बीएससी नर्सिंग चतुर्थ वर्ष के छात्रों का चतुर्थ वर्ष का परिणाम जल्द घोषित होगा



कांग्रेस महासचिव पवन पटेल के दखल पर मप्र आयुर्विज्ञान संस्थान के कुलपति ने दिया आश्वासन

भोपाल। मप्र आयुर्विज्ञान संस्थान के बीएससी नर्सिंग चतुर्थ वर्ष के छात्रों की तृतीय वर्ष के एटीकेटी आई थी जिसका विश्विद्यालय ने दुबारा एग्जाम सप्लीमेंट्री नही कराकर मेन एग्जाम तृतीय वर्ष (जूनियर्स) के साथ बैठाकर लिया साथ ही यूनिवर्सिटी के निर्देशानुसार चतुर्थ वर्ष की परीक्षा में सम्मिलित होने की सहमति दी। यूनिवर्सिटी ने यह निर्देश जारी किया था कि जिन विद्यार्थियों का परीक्षा परिणाम विभिन्न कारणों से रुका हुआ है, वह विद्यार्थी पिछले सत्र के परीक्षा के साथ अगले सत्र की परीक्षा में भी सम्मलित हो सकता है। शर्त यह है कि विद्यार्थी को पिछले सत्र की परीक्षा परिणाम उत्तीर्ण करना होगा अन्यथा अगले सत्र का परीक्षा परिणाम निरस्त कर दिया जाएगा। सभी बच्चों ने आशय-पत्र भरकर तृतीय वर्ष एवं चतुर्थ वर्ष की परीक्षा में सम्मिलित हो गए और जब तृतीय वर्ष का परीक्षा परिणाम उत्तीर्ण रहा तो सभी विद्यार्थियों ने चतुर्थ वर्ष के परीक्षा परिणाम की मांग की तो छात्रों को झूठा आश्वासन देते रहे और जब छात्र विश्वविद्यालय पहुचकर मांग की तो बोल दिया गया कि परीक्षा निरस्त कर दी गई है, दुबारा एग्जाम देनी होगा । जब यूनिवर्सिटी में किसी ने छात्रों की बात नही सुनी तो सभी छात्र एमपीएनआरसी भोपाल आये और वहाँ पर बात की तो बताया गया कि आईएनसी का ये कही नियम नही है कि बच्चों ने एग्जाम दी है तो उनकी एग्जाम निरस्त नही की जा सकती परिणाम घोषित करना पड़ेगा।

पहले भी दिया था आश्वासन :

छात्रों की परेशानी को देखते हुए पवन कुमार पटेल महासचिव मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी की पहल पर राजमणि पटेल सांसद राज्यसभा के द्वारा भी मुख्यमंत्री को पत्र लिख कर छात्रों की मदद करने का निवेदन किया जा चुका है । इसके अलावा 17 फ़रवरी को  छात्रों से बात की और उसके बाद कुलपति टीएन दुबे से बात की तो उनके द्वारा परीक्षा की तारिख को आगे बढ़ाने की बात कही और जल्द ही परीक्षा परिणाम घोषित करने का आश्वासन दिया। पहले भी कई बार आश्वासन दिया लेकिन आज दिनांक तक परिणाम घोषित नहीं किया I

19 फ़रवरी को दोपहर 3:30 बजे पवन कुमार पटेल महासचिव कांग्रेस कमेटी के नेतृत्व में प्रदेश भर के छात्र ऑनलाइन जूम मीटिंग के माध्यम से अपनी परेशानी को सबके सामने रखा। मीटिंग में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह, विश्वविद्यलय के कुलपति टएन दुबे, परीक्षा नियंत्रक स्वयं अथवा अपने किसी प्रतिनिधि को ऑनलाइन मीटिंग में छात्रों की परेशानी को सुनने के लिए आमंत्रित किया गया था लेकिन कोई मीटिंग में नहीं आया।   मीटिंग के दौरान पवन कुमार पटेल के द्वारा फ़ोन लगा कर कुलपति श्री दुबे से बात की तो आश्वासन दिया की परीक्षा तिथि आगे बढ़ाई जाएगी और रुके हुए चतुर्थ वर्ष के परीक्षा परिणाम अति शीघ्र प्रकाशित किये जाएँगे। हलाकि छात्रो में अभी भी रोष बना हुआ है। दो-तीन दिनों में छात्रों के परीक्षा परिणाम घोषित नहीं किये गए तो राज्यपाल से समय ले कर छात्रों को न्याय दिलाने के लिए प्रयास किया जायेगा। पवन कुमार पटेल लगातार छात्रों के संपर्क में हैं। 

 

 


Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन