बुन्देलखण्ड की कला-संस्कृति का समागम है गढ़कोटा रहस लोकोत्सव : गोपाल भार्गव



2 मार्च को होगा रहस लोकोत्सव का शुभारंभ

भोपाल । लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा है कि गढ़कोटा रहस लोकोत्सव बुन्देलखण्ड कला-संस्कृति का समागम है। महाराजा मर्दन सिंह जू-देव के 218वें राज्यारोहण स्मृति में प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी 2 से 5 मार्च तक सागर जिले में गढ़कोटा तहसील मुख्यालय पर किया जाएगा।

मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि रहस लोकोत्सव सामाजिक समरसता, प्रेम, सौहार्द के साथ बुंदेली सांस्कृतिक विधाओं के संरक्षण और संवर्धन का उत्सव भी है । तीन दिवसीय लोकोत्सव का शुभारंभ 2 मार्च को दोपहर एक बजे से होगा। दूसरे दिन 3 मार्च को किसान सम्मेलन, 4 मार्च को जनजातीय गौरव सम्मेलन और 5 मार्च को लाड़ली बहना योजना का शुभारंभ होगा । लोकोत्सव में प्रतिदिन शाम को बुन्देलखण्डी लोक-कला पर केन्द्रित सांस्कृति कार्यक्रम होंगे। कार्यक्रम स्थल पर शासन की योजनाओं से संबंधित विकास प्रदर्शनी लगाई जाएगी। साथ ही जन-कल्याणकारी योजनाओं के लिए हितग्राहियों का चयन भी किया जाएगा ।


Comments

Popular posts from this blog

उपहार की गर्मजोशी से खिले गरीबों के चेहरे

चर्चा का विषय बना नड्डा के बेटे का रिसेप्शन किट

लंका पर भारत की विराट जीत, सेमीफाइनल में पहुंचा