रशासन को सदा सहयोग प्रदान करेगा। इस अवसर पर सुधीर नायक, सुभाष वर्मा, सुनील मडवी, एस.सी. ओसले, हरिमोहन अहिरवार, हेमंत सिंह रावत, कुसुमलता धुर्वे, सुमन, हरिशंकर अहिरवार, कपित मेहता आनंद प्रकाश सोनेल, नरेश धौलपुरिया, बी.एल. अहिरवार, प्रीतिबाला, सुषमा, सीमा, अर्जुन, कमलेश, नरेश कोली, बलवंत बारिया, राहुल भिलाला, दीपक पंवार, गणेश पवार, अभिषेक मालवीय, उपेन्द्र ककोटिया आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।  


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन