Skip to main content

और फिर मासूमों की मौत का कारण हमारी चंद घंटों की खुशी....



अतुल मलिकराम 

पटाखों की गगनभेदी आवाज़, और हजारों की तादाद में जान बचाकर एक साथ उड़ते पक्षी.... चकाचौंध भरी रोशनी, कानों को परेशान कर देने वाली आवाज़ें और आतिशबाजी.... ये कुछ ऐसी चीजें हैं, जिन्हें हम बहुत ही . मजेदार मानते हैं, लेकिन मूक जानवरों, पक्षियों और बुजुर्गों के लिए ये किसी बुरे सपने से कम नहीं हैं। पटाखे जलाने को ही खुशी मनाने का जरिया मान बैठे हम, हमारे अवाक पालतू जानवर और अन्य पशु-पक्षियों की पीड़ा की अनदेखी कुछ यूँ करते हैं, जैसे कि हमें इसका अंदाज़ा तक न हो। क्या पटाखे जलाना ही खुशी मनाने का माध्यम मात्र है?? दूसरे पहलु को देखें, तो महीनों की खून-पसीना एक कर कमाई गई मोटी रकम जलाकर कोई कैसे खुश हो सकता है??

सनातन धर्म के सबसे बड़े पर्वों में से एक, दिवाली प्रभु श्री राम के चौदह वर्ष का वनवास काटने के बाद अयोध्या वापसी की खुशी में सदियों से मनाई जा रही है और अनंत काल तक मनाई जाती रहेगी। प्रभु के घर लौटने की खुशी में शहर वासियों द्वारा लाखों दीप प्रज्वलित कर रोशन किया गया आयोध्या नगरी का यह उजियारा कब तलक पटाखों की चकाचौंध और शोरगुल रुपी अंधियारे में तब्दील हो गया, इसका जवाब इंसान तो कतई नहीं दे सकता है। इसका जवाब देते हैं वे बेज़ुबान, जो इन पटाखों की आवाज़ से इधर-उधर जा छिपने और अपनी जान बचाने को दिख पड़ते हैं, और यहाँ तक कि कई बार अपनी जान तक गवाँ बैठते हैं। 

किस ग्रंथ में लिखा है कि भगवान महज़ इंसानों के हैं?? क्या अन्य प्राणियों का भगवान से कोई संबंध नहीं है?? यदि नहीं, तो गिलहरी, गाय, सर्प, कुत्ते, शेर, मोर, गरुड़, हाथी, बन्दर, मूषक जैसे सैकड़ों प्राणियों के सूत्र पौराणिक कथाओं में क्यों मिलते हैं? इससे तो यही सिद्ध हुआ न कि भगवान हर एक प्राणी के हैं, लेकिन इंसान यह बात कहाँ मानता है?? माँ बनने वाली हथिनी, उसकी कोख में पल रही नन्हीं-सी जान और मासूम गाय के जीवन का अंत करने वाला इंसान ही तो है। ये मुद्दे प्रमुखता से उछाले गए तो इसकी बात की जा रही है, लेकिन जो मुद्दे रोशनी में आते ही नहीं, उनका क्या? कुछ लोग पटाखों का उपयोग आवारा कुत्तों और अन्य जानवरों से मज़ाक करने के लिए करते हैं और व्यावहारिक रूप से उन्हें मौत के घाट उतार देते हैं। 

भगवान राम ने कभी-भी अन्य प्राणियों को कष्ट पहुँचाकर उनकी वापसी का जश्न मनाने के लिए नहीं कहा। एक बार गौर जरूर करें कि क्या उन्होंने ऐसा कहा है? वे हमारे आराध्य हैं, और हमेशा रहेंगे। मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम ने कभी किसी को दुःख पहुँचाने की मंशा नहीं रखी, फिर हम क्यों अपने ही आराध्य के नाम की आड़ में किसी को तकलीफ देने और यहाँ तक कि पशु-पक्षियों और हजारों की तादाद में सूक्ष्मजीवों की जान लेने का पाप अपने सिर मोल ले रहे हैं? हम इस शुभ अवसर को हर वर्ष जानवरों, पक्षियों और बुजुर्गों के लिए एक दर्दनाक अवधि बना देते हैं। पंखों वाली प्रजातियाँ तेज रोशनी के अचानक फटने से गंभीर रूप से प्रभावित होती हैं। हर वर्ष, आसमान में जाकर चमकने वाले पटाखे कई पक्षियों को मारने के हथियार बन जाते हैं, जबकि कई बार उनके पंख या शरीर के अन्य भाग जल जाते हैं। 

कैसी विडंबना है कि हम किसी ऐसी चीज का समर्थन करके बुराई की हार का जश्न मनाते हैं, जो अन्य प्राणियों के लिए तकलीफ तथा मौत का कारण है। प्रभु श्री राम अपनी सम्पूर्ण प्रजा के रक्षक हैं, चाहे वे पशु हों, पक्षी हों या लोग हों। उन्होंने सदैव सभी के साथ न्याय किया। क्या हमें उनके उदाहरण का अनुसरण नहीं करना चाहिए और कम से कम अपने सभी साथियों के प्रति विचारशील नहीं होना चाहिए? हमें इन बेज़ुबानों की आन बरकरार रखने के लिए व्यक्तिगत स्तर पर कदम उठाने की जरुरत है। दीवाली को हम बिना किसी प्रजाति को नुकसान पहुँचाए और भी कई तरीकों से मना सकते हैं। इस दीपावली, आइए पटाखों के बजाए दीप जलाने की सदियों पुरानी प्रथा को ही जीवंत रखते हैं, दीपों के पर्व को जीवंत रखते हैं, और अन्य प्राणियों को भी 'राम राज्य' देते हैं....

