आकाश में गुरुवार की रात होगी सबसे बड़ी खगोलीय आतिशबाजी



ठंड भरी रात में होगी उल्का वर्षा, मिथुन तारामंडल के सामने से दिखेंगे टूटते तारे 

भोपाल। खगोल विज्ञान में रुचि रखने वाले लोगों के लिए गुरुवार, 14 दिसंबर की रात्रि बेहद खास होने वाली है। इस दौरान लोग साल 2023 की सबसे बड़ी खगोलीय आतिशबाजी देखने को मिलेगी। इस दिन शाम 7 बजे के पहले ही दूज के पतले हंसियाकार चंद्रमा के अस्त होने के बाद अंधेरे पूर्वी आकाश में जेमिनीड उल्का बौछार के दिखने की शुरुआत होगी। 
भोपाल की राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने बुधवार को आकाश की इस प्राकृतिक आतिशबाजी की जानकारी देते हुए बताया कि यह वर्ष की सबसे शानदार उल्का वर्षा होगी, जिसमें प्रति घंटे लगभग 120 से 150 तक उल्काओं (टूटते तारों) को देखने की संभावना रहगी। यह उल्काएं 35 किलोमीटर प्रति सेकंड के वेग से नीचे आते दिखेंगी। सारिका ने बताया कि इसे देखने के लिये शहर की रोशनी या स्ट्रीट लाइट से काफी दूर के क्षेत्र में जाकर किसी छत या साफ मैदान पर लॉन कुर्सी या दरी पर लेट कर अथवा बैठकर पूर्वी आसमान से देखने की शुरूआत करें। अंधेरे मे लगभग 30 मिनिट के बाद आपकी आंखे अनुकूल हो जाएंगी और आपको कुछ अंतराल पर उल्काएं दिखाई देने लगेंगी। यह बौछार रातभर चलेगी, इसलिये धैर्य रखें। इसे देखने के लिये अलग से कोई यंत्र की आवश्यक नहीं होती है। उन्होंने बताया कि जेमिनीड उल्का बौछार का नाम जेमिनी तारामंडल से लिया गया है, क्योंकि उल्का बौछार की मिथुन तारामंडल के सामने से ही होती दिखती है। जेमिनीड उल्कापात उल्कापिंड 3200 फैथान के कारण होता है। जब पृथ्वी इसके द्वारा छोड़े गए धूल से होकर गुजरती है तो धूल एवं चट्टान हमारे वायुमंडल के उपरी भाग के सम्पर्क मे आकर जल जाती है जो हमें उल्का बौछार के रूप मे दिखाई देती है। तो हो जाइए आकाशीय आतिशबाजी को देर रात तक देखने के लिए तैयार, गर्म कपड़े और कम्बल को साथ रखना न भूलें, क्योंकि इस समय रात में कड़ाके की ठंड भी रहेगी।

Comments

Popular posts from this blog

उपहार की गर्मजोशी से खिले गरीबों के चेहरे

चर्चा का विषय बना नड्डा के बेटे का रिसेप्शन किट

लंका पर भारत की विराट जीत, सेमीफाइनल में पहुंचा