रश्मि दुबे "आभा" की कविता जिंदगी

 जिंदगी

जिंदगी में अपनी मैंने तो तेरी जरूरत देखी,

पर तेरी आंखों में अपने लिए मोहब्बत ना देखी,

जितनी बार खुद को भी ना देखा होगा,

उतनी बार तूने मेरी कमियां ही देखीं,

सच है जिंदगी को चुनौतियां ही रोमांचक बनाती हैं,

साथ ही हर बार एक नया सबक भी दे जाती हैं,

क्योंकि यह तो मुमकिन नहीं कि हर वक्त मेहरबां रही जिंदगी,

फिर भी जाने क्यों जीने का, तजुर्बा सिखा जाती है जिंदगी,

जिसने जो चाहा लिखा जिंदगी पर,

पर जिंदगी को कोई,

पढ़ नहीं पाया अब तक,,,,



रचनाकार :- रश्मि दुबे "आभा" 

                   भोपाल

Comments

Popular posts from this blog

मंत्री भदौरिया पर भारी अपेक्स बैंक का प्रभारी अधिकारी

"गंगाराम" की जान के दुश्मन बने "रायसेन कलेक्टर"

भोपाल, उज्जैन और इंदौर में फिर बढ़ाया लॉकडाउन