<iframe src="https://embed.kooapp.com/embedKoo?kooId=7a20f551-e901-42f7-af66-f3613c5d5913" class="kooFrame"></iframe><script src="https://embed.kooapp.com/iframe2.js"></script>

Comments

Popular posts from this blog

बुजुर्गों की सेवा कर सविता ने मनाया अपना जन्मदिन

भोपाल। प्रदेश की जानीमानी समाजसेवी सविता मालवीय का जन्मदिन अर्पिता सामाजिक संस्था द्वारा संचालित राजधानी के कोलार स्थिति सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पर वहां रहने वाले वृद्धजनों की सेवा सत्कार कर मनाया गया। यहां रहने वाले सभी बुजुर्गों की खुशी इस अवसर पर देखते बन रही थी। सविता मालवीय के सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम पहुंचे उनके परिजनों और  सखियों ने सभी बुजुर्गों को खाना सेवाभाव से खिलाया और अंत में केक खिलाकर जन्मदिन के आयोजन को आनंदमय कर दिया। इस जन्मदिन कार्यक्रम को संपन्न कराने में सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया का महत्वपूर्ण सहयोग रहा। इस जन्मदिन अवसर को महत्वपूर्ण बनाने के लिए सविता मालवीय के परिजन विवेक शर्मा, सुनीता, सीमा और उनके जेठ ओमप्रकाश मालवीय सहित सखियां रोहिणी शर्मा, स्मिता परतें, अर्चना दफाड़े, हेमलता कोठारी, मीता बनर्जी आदि की उपस्थिति प्रभावी रही। सभी ने सविता को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की तो वहां रहने वाले बुजुर्गों ने ढेर सारा आशीर्वाद दिया। सारथी वृद्धजन सेवा आश्रम की संचालिका साधना भदौरिया ने जन्मदिन आश्रम आकर मनाने के लिए सविता माल

पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन द्वारा कॉपी किताब का वितरण

झुग्गी बस्ती के बच्चों को सिखाया सफाई का महत्व, औषधीय पौधों का वितरण किया गया भोपाल। पद्मावती संभाग की पार्श्वनाथ शाखा अशोका गार्डन महिला मंडल द्वारा प्राइम वे स्कूल सेठी नगर के पास स्थित झुग्गी बस्ती के गरीब बच्चों को वर्ष 2022 -23  हेतु कॉपियों तथा पुस्तकों का विमोचन एवं  वितरण किया गया। हेमलता जैन रचना ने बताया कि उक्त अवसर पर संभाग अध्यक्ष श्रीमती कुमुदनी जी बरया  मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थीं। आपने पद्मावती संभाग पार्श्वनाथ शाखा द्वारा की जाने वाली सेवा गतिवधियों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। मुख्य अतिथि का हल्दी, कुमकुम और पुष्पगुच्छ से स्वागत के पश्चात् अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में शाखा अध्यक्ष कल्पना जैन ने कहा कि उनकी शाखा द्वारा समय-समय पर समाज हित हेतु, हर तबके के लिए सेवा कार्य किये जाते रहे हैं जिसमें झुग्गी बस्ती के बच्चों को साफ़-सफाई का महत्व समझाना, गरीब बच्चों को कॉपी किताब का वितरण करना, आर्थिक रूप से असक्षम बच्चों की फीस जमा करना, वृक्षारोपण अभियान के तहत औषधीय तथा फलदार पौधों का वितरण आदि किया जाता रहा है। इस अवसर पर अध्यक्ष कल्पना जैन, चेयर पर्सन सुषमा जैन, उपाध्यक्ष

गो ग्रीन थीम में किया गर्मी का सिलिब्रेशन

एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने जमकर की धमाल-मस्ती भोपाल। राजधानी की एंजेल्स ग्रुप की सदस्यों ने गो ग्रीन थीम में गर्मी के आगाज को सिलिब्रेट किया। ग्रुप की कहकशा सक्सेना ने बताया कि सभी जानते हैं कि अब गर्मी के मौसम का आगमन हो चुका है इसलिए पार्टी की होस्ट पिंकी माथे ने हरियाली को मद्देनजर रख कर ग्रीन थीम रखी। जबकि साड़ी की ग्रीन शेड्स को कहकशा सक्सेना ने इन्वाइट किया। इस पार्टी में सभी एंजेल्स स्नेहलता, कहकशा सक्सेना, आराधना, गीता गोगड़े, इंदू मिश्रा, पिंकी माथे, शीतल और वैशाली तेलकर ने अपना पूरा सहयोग दिया। सभी ने मिलकर गर्मी का स्वागत लाइट फ़ूड, बटर मिल्क, लस्सी और फ्रूट्स से पार्टी को जानदार बना दिया।